script'Security circle' of lakhs in cocoa production fields, grounded in a f | कोसा उत्पादन प्रक्षेत्रों में लाखों का 'सुरक्षा घेराÓ चंद माह में ही जमीदोंज | Patrika News

कोसा उत्पादन प्रक्षेत्रों में लाखों का 'सुरक्षा घेराÓ चंद माह में ही जमीदोंज

कोसा उत्पादन क्षेत्र में पौधों की सुरक्षा के नाम पर सुरक्षा घेरा (कांटा तार घेराव) निर्माण का काम आंख मूंदकर कराया जा रहा है और घटिया काम होने के बाद भी हैंडओवर लेकर ठेकेदारों को लाखों का भुगतान कर दिया जा रहा है। जबकि जो सुरक्षा घेरा का निर्माण कराया गया है वह चंद दिन भी नहीं टिक पा रहा।

जांजगीर चंपा

Published: July 27, 2022 09:29:56 pm

जांजगीर/सरखों. स्थिति यह है कि तीन से चार महीने में ही सुरक्षा घेरा के नाम पर लगाए गए लोहे-सीमेंट के एंगल जगह-जगह से उखड़ गए हैं और कांटा तार का अता-पता नहीं है। जिससे मवेशी खुलेआम अंदर घुस जा रहे हैं और पौधों को नुकसान पहुंचा रहे हैं। जिससे शासन का लाखों रुपए केवल बर्बाद नजर आ रहा है।
गौरतलब है कि कोसा उत्पादन के लिए रेशम विभाग के द्वारा जिले के विभिन्न स्थानों में पौधरोपण किया गया है और नए पौधे लगाकर कोसा प्रक्षेत्र में विस्तार किया जा रहा है। यहां सुरक्षा के नाम पर कांटा तार और खंभे लगाकर सुरक्षा घेरा बनाने लाखों रुपए का काम ठेका के माध्यम से कराया जा रहा है। रेशम विभाग के द्वारा निर्माण एजेंसी आरईएस विभाग को बनाया गया है और पूरा काम उन्हें सौंप दिया है। आरईएस के द्वारा ठेकेदारों के माध्यम से यह यह काम कराया जा रहा है जिसमें गुणवत्ता और मानक को पूरी तरह से दरकिनार नजर आ रहा है और ठेकेदारों के द्वारा जैसे पाया गया है वैसे काम कर दिया गया है। मानक का कहीं ध्यान नहीं रखा गया है। बताया जा रहा है कि न तो खंभों को पर्याप्त जमीन पर खुदाई कर गाड़ा गया है और न ही सीमेंट-गिट्टी पर्याप्त मात्रा में डाला गया है। केवल खानापूर्ति हुई है। जिसका नतीजा है कि निर्माण काम तीन से चार महीने भी नहीं टिक पा रहा। लगाए गए लोहे और सीमेंट के खंभे छूने से हिल रहे हैं।
सरखों में सुरक्षा घेरा की हुई दुर्गति
नवागढ़ ब्लॉक के ग्राम पंचायत सरखों के ठूंठी में करीब दो एकड़ का कोसा प्रक्षेत्र हैं। यहां पूरे एरिया को सुरक्षित करने सुरक्षा घेरा का निर्माण कराया गया है। जिसके तहत लोहे के एंगल और कांटा तार लगाया गया है। इस काम को हुए बमुश्किल तीन से चार माह ही पूरे हुए हैं लेकिन स्थिति यह है कि करीब सौ से ज्यादा खंभे गायब हैं। जगह-जगह खंभे उखड़कर जमीन पर गिर गए हैं। कांटा तार जमीन पर पड़े हुए हैं और मवेशी अंदर घुस रहे हैं। कई लोहे के एंगल को काट भी चोर ले गए हैं जिससे लगाए गए पौधों को मवेशी चट कर रहे हैं।
आरईएस विभाग करा रहा काम
बता दें, जिले के मालखरौदा, जैजैपुर, नवागढ़, बलौदा, पामगढ़, सक्ती समेत अन्य ब्लॉकों में भी इसी तरह का काम रेशम विभाग के द्वारा आरईएस के माध्यम से कराया जा रहा है। बताया जा रहा है कि सभी जगहों पर इसी तरह मानकों का ध्यान नहीं रखा गया है। आरईएस के अफसरों के मुताबिक पामगढ़, नवागढ़, बलौदा ब्लॉक में इस काम का ठेका रायपुर के नितेश अग्रवाल को मिला है जिसके द्वारा काम कराया जा रहा है। वहीं मालखरौदा, जैजैपुर ब्लॉक के क्षेत्र का काम किसी दूसरे ठेकेदार को मिला है। बताया जा रहा है कि एक प्रक्षेत्र के लिए छह से सात लाख रुपए का टेंडर हुआ है।
आरईएस ईई का तर्क....चोरी तो होगा ही
इधर इस मामले में आरईएस के कार्यपालन अभियंता के द्वारा बेतुका तर्क दिया जा रहा है कि अगर लोहे के एंगल को चोर काटकर ले जा रहे हैं तो हम क्या कर सकते हैं। हम थोड़े वहां जाकर चौकीदारी करेंगे। सुनसान एरिया है तो चोरी तो होगा ही। अब चोरी करके ले जा रहे हैं हम क्या करें। अधिकारी के इस तर्क से ऐसा लग रहा है कि जैसे यह काम पौधों को बचाने के लिए नहीं बल्कि चोरों को फायदा पहुंचाने के लिए किया गया है।
वर्जन
कोसा उत्पादन प्रक्षेत्र में सुरक्षा घेरा निर्माण का काम आरईएस विभाग कर रहा है। नंदौरकला व चौराबरपाली दो जगहों का ही हैंडओवर लिया गया है। बाकी जगहों के बारे में जानकारी नहीं है। निर्माण कार्य के देखरेख का काम आरईएस विभाग का है।
हेमलाल साहू, जिला रेशम अधिकारी
वर्जन
सभी जगहों पर तय मानकों के अनुसार ही काम कराया गया है। संबंधित क्षेत्र के एसडीओ व सब इंजीनियर के देखरेख में काम हुआ है। हैंडओवर रेशम विभाग को दे दिया गया है। इसके बाद जिम्मेदारी उनकी है। अगर एंगल चोरी हो रहे हैं या गिर रहे हैं हम क्या कर सकते हैं।
नरसिंह सिदार, कार्यपालन अभियंता आरईएस
कोसा उत्पादन प्रक्षेत्रों में लाखों का 'सुरक्षा घेराÓ चंद माह में ही जमीदोंज
कोसा उत्पादन प्रक्षेत्रों में लाखों का 'सुरक्षा घेराÓ चंद माह में ही जमीदोंज

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

'फ्री रेवड़ी ' कल्चर व स्कूल के मुद्दे पर संबित्र पात्रा ने AAP को घेरा, कहा- 701 स्कूलों में प्रिंसिपल नहीं, 745 स्कूलों में नहीं पढ़ाया जाता विज्ञानPM मोदी ने कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लेने वाले दल से मुलाकात की, कहा- विजेताओं से मिलकर हो रहा गर्वप्रियंका के बाद अब सोनिया गांधी भी दोबारा हुईं कोरोना पॉजिटिव, तेजस्वी यादव ने कल ही की थी मुलाकातजम्मू कश्मीर में टेरर लिंक मामले में बिट्टा कराटे की पत्नी समेत चार सरकारी कर्मचारी बर्खास्तFlag Code Of India: 'हर घर तिरंगा' अभियान शुरू, 15 अगस्त से पहले जानिए तिरंगा फहराने के नियम, अपमान पर होगी जेल3 PAK खिलाड़ी बन सकते हैं टीम इंडिया की गले की हड्डी, Asia Cup 2022 में रहना होगा अलर्टशहर को गाजर घास मुक्त करने निगम ने चलाया विशेष अभियान, कुछ ऐसे चलेगा Operation 7 खिलाड़ी जो भारत पाकिस्तान 2021 T20 वर्ल्डकप मैच का थे हिस्सा, लेकिन एशिया कप 2022 मैच में नहीं मिली जगह
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.