सीएम का वादा नहीं हो सका पूरा

Amil Shrivas

Publish: Sep, 17 2017 02:14:22 (IST)

Jashpur Nagar, Chhattisgarh, India
सीएम का वादा नहीं हो सका पूरा

मनोरा में कालेज खोलने किया था वादा

जशपुरनगर. राष्ट्रीय राजमार्ग की जर्जर हालत सहित अन्य स्थानीय मुद्दों को लेकर युवा मजदूर कांग्रेस के नेतृत्व में कांग्रेस के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने तहसील मुख्यालय मनोरा में धरना दिया। इस दौरान कांग्रेस के जनप्रतिनिधियों ने जर्जर राजमार्ग की मरम्मत के साथ पीडीएस दुकानो से राशन वितरण की व्यवस्था दुरूस्त करने, बांध व नहर की मरम्मत और प्रधान मंत्री आवास योजना के हितग्राहियो को एक मुश्त राशि उपलब्ध कराने की मांग की। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए नगर पालिका जशपुर के अध्यक्ष हीरू राम निकुंज ने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार विकास की गंगा बहाने का दावा कर रही है, लेकिन उनका यह दावा कितना खोखला है यह जिला मुख्यालय के सबसे नजदीक स्थित मनोरा तहसील की बदतर हालत को देख कर समझा जा सकता है। इस तहसील में लोगों को ना तो राशन सही समय से मिल पा रहा है और ना मजदूरी भुगतान। गरीब अपने परिवार का पेट भरने के लिए मजदूरी करते हैं लेकिन उन्हें मजदूरी प्राप्त करने के लिए सरकारी कार्यालयों का चक्कर काटना पड़ रहा है।

 

सरकार कर रही जुमले बाजी : उन्होनें कहा कि केन्द्र और प्रदेश की भाजपा सरकार जुमले बाजी कर लोगों को गुमराह करने का प्रयास कर रही है। प्रदेश के मुख्यमंत्री ने जनवरी में मनोरा में महाविद्यालय स्थापित करने की घोषणा की थी, लेकिन उनके इस घोषणा का क्रियान्वयन नए शिक्षा सत्र में भी नहीं हो सका है। उन्होने कहा कि जिले के दिग्गज कहलाने वाले भाजपा के नेता भी केवल वाहवाही लुटने के लिए ही काम कर रहे हैं।

तहसील की बदहाली चरम पर : युवा मजदूर कांग्रेस के जिलाध्यक्ष सूरज चौरसिया ने कहा कि मनोरा जैसे पिछड़े हुए क्षेत्र को विकास की मुख्य धारा में लाने के लिए इसे तहसील का दर्जा दिया गया था, लेकिन भाजपा सरकार ने इस क्षेत्र को पूरी तरह से उपेक्षित छोड़ दिया। नतीजा इस क्षेत्र में राशन वितरण, मजदूरी भुगतान की स्थिति बदतर है। सड़क, बिजली, पानी और स्वास्थ्य जैसी बुनियादी सुविधा भी यहां के लोगों के पहुंच से काफी दूर है।

एनीकट बदहाली पर बरसे कांग्रेसी : 14 करोड़ का एनीकट, जिसे भाजपा नेता अपनी उपलब्धि बताते फिर रहे थे, के बह जाने के बाद अब तक दोषियों के खिलाफ कार्रवाई के नाम पर जांच की खाना पूर्ति में जुटे हुए हैं। उन्होने जोर देकर कहा कि इस मामले में जांच रिपोर्ट शासन और प्रशासन को आम जनता के सामने रखना चाहिए ताकि लोगों को सच्चाई का पता चल सके।

नहीं मिलता एम्बुलेंस : स्वास्थ्य विभाग की लचर व्यवस्था पर निशाना साधते हुए उन्होने कहा कि प्रदेश सरकार स्वास्थ्य बीमा और एंबुलेंस व्यवस्था का बखान करते फिर रही है, वहीं मनोरा जैसे पिछड़े हुए क्षेत्र के लोग हाथ में स्मार्ट कार्ड लेकर एंबुलेंस का इंतजार करते रह जाते हैं, लेकिन समय पर उन्हें सहायता नहीं मिल पाती है। कार्यक्रम को उर्मिला भगत, कमल कुजूर, राहुल गुप्ता, मुस्तकीम खान ने भी संबोधित किया। इस कार्यक्रम में विनोद पांडे, मंगल पांडे व अन्य थे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned