scriptThe house was broken due to the housing scheme, now the old man is wan | आवास योजना के चक्कर में तोड़ा घर, अब दर-दर भटक रहा वृद्ध | Patrika News

आवास योजना के चक्कर में तोड़ा घर, अब दर-दर भटक रहा वृद्ध

आवास योजना के फेर में नैला के बेसहारा वृद्ध का पूरा जीवन तबाह हो गया। दरअसल, उसे कुछ लोग आवास योजना का प्रलोभन देकर उसके टूटे फूटे घर को तोड़ दिया लेकिन चार महीना बीत जाने के बाद भी नगरपालिका आज तक न उस ओर पलटकर देखा और न ही उसे योजना का लाभ दे रहा।

जांजगीर चंपा

Published: April 02, 2022 09:38:41 pm

जांजगीर-चांपा. अब वृद्ध के पास घर नहीं होने से बेघर हो गया और घूम-घूमकर अपना गुजर बसर कर रहा है। समाज के लोग दो वक्त की रोटी देते हैं इसी से उसका गुजारा होता है। यह कहानी नहरिया बाबा रोड के पास स्थित शिवराम कालोनी से लगे डबरी पार में रहने वाले शहजाद खान की है। दरअसल, शहजाद खान का पहले डबरी पार में पुस्तैनी टूटा फूटा मकान था। उसी में वह दर्जी का काम करता था। इस दौरान शहर के कुछ दलाल किस्म के लोग मिले और उसे कहा कि तुझे हम आवास योजना का लाभ दिलवा देंगे। जब पैसे मिलेंगे तो उसमें से कुछ राशि हमें भी दे देना। उनकी बातों में आकर शहजाद खान ने अपना पुराना घर तोड़ दिया और नए मकान की आस में वह झांसे आ बैठा। इस दौरान उसके रहने के लिए मकान भी नहीं थे। वह दलाल के चक्कर काटता रहा। लेकिन उसे आज तक सरकारी योजना का लाभ नहीं मिल पाया। अब वह न घर का रहा न घाट का। उसके पास रहने के लिए न तो दो गज की जमीन है और न ही छत। समाज के लोगों के पास जाता है तो उसे दो वक्त की रोटी मिल जाता है। जिससे उसका गुजर बसर चलता है।
परिवार में सब कुछ पर चल रहा विवाद
शहजाद खान के बेटे भी हैं लेकिन उसका बेटा बहू के साथ विवाद हो गया जिसके चलते उसके अपने भी पराए हो गए। हालांकि उनके बेटों का कहना है कि उसे पहले भोजन देते थे लेकिन उसकी बातों से बहू नाराज चल रही। जिससे बहू ने भी अनबन हो गया। जिससे उसे दो वक्त रोटी देने वाला भी कोई नहीं है। अब उसे केवल एक ही उम्मीद है या तो नगरपालिका उसके लिए छोटा सा मकान बनाकर दे दे नहीं तो उसे दर-दर भटकना पड़ेगा।
नहीं दिखता आंख तो काम भी छूटा
शहजाद खान पहले हुनरमंद टेलर था। लेकिन अब उसकी आंख भी उसका साथ छोड़ दिया। टेलरिंग के काम के लिए आंख की रोशनी का होना जरूरी है, लेकिन उसके यह अंग भी काम करना छोड़ दिया तो उसे दो वक्त की रोटी भी नसीब नहीं हो रही। उम्र के फेर में वह कहीं काम पर भी नहीं जा सकता। जिसके चलते उसके उपर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है।
शहजाद खान के लिए नगरपालिका में आवास योजना के लिए कई बार गुहार लगा चुके, लेकिन उसकी सुनवाई नहीं हो रही है। समाज के लोग उसका साथ दे रहे हैं और उसे जरूरी सामान उपलब्ध करा रहे हैं। ताकि उसका जीवन यापन चल सके।
-रफीक सिद्धिकी, प्रवक्का जिला कांग्रेस कमेटी
आवास योजना के चक्कर में तोड़ा घर, अब दर-दर भटक रहा वृद्ध
आवास योजना के चक्कर में तोड़ा घर, अब दर-दर भटक रहा वृद्ध

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

अनिल बैजल के इस्तीफे के बाद Vinai Kumar Saxena बने दिल्ली के नए उपराज्यपालISI के निशाने पर पंजाब की ट्रेनें? खुफिया एजेंसियों ने दी चेतावनीममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना, कहा - 'भाजपा का तुगलगी शासन, हिटलर और स्टालिन से भी बदतर'Haj 2022: दो साल बाद हज पर जाएंगे मोमिन, पहला भारतीय जत्था 4 जून को होगा रवानाWomen's T20 Challenge: पहले ही मैच में धमाकेदार जीत दर्ज की सुपरनोवास ने, ट्रेलब्लेजर्स को 49 रनों से हरायालगातार बारिश के बीच ऑरेंज अलर्ट जारी, केदारनाथ यात्रा पर लगी रोक, प्रशासन ने कहा - 'जो जहां है वहीं रहे'‘सिंधिया जिस दिन कांग्रेस छोडक़र गए थे, उसी दिन से उनका बुढ़ापा शुरू हो गया था’Asia Cup Hockey 2022: अब्दुल राणा के आखिरी मिनट में गोल की वजह से भारत ने पाकिस्तान के साथ ड्रा पर खत्म किया मुकाबला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.