गिरफ्तारी के डर से फरार बाहुबली धनंजय सिंह आखिरी दिन पत्नी के चुनाव प्रचार में पहुंचे , तस्वीरें हुईं वायरल

धनंजय सिंह (Dhananjay Singh) को गिरफ्तार करने के लिये खोज रही है पुलिस। पत्नी के नामांकन के दिन धनंजय की तलाश में उनके आवास पर की लखनऊ पुलिस ने छापेमारी। हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने भी धनंजय सिंह को दिया है दो सप्ताह में सरेंडर करने का आदेश।

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

जौनपुर. पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की हत्याकांड में आरोपी बाहुबली पूर्व सांसद की अपनी पत्नी के पक्ष में चुनाव प्रचार थमने से पहले की तस्वीरें सामने आयी हैं। धनंजय सिंह की पत्नी जौनपुर से जिला का चुनाव लड़ रही हैं। उनके समर्थन में एमएलसी बृजेश सिंह प्रिंसू के साथ धनंजय सिंह के जनसंपर्क करने की तस्वीरें सामने आयी हैं। जो तेजी से वायरल हो रही हैं। पत्रिका वायरल तस्वीरों की पुष्टि नहीं करता।


पत्नी ने जिस दिन नामांकन किया था उसदिन धनंजय सिंह के वहां मौजूद रहने का इनपुट मिलने के बाद लखनऊ पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार करने के लिये उनके आवास पर छापेमारी की थी। पर वहां धनंजय सिंह नहीं मिले थे। बड़ी बात ये कि पुलिस इधर बीच लगातार धनंजय सिंह की तलाश में जुटी हुई है।

 

इसी बीच धनंजय सिंह की ओर से अपनी गिरफ्तारी पर रोक लगाने की याचिका पर इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच दो सप्ताह के भीतर धनंजय सिंह को सरेंडर करने का आदेश दिया है। कोर्ट ने कहा है कि धनंजय सिंह पहले सरेंडर करें उसके बाद जमानत के लिये अर्जी दाखिल करें।

 

बताते चलें कि अजीत सिंह हत्याकांड में आरोपी धनंजय सिंह पर गिरफ्तारी की तलवार लटकी तो 2017 में जौनपुर के खुटहन थाने में दर्ज पुराने मामले में धनंजय सिंह ने एमपीएमएलए कोर्ट प्रयागराज में सरेंडर कर दिया। धनंजय को नैनी जेल भेजा गया, लेकिन वहां अपनी जान को खता बताकर बाहुबली ने फतेहगढ़ जेल ट्रांसफर करा लिया। इसके बाद गुपचुप तरीके से जमानत कराकर धनंजय सिंह जेल से रिहा होकर फरार हो गए, जबकि पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रही।

By Javed Ahmad

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned