ये कैसा यातायात सड़क सुरक्षा सप्ताह, शिविर में ही यातायात नियम हो रहे तार-तार

शिविर के सामने हर दस मिनट में मेन रोड में रहा जाम का नजारा, शिविर के अंदर से लेकर मेन रोड तक सुबह से शाम तक रहा लंबी लाइनें, जिम्मेदार जवान व्यवस्था बनाने नहीं आए नजर,

जांजगीर-चांपा. शहर में 11 से 17 जनवरी तक सड़क सुरक्षा सप्ताह ट्रैफिक पुलिस द्वारा मनाया जा रहा है। इस सड़क सुरक्षा सप्ताह के तहत यातायात पुलिस द्वारा स्कूलों में जाकर व चौक-चौराहों में लोगों को यातायात के लिए जागरूक किया जा रहा है। लोगों व छात्र-छात्राओं को नियमों का पाठ पढ़ा रही है। नियम कायदों का पालन की सीख दे रही है। लेकिन स्वयं नियम कायदो कानून का पालन नहीं कर रही है। शिविर के सामने ही लाइसेंस बनवाने के लिए गुरूवार को लोगों की भीड़ टूट पड़ी। कंट्रोल रूम के अंदर व सड़क के बाहर तक लंबी लाइन सुबह से शाम तक लगी रही है। पूरे जिले से लोग सड़क सुरक्षा सप्ताह के दौरान बनाए गए कंट्रोल रूम में शिविर में टूट पड़े। बाइक को सड़क में ही रख दिया गया था, इसके अलावा लोगों की भीड़ रही। इस दौरान मेन रोड में कई बार जाम की स्थिति उत्पन्न हुई। इसके बावजूद एक भी जवान व्यवस्था बनाने इस दौरान सड़क में नजर नहीं आए। ट्रैफिक पुलिस द्वारा जिले में यह कैसा सड़क सुरक्षा सप्ताह मनाया जा रहा है। जिसमें स्वयं सड़क सुरक्षा के लिए लोगों को जानकारी तो दे रहे है। लेकिन इसका पालन स्वयं पुलिस द्वारा नहीं किया जा रहा है। पूरे दिन भर जिला मुख्यालय में यातायात नियमों की धज्जियां उड़ाई गई। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि पुलिस अपने काम के प्रति कितना गंभीर है। यातायात सड़क सुरक्षा सप्ताह की केवल फार्मेल्टी पूरी की जा रही है। इसका पालन जिम्मेदारों द्वारा नहीं किया जा रहा है।

नियमों का अनदेखा, नहीं चलाया अभियान
सड़क सुरक्षा सप्ताह के दौरान बिना नंबर वाले वाहनों, अमानक नंबर प्लेट और अवैध तरीके से लाल-पीती बत्ती, हूटर और बंपर लगाने वालों के खिलाफ धरपकड़ अभियान चलाया जाना था, लेकिन इसके बावजूद भी जिला पुलिस इस मामले को लेकर सुस्त और बेपरवाह रवैया अपनाए रही। पुलिस न तो नियमों की पालना की ओर ध्यान दिया और न ही विभाग आदेश ही माने। पुलिस के अनदेखी से अपात्र होने पर भी बत्ती का शौक रखने वाले झांकी बाज लोग ये अमानक बत्तियां लगाकर वाहन दौड़ रहे है। नियम लगा रखी बत्ती वाले वाहनों को यातायात पुलिस देखती है पर कार्रवाई नहीं करती।

दो पहिया वाहन पर तीन से चार सवारियां
शहर में मनाए जा रहे यातायात सड़क सुरक्षा के तहत भले ही चाहे यातायात पुलिस द्वारा लोगों को यातायात के नियमों का पाठ पढ़ाया जा रहा है। लेकिन इसका असर शहर की सड़कों पर नजर नहीं आ रहा है। यहां तक कार्रवाई करने वाले पुलिस जवान खुद बिना हेलमेट के दो पहिया वाहन फर्राटे से दौड़ाते नजर आ रहे है। शहर के सभी मुख्य मार्गो पर एक बाइक पर दो से तीन कहीं चार सवारियां बिठाकर सड़कों पर नजर आए। यातायात पुलिस कर्मी चैक पाइंटों से नदारद रहे।

Deepak Gupta Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned