रशिया, मंगोलिया से आने वाले पक्षियों के स्वागत की तैयारियां

जिला प्रशासन जलाशय में मत्स्याखेट और पक्षियों के शिकार पर पहले ही लगा चुका है प्रतिबंध

By: BRIJESH YADAV

Updated: 03 Mar 2019, 10:30 AM IST

जशपुरनगर. रशिया, मंगोलिया, कजाकिस्तान, और यूरोप से ठंड के मौसम में आने वाले मेहमान पक्षियों के बसेरे के रूप में प्रसिद्ध जशपुर जिले के नीमगांव जलाशय को संरक्षित और संर्वधित करने की विस्तृत कार्य योजना जिला प्रशासन द्वारा तैयार की जा रही है। यहां आने वाले मेहमान पक्षियों की सुरक्षा के मद्देनजर डेम के चारों ओर वृक्षापरोपण कराकर इसको संरक्षित किया जाएगा।
ज्ञातव्य है कि नीमगांव डेम में मत्स्याखेट और मेहमान पक्षियों के शिकार पर पहले ही जशपुर जिला प्रशासन प्रतिबंध लगा चुका है। इस डेम में मछली मारने अथवा पक्षियों के शिकार करते पाए जाने पर दोषियों पर कड़ी कार्रवाई किए जाने की सूचना का बोर्ड जगह-जगह लगाया गया है।
कलक्टर, डीएफओ ने किया बांध का मुआयना
कलक्टर निलेशकुमार क्षीरसागर, वनमण्डालाधिकारी श्रीकृष्ण जाधव ने शनिवार को संयुक्त रूप से नीमगांव डेम का मुआयना किया और इसके संरक्षण और संवर्धन के लिए जशपुर वाईल्ड लाईफ वेलफेयर फाउण्डेशन के पदाधिकारियों से विस्तार से चर्चा की। कलक्टर ने यहां वांच टावर का निर्माण कराए जाने के साथ ही कैम्पा से ब्लाक प्लांटेशन कराए जाने की बात कही। डेम एरिया के उथले हिस्से को आईलैण्ड (टापू) का स्वरूप देने का भी निर्णय लिया गया ताकि मेहमान पक्षी इस आईलैण्ड पर बिना किसी डर भय के स्वछंद विचरण कर सकें।
शिकार के कारण घटी पक्षियों की संख्या
सौरभ सिंह का कहना था कि इस वर्ष नीमगांव डेम में रूड्डी शेल्डक, बार हेडेड गोसे, और नॉर्दन पिटनेल नामक आने वाले मेहमान पक्षियों की संख्या 60 से अधिक थी जो अब घटकर मात्र 42 रह गई है। बेशरम की झाडिय़ों की कटाई और विदेशी पक्षियों का शिकार किया जाना इनकी संख्या में कमी आने का प्रमुख कारण है। नीमगांव के जागरूक ग्रामीण साधो राम ने बताया कि पहले इस इलाके में हजारों की संख्या में रंग-बिरंगी विदेशी पक्षी आते थे, जिन्हें देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग दूसरे शहरों से आया करते थे। समय के साथ यहां आने वाले विदेशी पक्षियों की संख्या में कमी होते गई और बाहर से आने वाले पर्यटक भी कम हो गए।
कलक्टर ने वाईल्ड लाईफ फाउण्डेशन के पदाधिकारियों की सुझाव पर आवश्यक कार्रवाई करने, डेम के खराब स्लूज गेट की मरम्मत तथा विदेशी पक्षियों के विचरण के लिए यहां पर्याप्त जल संरक्षित करने की बात कही।
जिला शिक्षा अधिकारी ने दिया निर्देश-कलक्टर ने मेहमान पक्षियों की सुरक्षा के प्रति आसपास सभी गांवों के ग्रामीणों से चर्चा कर उन्हें इसके प्रति जागरूक बनाने पर जोर दिया। उन्होंने ग्रामीणों की एक समिति बनाने की बात कही। इस समिति की जिम्मेदारी होगी कि वह नीमगांव डेम में मछली मारने पर रोक लगाए और यहां आने वाले पक्षियों की सुरक्षा करें। वाईल्ड लाईफ वेलफेयर फाउण्डेशन के पदाधिकारियों ने बताया कि डेम एरिया के उथले हिस्से में पहले बेशरम की घनी झाडिय़ां, विदेशी पक्षियों के घोंसले और प्रजनन (ब्रीडिंग) के लिए काफी सुरक्षित थीं, लेकिन आस-पास के ग्रामीणों द्वारा जलाऊ के लिए इन बेशरम की झाडिय़ों को लगातार काटा जा रहा है। इसकी वजह से यह स्थान अब मेहमान पक्षियों के घोंसले और ब्रीडिंग के लिए सुरक्षित नहीं रह गया है।

BRIJESH YADAV Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned