जांच दल को ग्रामीणों ने लौटाया बैरंग

ग्रामीणों ने कहा आप करोगे लीपा पोती, जिला मुख्यालय की जांच टीम से हो जांच

By: Barun Shrivastava

Published: 24 Jul 2018, 08:08 AM IST

जशपुरनगर. जिले के जोकबहला ग्राम पंचायत में ग्रामीणों की एक शिकायत पर जांच करने गए जांच दल को ग्रामीणों ने बैरंग वापस भेज दिया। ग्रामीणों ने गांव में पंहुचे जांच दल को कहा कि हम आप से जांच नही कराएंगे और न ही हमे आपकी जांच पर भरोसा है। ग्रामीणों की खरी खरी सुनने के बाद जांच दल एक मिनट भी वहां नही रुका और पंचनामा का पेपर फाड़कर वहां से चलते बने। 15-20 दिन पहले जोकबहला गांव के लोगो ने सरकारी बोरिंग पर निजी कब्जा करने, पीएम आवास में गड़बड़ी करने एवं राशनकार्ड में भारी हेरा फेरी की शिकायत कलक्टर के जनदर्शन में किया था। ग्रामीणों की शिकायत करने के बाद कलक्टर ने उन्हें मामले की जांच कराने का आश्वाशन दिया था। लेकिन सोमवार को जब कुनकुरी जनपद पंचायत के अधिकारी मामले की जांच करने के लिए वहां पंहुचे तो ग्रामीणों ने उन्हें देखते ही अपनी नाराजगी जताना शुरु कर दिया। ग्रामीणों का कहना है कि जांच करने आई टीम के उपर उन्हें भरोसा नहीं है वे सिर्फ खानापूर्ती करने के लिए जांच के लिए आए हुए हैं।
जिला स्तर के अधिकारी करें जांच : ग्रामीणों का कहना है कि जब तक जिला स्तर के अधिकारी इस मामले की जांच करने के लिए नहीं पंहुचेंगे तब तक वे अन्य किसी को मामले की जांच करने नहीं देगें। क्योंकि जिला स्तर के अधिकारियों के जांच से ही संतुष्टी मिलेगी। जांच टीम को ग्रामीणों ने साफ कह दिया कि उनकी जांच पर उन्हें भरोसा नहीं है, इसलिए वे इस मामले की जांच उनसे नहीं करवाना चाहते हैं। ग्रामीणों की बात सुनकर जांच टीम वहां से बगैर जांच के ही वापस लौट गए।

पेंशन की राशि लूटने वाला आरोपी गिरफ्तार
जशपुरनगर. बैंक से पेंशन की राशि निकालकर घरेलू सामान खरीदने आए रिटायर्ड शिक्षक से 18 हजार रुपए लूट करने वाले एक आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार करने में सफलता पाई है। घटना कांसाबेल थाना क्षेत्र की है।
मामले के संबंध में मिली जानकारी के अनुसार बीते 21 फरवरी को नकबार पंडरीपानी निवासी सेवानिवृत्त शिक्षक प्रभुदयाल एक्का घरेलू सामान खरीदने के लिए पेंशन की राशि निकालने कासांबेल भारतीय स्टेट बैंक आए हुए थे। बैंक से उन्होंने 20 हजार रुपए निकाले और उसे एक थैला में रखा। बताया जाता है कि उस वक्त आरोपी उन्हे वाच कर रहे थे। पैसा निकालने के बाद उन्होंने 2 हजार रुपए का सामान खरीदा। सामान खरीदने के बाद प्रभुदयाल बस स्टैंड तिराहा के पास बस का इंतजार कर रहे थे। इसी दौरान बाइक में एक आरोपी आया और उसने मदद का ऑफर देते हुए कहा कि मैं भी आपके गांव की ओर ही जा रहा हूंए छोड़ दूंगा। बुजुर्ग शिक्षक लिफ्ट मिलने से खुश होकर उसके साथ बैठ गए। रास्ते में बटईकेला के आगे जंगली रास्ते की ओर बाइक ले गया। आगे रास्ते में आरोपी का दूसरा साथी छिपकर बैठा था। योजनाबद्ध तरीके से पैसे लूट लिए थे।

Barun Shrivastava Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned