दो दिनों से जारी है अनवरत बारिश, जिले के लोगों का जनजीवन हो गया प्रभावित

दो दिनों से जारी है अनवरत बारिश, जिले के लोगों का जनजीवन हो गया प्रभावित

Amil Shrivas | Publish: Sep, 08 2018 12:16:32 PM (IST) Jashpur Nagar, Chhattisgarh, India

खेतों, बांधों और तालाबों में लबालब भरा पानी, कहीं खुशी तो कहीं गम के बन गए हैं हालात, लोग बेदम

जशपुरनगर. गुरुवार की देर रात से समूचे जिले में लगातार बारिश हो रही है। लगातार हो रहे बारिश से एक बार फिर किसानों के चेहरे में उम्मीद देखने को मिली है। गुरुवार को शहर में बारिश होने के बाद मौसम खुल गया था, लेकिन रात होते ही शहर सहित पूरे जिले में भारी बारिश शुरु हो गई जो शुक्रवार की शाम तक जारी थी। गुरुवार की रात से शुक्रवार को पूरे दिन भर कई स्थान में बारिश होती रही, वहीं बारिश कम होने पर पाठ क्षेत्रों में कोहरा छाने लगा था। गुरुवार की रात से लगातार हो रही बारिश के कारण सड़कों सहित कई स्थानों पर पानी भर गया, जिसके कारण वाहनों के आवागमन सहित पैदल चलने वालों को भी परेशानी का सामना करना पड़ा। इस वर्ष मानसून की अनिश्चितता शुरू से बनी हुई है। ऐसे समय में गुरुवार की रात से जिस प्रकार बरसात शुरू हुई है, उससे लोगों में काफी उम्मीदें जगी हैं कि अब उनके खेतों में पानी भर जाएगा, पूर्व में ज्यादा बारिश नहीं होने के कारण लोगों के खेतों में पानी नहीं रुक पाया था और खेत सूखने लगे थे। खासकर जिले के फरसाबहार क्षेत्र के तुमला क्षेत्र में अवर्षा और खण्ड वर्षा से वहां के किसान दहशत में थे लेकिन मौसम के करवट लेने से उनमे राहत की खबर है। जिले में सावन के बाद भादों माह में रुक रुक कर लगातार बारिश हो रही है जहां एक दो दिनों तक मौसम साफ रहने के बाद झमाझम बारिश हो जा रही है। कुछ दिनों से लगातार हो रही बारिश से खेतों में लबालब पानी भरने से जहां किसानों के चेहरे में मुस्कान आई है। वहीं तालाब, नदियों और कुआं में पानी देखकर लोग खुश है। नदियों और तालाबों में पानी का स्तर देखकर लोग देखने जा रहे हैं। जिला मुख्यालय के देउल बांध, बड़ा तालाब और डोंगी बांध एक दिन के ही झमाझम बारिश से लबालब भर गए हैं। इसके साथ ही आसपास के इलाके में पहाडिय़ों से होकर निकलने वाली लावा और ईब नदी भी उफान पर हैं। पानी की तेज धार देखकर ही लोग अच्छी और झमाझम बारिश का अंदाजा लगा रहे हैं। जिला मुख्यालय का देउल बांध की भराव की स्थिति खतरे के दायरे में है। तालाब का गहरीकरण करने के बाद पानी औसत क्षमता से और अधिक भर चुका है। पूर्व में अधिक पानी भरने की वजह से इस तालाब के फूटने की घटना भी हो चुकी है।

लगातार बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त : गुरुवार की रात से जिले में शुरु हुई लगातार बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया था। लोग अपने घरों से भी नहीं निकल पा रहे थे। झमाझम बारिश होने के बाद झड़ी लग जाने से लोगों को ज्यादा परेशानी हुई। वहीं लगातार हुई बारिश के कारण जगह-जगह पानी का जमाव हो गया था। कई क्षेत्रों में पानी निकासी की सही व्यवस्था नहीं रहने के कारण बारिश का पानी लोगों के घरों में भी घुस गया था। वहीं शुक्रवार को स्कूलों में भी बच्चों की उपस्थिति कम देखी गई।

अब तक 957 मिलीमीटर वर्षा दर्ज : जिले में अब तक 875.3 प्रतिशत वर्षा दर्ज की गई है। कलक्टर कार्यालय के भू. अभिलेख शाखा से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले में 1 जून से 7 सितम्बर तक 957 मिलीमीटर वर्षा हुई है। सर्वाधिक वर्षा 1290 मिमी कुनकुरी तहसील में हुई है। जशपुर तहसील में 1084 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई।

कम बारिश से जिले के किसान थे चिंतित : जिला मुख्यालय में राजस्व आंकड़ों के पैमाने के मुताबिक औसत से अधिक बारिश हो चुकी है। यहां के किसान कम बारिश से भारी चिंता में डूब चुके थे। लेकिन उन्हे अब राहत मिली है। फसलों के लिए पर्याप्त पानी उन्हे प्राकृतिक तौर पर मिल चुका है। गुरुवार की रात से बारिश शुरू होने से सबसे अधिक खुशी किसानों के चेहरे पर देखने को मिली। जिला मुख्यालय के आसपास के क्षेत्रों में किसानों को अपने खेतों में बियासी करते हुए देखे गया। यहां के किसान जुलाई माह में रोपाई का कार्य पूूरी तरह से करके अगस्त माह और सिंतबर के पहले सप्ताह में खरपतवारों की निकाई का काम शुरू करते हैं।

Ad Block is Banned