घर की छत पर चार सौ गमलों में लहलहा रही सब्जी की फसल

जगह की कमी को देखते हुए बहेराडीह के किसान ने अपनाई चार मंजिला खेती की तकनकी, रसायनिक खाद की जगह गौमूत्र और दही का इस्तेमाल कर कर रहे खेती

जांजगीर-चांपा. अभी तक आप लोगों ने खेतों पर ही सब्जी की फसल लगती देखी होगी, लेकिन जिले के एक किसान ने इसमें कुछ अलग करते हुए अपने घर की छत पर गमलों में ही सब्जियों की फसल लगाई है। करीब चार सौ गमलों में सब्जियों की फसल लहलहा रही है। ज्यादातर गमलों में भांजियों की किस्म लगाई है।
खास बात यह भी है कि सब्जियों को उगाने में बिल्कुल भी रासयनिक खाद का उपयोग नहीं किया जा रहा है। बल्कि गोबर गैस प्लांट से निकलने वाली स्लरी, गोमूत्र से तैयार दस पर्णिय अर्क और उत्पादन अधिक बढ़ानेदेशी गाय की दूध से दही बनाकर छिड़काव करने का तकनीक अपनाई है। चांपा शहर से लगे ग्राम बहेराडीह उर्फ भदरीपाली के किसान दीनदयाल यादव ने जगह के अभाव में अपने घर के छत पर चार सौ गमलों में सब्जी की अलग-अलग फसल लगाई है। उन्होंने बताया कि घर के छत पर लगी सब्जियों में अधिकतर भाजी वर्गीय ऊसल को चयनित किया है। बता दें, किसान दीनदयाल ने प्रदेश के 36 भाजियों का पेटेंट कराने भारत सरकार के कृषि कल्याण मंत्रालय को अपना आवेदन भी प्रस्तुत कर चुके हैं। गमलों पर कद्दुवगीर्य फसल के साथ-साथ कंद वर्गीय फसलख् मसाला वर्गीय फसल, पुष्प वर्गीय फसल के अलावा फल-फूल भी विभिन्न किस्मों काा समावेश किया है। सब्जी की खेती की तरह आयस्टर मशरूम की पैदावार भी ले रहे हैं।

READ : शादी नहीं हुई तो प्रेमी ने किया नाबलिग प्रेमिका के साथ बलात्कार, अब भुगतेगा सजा
इस माडल को अपनाने लगे कई लोग
घर की छत पर सब्जी की ट्री-स्तरीय तकनीक और दस डिसमिल जमीन पर बारहमासी चौबीस प्रकार की अलग अलग फसल और चार मंजिला तकनीक को देखकर स्थानीय जिले के किसानों के अलावा अन्य जिलों और राज्य के किसान अपनाने लगे हैं। कृषि विज्ञान केंद्र, कृषि महाविद्यालय में अध्ययनरत विद्यार्थियों, उद्यान विभाग नाबार्ड से जुड़े किसानों को यहां की तकनीक से रूबरू कराने शैक्षणिक भ्रमण भी करा चुके हैं। कृषि क्षेत्र में नवाचार को देखने अब तक पांच देश के लोग यहां पहुंच चुके हैं। जिसमें अमेरिका जर्मनी आस्ट्रेलिया कैनेडा व इंग्लैंड आदि शामिल हैं। रेस्टोरेशन फाउंडेशन के अध्यक्ष जे बसवराज ने बताया कि कृषि क्षेत्र में जिला प्रशासन के सहयोग से इस ग्राम को विकसित करते हुए कृषक समूह व महिला स्व सहायता समूहों को रोजगार से भी जोड़ा जाएगा।

READ : इस मामले में स्वास्थ्य मंत्री ने लिया संज्ञान, सीएमएचओ से मांगी गई जानकारी
चार मंजिला तकनीक से सब्जी की खेती
कृषि उप संचालक एमआर तिग्गा ने बताया कि छत्तीसगढ़ राज्य सरकार के महत्वाकांक्षी योजना नरवा, गरवा, घुरवा और बाड़ी का एक मॉडल बहेराडीह में कृषक संगवारी दीनदयाल यादव के घर पर अक्षय चक्र कृषि माडल विकसित किया है। जिसमें चार मंजिला तकनीक से सब्जी के साथ साथ फल-फूल की पैदावार ली जा रही है।

Vasudev Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned