केन्द्रीय मंत्री के पीए के पत्र से मवेशियों की तस्करी

केन्द्रीय मंत्री के पीए के पत्र से मवेशियों की तस्करी

Amil Shrivas | Publish: Apr, 17 2018 12:15:19 PM (IST) Jashpur Nagar, Chhattisgarh, India

पत्र के दुरुपयोग का मामला आया सामने , आरोपियों पर ४२० का मामला दर्ज

जशपुरनगर. केन्द्रीय इस्पात राज्य मंत्री विष्णुदेव साय के निज सहायक आकाश गुप्ता के पत्र को कूट रचना कर इस पत्र का दुरूपयोग मवेशियों की तस्करी में करने की शिकायत थाने में दर्ज कराई है। शिकायत पर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने मामले की जांच के लिये पत्र को संबंधित थाना प्रभारी को अग्रेषित कर दिया है।
घटना के संबंध में प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले के कांसाबेल थाना में दर्ज कराई गई इस शिकायत में मंत्री के निज सहायक आकाश गुप्ता ने बताया है कि उन्होंने बताया है कि कांसाबेल थाना क्षेत्र के पुसरा गांव के निवासी जनक राम सहित 10 किसान केन्द्रीय मंत्री विष्णुदेव साय के बगिया स्थित आवास पहुंचे थे। इन किसानों ने कृषि कार्य के लिए मवेशी लाने के लिए सहायता देने का अनुरोध किया था। किसानों का कहना था कि मवेशी लाने के दौरान पुलिस प्रशासन सहित अन्य लोग बूचडख़ाना ले जाने की बात कहते हुए उसे पकड़ लेते हैं। किसानो की सहायता के लिए उन्होंने 20 नग बैल जांजगीर चांपा जिले के शिवरीनारायण से वाहन क्रमांक सीजी 14 एसी 1734 से लाने देने के लिए सहयोग के लिए पत्र जारी किया था। इस पत्र के आधार पर संबंधित किसान कृषि कार्य के लिए मवेशी ला चुके हैं। इस बीच उन्हें सोशल मीडिया से जानकारी मिली कि रायगढ़ जिले के खरसिया पुलिस ने अवैध रूप से मवेशी परिवहन करते हुए कांसाबेल थाना क्षेत्र के लपई निवासी गुरूदेव सिदार को पकड़ा है। इस दौरान आरोपी गुरूदेव द्वारा उनके द्वारा कृषि कार्य के लिए मवेशी परिवहन में सहयोग देने के लिये जारी किये गए पत्र का दुरूपयोग की है। निज सहायक अकाश गुप्ता के मुताबिक आरोपी गुरूदेव ने उनके पत्र के संबंध में भ्रामक जानकारी दे कर उसका दुरूपयोग किया है। शिकायत में उन्होंने आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 420 के तहत कार्रवाई की मांग की है।
यह है मामला : रायगढ़ जिले की खरसिया पुलिस ने अवैध रूप से पैदल हांक कर ले जाए जा रहे 54 मवेशियों के साथ दो आरोपियों को गिरपफ्तार किया है। इस दौरान पुलिस को आरोपियों के पास से केन्द्रीय मंत्री विष्णुदेव साय के लेटरपैड में जारी किया गया पत्र मिला है। इस पत्र में मंत्री के द्वितीय निज सचिव आकाश गुप्ता के हस्ताक्षर के साथ सील भी लगी हुई है।

Ad Block is Banned