जौनपुर में हिंदी पत्रकारिता दिवस मनााया गया

जौनपुर में हिंदी पत्रकारिता दिवस मनााया गया
Journalism Day

 कहीं केक कटा तो कहीं हुई गोष्ठी

जौनपुर. सोमवार को पत्रकारिता दिवस के अवसर पर जिले भर में गोष्ठी एवं अन्य कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। पूर्वांचल विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग में भावी पत्रकारों और शिक्षकों ने केक काटकर एक दूसरे को बधाई दी। वहीं पत्रकार भवन में गोष्ठी का आयोजन कर पत्रकार और पत्रकारिता की दशा पर चर्चा की गई।

गोमती जर्नलिस्ट एसोसिएशन एवं उत्तर प्रदेश श्रमजीवी पत्रकार यूनियन (पं.) ने संयुक्त रूप से पत्रकार भवन में गोष्ठी का आयोजन किया। गोष्ठी में संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग के विभागाध्यक्ष डाॅ तुलसी दास मिश्र ने कार्यक्रम में शिरकत की कहा भाषा के प्रश्न पर सम्पादकों व संवाददाताओं को सावधान रहना चाहिये। वाराणसी के वरिष्ठ संवाददाता दीनबन्धु राय ने कहा कि समाचार में सत्यता, जनहित व संक्षिप्तता का ध्यान अवश्य रखना चाहिये। खबरों का अनावश्यक विस्तार अनुचित है।  इसके पहले मंचासीन अतिथियों ने मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्वलन करके कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। 

वरिष्ठ पत्रकार श्याम नारायण पाण्डेय ने कहा कि 30 मई 1826 को पं. जुगल किशोर शुक्ल द्वारा उदण्त मार्तण्ड प्रकाशित किया गया लेकिन तत्कालीन शासन-प्रशासन और सरकार का शिकार होकर 11 दिसम्बर 1927 को बंद हो गया। सम्पादक जय प्रकाश मिश्र, अजय पाण्डेय, सम्पादक रामजी जायसवाल, सुबास पाण्डेय, डा. गुलाब मौर्य, संजय अस्थाना, डा. यशवंत सिंह, अनिल दूबे आजाद सहित अन्य वक्ताओं ने अपना विचार व्यक्त किया। पूर्वान्चल विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग में सोमवार को हिन्दी पत्रकारिता दिवस मनाया गया।  विभागाध्यक्ष डा. अजय प्रताप सिंह ने कहा कि आज भी हिन्दी पत्रकारिता का समाज में महत्वपूर्ण स्थान है। हिन्दी पत्रकारिता ने समाज के मनोविज्ञान को समझा है। प्राध्यापक डा. अवध बिहारी सिंह ने कहा कि तिलक, गांधी और भगत सिंह सहित आजादी के दौर के प्रायः सभी क्रांतिकारियों-राजनेताओं ने मिशन के लिए पत्रकारिता का सहारा लिया। 

वह भी भाषायी पत्रकारिता, खासकर हिंदी पत्रकारिता का, ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों तक अपनी बात पहुंचाई जा सके। डा. सुनील कुमार ने कहा कि समूचे विश्व में पत्रकारिता आज भी संघर्ष और जज्बे का पेशा है।  डा. रूश्दा आजमी ने कहा कि आज विद्यार्थियों को पत्रकारिता के क्षेत्र में अपडेट रहने की जरूरत है। इस दौरान छात्रों ने केक काटकर एक दूसरे को बधाई दी। कार्यक्रम में अब्दुल अहद आजमी, अंकित जायसवाल, मनीष श्रीवास्तव, नरेन्द्र गौतम सत्यम श्रीवास्तव, अभिषेक श्रीवास्तव, पंकज प्रजापति, पंकज मिश्रा, रणधीर सिंह, मूलचन्द्र विश्वकर्मा, दिग्विजय मिश्र, दीपक अग्रहरि, शायली मौर्या, शुभांशू जायसवाल, राहुल शुक्ला, सौम्या श्रीवास्तव, एहसान हाशमी सहित शिक्षक, विद्यार्थी मौजूद रहे।

शाहगंज के एराकियाना मोहल्ला स्थित मैरेज हाल पर गोष्ठी का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में पत्रकारिता के मिशन में शहीद हुए पत्रकारों की आत्मा की शान्ति के लिए दो मिनट का मौन धारण कर श्रद्धांजलि अर्पित किया। पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए पत्रकार एखलाक खान ने कहा कि 190 वर्षों की पत्रकारिता में काफी चढ़ाव उतार देखने को मिले। अध्यक्षता वरिष्ठ पत्रकार कयामुद्दीन व संचालन गुलाम साबिर ने किया। शारिक खान ने आगंतुकों का आभार प्रकट किया। इस अवसर पर फहद खान, विवेक गुप्ता, छेदीलाल वर्मा, इकरार खान, फैजान अंसारी, ज्या अनवर आदि मौजूद र
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned