वंदे मातरम गीत के साथ हुआ तीन दिवसीय कवि संगम अधिवेशन का समापन

कवि सम्मेलन

रायपुर. वीआइपी रोड अग्रोहा धाम में आयोजित तीन दिवसीय राष्ट्रीय कवि संगम का अधिवेशन वंदेमातरम गीत के साथ समाप्त हुआ। कार्यक्रम के अंतिम दिन रविवार की सुबह छंद पर कार्यशाला आयोजित की गई। इसमें बाबा सत्यनारायण मौर्य के साथ, विनय पाठक, विजय राठौर ने छंद के बारे में जानकारी दी। इस दौरान संगठन के पदाधिकारियों और कवियों ने चर्चा। इसमें कवियों ने प्रदेश में हिंदी कविता के विस्तार की भी बात की।

कार्यक्रम के दौरान राष्ट्रीय कवि संगम के अध्यक्ष शैलेश गुप्ता राजनांदगांव वालों ने देश के जवानों और उनकी शहादत को लेकर कविता सुनाई। उनकी कविता ''ऐ वीर शहीदों, करते हैं तुम्हें हम शत-शत नमन, बलिदान तुम्हारा याद रखेगा सदा हमारा यह वतन। हम रहें सुरक्षित इसलिए तुमने सीने में गोली खाई, मातृभूमि की खातिर तुमने अपनी जान गवाई। धन्य है वह मां जिसने तुम्हें जन्म दिया, धन्य है वह पिता जिसने आंसुओं को आंखों में ही रोक लिया। तुम्हारे इस बलिदान को हम कभी ना भूल पाएंगे, जब भी होगा बखान शहीदों का हम तुम्हारी वीरगाथा दोहराएंगे। ने सभी लोगों को भावविभोर कर दिया। कार्यक्रम के बारे में जानकारी देते हुए कवि संगम के प्रदेश अध्यक्ष योगेश अग्रवाल ने बताया कि राष्ट्रीय कवि संगम का यह आठवां अधिवेशन था। इससे पहले हर साल प्रांतीय अधिवेशन का कार्यक्रम रायपुर में किया जाता रहा है। रविवार को कार्यशाला के बाद राष्ट्रीय कवियों ने नए कवियों को कविता की बारीकियों को सिखाया। समापन कार्यक्रम में देश भर से पधारे 500 कवियों में से 20 का चयन कर काव्यपाठ किया गया। इसमें हिंदी के साथ छत्तीसगढ़ की भाषा की भी कविता पढ़ी गयी।

रक्तदान शिविर में हुआ 40 यूनिट रक्तदान

राष्ट्रीय अधिवेशन में रक्तदान शिविर भी आयोजित किया गया। इसमें प्रांतीय कवियों के अलावा यूपी, दिल्ली से आए कवियों ने भी रक्तदान किया। भारत देश का यह ऐसा पहला अवसर था जब देश भर से कविता पाठ करने आए वाले कवियों ने भी रक्तदान किया हो। शिविर में कुल 40 यूनिट रक्तदान किया गया।

sandeep upadhyay Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned