शिवालयों में उमड़ा भक्तों का सैलाब

शिवालयों में उमड़ा भक्तों का सैलाब

Amil Shrivas | Publish: Feb, 15 2018 06:33:42 PM (IST) Jashpur Nagar, Chhattisgarh, India

दूध और जल से किया शिव का अभिषेक, जिले भर के शिव मंदिरों, पहाडियों पर दिन भर रही धूम

जशपुरनगर. मान्यता है कि चाहे सालभर मनुष्य कुछ भी करे सिर्फ महाशिवरात्रि के दिन सात्विकता का पालन कर सच्चे मन से भगवान भोलेनाथ की उपासना करने से मनुष्य समस्त पापों से छूट जाता है। महाशिवरात्रि को भागवान भोलेनाथ का विवाह हुआ था। महाशिवरात्रि को शिवालयों में उमडऩे वाली भक्तों की भीड़ को देखते हुए पहले से ही तैयारी कर ली गई थी।
महाशिवरात्रि पर बुधवार को शिवालयों के पट सुबह 5 बजे से ही खुल गए थे। सूर्योदय के साथ ही जलाभिषेक के लिए शिवमंदिरों में भक्तों का आना शुरू हो गया। दोपहर तक शिव मंदिरों में भक्तों की कतार लगी रही। लोगों ने दूध व पवित्र जल से भगवान शिव का अभिषेक किया। शिव को विल्पपत्र चढ़ाने का चलन है। शहर के अधिकांश श्रद्धालुओं ने पक्कीडांड़ी के पास स्थित शिवमंदिर में जल चढ़ाया। सुबह से ही यहां भक्तों की भीड़ जुटनी शुरू हो गई थी। मंदिर ? के भीतर पैर रखने के लिए स्थान नहीं था। भक्त कतारबद्ध होकर मंदिर के बाहर खड़े नजर आए। यहां लोगों ने वृक्षगंगा पक्कीडांड़ी से उठाया और भगवान भोलेनाथ को इस जल से अभिषेक किया। इसी तरह जेल के पास स्थित महाकालेश्वर व बरटोली शिवमंदिर में भी सैकड़ों की संख्या में भक्त जुटे।
उमड़े श्रद्धालु- शहर के पश्चिम पर्वत स्थित बेलमहादेव में भी सैकड़ों की संख्या में भक्तगढ़ भगवान भोलेनाथ की पूजा के लिए पहुंचे। यह शिवमंदिर पर्वत की चोटी पर बना है। यहां तक पहुंचने के लिए पहाड़ में सीढिय़ां बनाई गई है। करीब 3 सौ से अधिक सीढिय़ां चढ़कर भक्तगढ़ इस मंदिर तक पहुंचे। बेलमहादेव के शिवालय में पहुंचने के लिए महिला, पुरूष और बच्चों में खासा उत्साह देखा गया। हजारों भक्त उपवास रखकर इतनी उंचाई पर चढ़े। सीढिय़ां चढ़कर हांफ्ते हुए भक्त भगवान भोलेनाथ के दर तक पहुंचे और यहां आकर भगवान के दर्शन कर पूरी थकान भूल गए। कई भक्त पक्कीडांड़ी से जल लेकर बेलमहादेव पहुंचे। बेल महादेव पहुंचकर भक्तों ने यहां गुफा के भीतर स्थित शिवलिंग का भी जलाभिषेक किया। यहां दर्शन करने और सुरक्षा बंदोबस्त का जायजा लेने खुद एसपी प्रशांत सिंह ठाकुर भी मौजूद रहे।
निकला शिव बारात- बालाजी समिति के तत्वाधान में महाशिवरात्रि के अवसर पर भव्य शिव बारात निकाली गई, जिसमें श्रद्धालुओं ने बढ़ चढ़ कर बारात में शामिल हुए। भगवान शिव को पालकी में बैठाकर शहर का भ्रमण कराया गया। शिव बारात पक्की ढ़ाडी शिव मंदिर से निकलकर महराजा चौक, बस स्टैंड, पुरानी टोली मार्ग होते हुए शिव मंदिर पहुंची।
कोतबा क्षेत्र में सुबह से रही शिवरात्री की धूम- महाशिवरात्री पर कोतबा क्षेत्र में भगवान भो? नाथ ??थ को जलाभिषेक करने श्रद्धालुओ की लंबी कतार सुबह से ही मंदिरो में लग गई थी हाथो में फूल-फल और पूजा सामग्री लेकर कतार में खड़े होकर खूब जयकारे लगा रहे थे कोतबा स्थित सतीघाट धाम में गुरुवार से ही पूजा अर्चना शुरू किया जा चूका था रात्री सनातन धर्म के अनुयायी और स्थानीय लोगो के द्वारा भजन कीर्तन का आयोजन किया गया था जिसमे दूरदराज के लोगो कि भारी भीड़ देखी गई और रात भर रामायण गीता के श्लोको का रसपान किया गया। सुबह हजारों लोगो ने सतीघाट धाम में स्थापित भगवान शिवशंकर के ***** में जलाभिषेक कर पूजा अर्चना कर अपने और अपने परिवार के सुख समृद्धि की कामना की। यहां के पुरोहित पंडित सुदामा शर्मा के द्वारा वर्षो से यहां अपनी सेवाएं दे रहे है यह मंदिर की रखरखाव सहित सार्वजानिक आयोजन में उनकी भूमिका अहम रही है। यहां आगन्तुक श्रद्धालुओ के सम्पूर्ण भंडारे का आयोजन भी किया गया था जिसमे हजारो लोगो ने भंडारे में प्रसाद ग्रहण किया।

Ad Block is Banned