अरहर की फसलों पर मौसम की मार, कीटनाशक दवा का भी नहीं हो रहा कोई असर

Vasudev Yadav

Publish: Dec, 07 2017 03:31:05 (IST)

Janjgir-Champa, Chhattisgarh, India
अरहर की फसलों पर मौसम की मार, कीटनाशक दवा का भी नहीं हो रहा कोई असर

अरहर की फलों पर लाल व हरे रंग की इल्लियां फलों को छेदकर फलों को नष्ट करने लगी है।

जांजगीर.चांपा। अरहर की फसल पर इन दिनों मौसम में बदलाव का दिख रहा है। इस समय अरहर के पौधे पर फूल और फल लगने लगे हैं। ऐन वक्त पर बदली से अरहर के फूल और फलों पर फल्ली भेदक इल्लियों का प्रकोप दिखाई देने लगा है। किसान इसके नियंत्रण के बजाए कीटनाशक दवाई का छिड़काव कर रहे हैं। वहीं आसमान पर बदली छाए रहने के कारण कीटनाशक का छिड़काव बेअसर साबित हो रहा है।

इस संबंध में हरदी महामाया के किसान रामबली यादव, रूपराम साहू व कृष्णा के कृषक रामकुमार ने बताया कि इस समय अरहर की फसल पर बदली के कारण कीट व्याधी का प्रकोप बढ़ गया है। अरहर के फूलों पर जालीनुमा छोटी-छोटी इल्लियां नुकसान पहुंचा रही है। वहीं दूसरी तरफ अरहर की फलों पर लाल व हरे रंग की इल्लियां फलों को छेदकर फलों को नष्ट करने लगी है। हरदी, जर्वे, पाली, सिवनी सहित कई गांवों के किसान इसके नियंत्रण के लिए गौमूत्र से तैयार जैविक कीटनाशक नीमसार का छिड़काव करने लगे हैं, तो कुछ गांवों के किसान एसीफैड पाउडर, ट्रायजोफांस, सायपरमेध्रिन व अन्य कीटनाशक दवाओं का छिड़काव कर रहे हैं। बदली के कारण कीटनाशक का असर नहीं हो रहा है। कीट प्रकोप बढऩे से फूल अपने आप गिरने से उसमे फल लगने से पहले ही गिर जा रहा है। दवा का छिड़काव करने से फूल भी गिरने लगे है।

सताने लगी चिंता
मौसम की मार से एक बार फिर किसानों की चिंता बढ़ गई है। कई किसानों के धान कीटों ने खराब कर दिया तो कई किसानों के खेत में बारिश का पानी नहीं पहुंचने से उपज ही नहीं हो पाया। अब अरहर की खेती पर भी मौसम बदलाव के साथ कीट प्रकोप बढ़ गया है और नुकसान पहुंचा रहा है। इससे किसान चिंतित हैं। किसानों को डर है कि मौसम में इसी तरह का उतार-चढ़ाव हुआ तो अरहर की फसल भी बर्बाद हो जाएगी, इससे आर्थिक संकट पैदा हो जाएगी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned