सीएम के रोड शो को लेकर प्रशासन को आई गौरव पथ की याद

आनन फानन में पूरी कराई जा रही है बाकि बची टायरिंग और रेलिंग का काम

By: Barun Shrivastava

Published: 24 May 2018, 07:07 AM IST

जशपुरनगर. अपने निर्माण के शुरू से ही विवादों में घिरे जशपुर के अधूरे उन्नत गौरव पथ निर्माण कार्य को पूरा करने के लिए जिला प्रशासन ने पूरी ताकत झोंक दी है। 30 माह से अधर में लटके नगर के इस सबसे बड़े निर्माण कार्य में हो रही लेट लतीपुी और गड़बड़ी के विरोध में कांग्रेस के युवा इंटक ने धरना प्रदर्शन करते हुए निर्माण कार्य पूरा करने के लिये ठोस पहल ना करने पर नगर बंद और घेराव आंदोलन की चेतावनी दी थी। वहीं दूसरी ओर 7 जून को मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के विकास यात्रा के तहत इसी सड़क पर रोड शो के कार्यक्रम को देखते हुए जिला प्रशासन ने यह पहल की है। अधिकारियों का लक्ष्य अधूरे पड़े सड़क के चौड़ीकरण और डामरीकरण के कार्य के साथ स्ट्रीट लाइट स्थापित करने का काम भी पूरा करने का है। विदित हो कि गौरव पथ निर्माण में हो रही देरी और गड़बड़ी के विरोध में कांग्रेस के युवा इंटक ने 20 जून को शहर के रणजीता स्टेडियम चौक के पास धरना देकर विरोध जताया था। कांग्रेस का आरोप था कि राजनीतिक संरक्षण की वजह से निर्माण कंपनी मनमानी पर उतर आई है। विभिन्न् प्रकार का बहाना बना कर बार बार निर्माण कार्य का अवरूद्व कर रही है। नगर पालिका की चेतावनी का उस पर कोई असर नहीं हो रहा है। वहीं जिला प्रशासन भी कार्रवाई के लिये लिखे गए अनुशंसा पत्र पर चुप्पी साधे हुए बैठा हुआ है, जिससे शहरवासियों के साथ पूरे जिले से आने वाले सैकड़ों मुसाफिरों को परेशानी का सामना करना पड़ा रहा है। इसके साथ ही हादसे की आशंका भी बनी हुई है। निर्माण कार्य को पूरा करने के लिए ठोस कार्रवाई ना किए जाने पर कांग्रेस ने नगर बंद के साथ घेराव आंदोलन की चेतावनी भी दी थी।
सीएम के रोड़ शो की वजह से जागा प्रशासन : कांग्रेस के इस आंदोलन के साथ ही विकास यात्रा के तहत जशपुर प्रवास पर पहुंच रहे मुख्यमंत्री के रोड शो को देखते हुए भी जिला प्रशासन ने इस मामले में सख्ती दिखाई है। बताया जा रहा है कि 7 जून को मुख्य मंत्री डॉ रमन सिंह दुलदुला से विकास रथ पर सवार हो कर गम्हरिया पहुंचेगें। और यहां से रोड शो करते हुए उन्नत गौरव पथ से होते हुए रणजीता स्टेडियम तक पहुंचेंगे। प्रदेश के मुखिया के इस कार्यक्रम के तय होने के बाद यह माना जा रहा था कि प्रशासन सड़क निर्माण के लिए ठोस पहल करेगी। बहरहाल, 30 माह के अंतराल के बाद महज साढ़े तीन किलोमीटर सड़क के डामरीकरण और चौड़ीकरण काम पूरा होने से गड्ढे और धूल से राहत मिलने की उम्मीद जागी है।

Barun Shrivastava Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned