एसपी कार्यालय के सामने आत्महत्या करने पहुंचे एक ही परिवार के पांच लोग, अचानक पड़ी पुलिस की नजर तो...

एसपी कार्यालय के सामने आत्महत्या करने पहुंचे एक ही परिवार के पांच लोग, अचानक पड़ी पुलिस की नजर तो...
एसपी कार्यालय के सामने आत्महत्या करने पहुंचे एक ही परिवार के चार लोग, अचानक पड़ी पुलिस की नजर तो...

Ashish Kumar Shukla | Publish: Jul, 20 2019 03:29:40 PM (IST) | Updated: Jul, 20 2019 03:43:16 PM (IST) Jaunpur, Jaunpur, Uttar Pradesh, India

ज़मीन विवाद में पुलिस ने दबंगों के खिलाफ नहीं की कार्रवाई तो उंडेला केरोसिन

जावेद अहमद
जौनपुर. एसपी कार्यालय के सामने शनिवार को उस समय हड़कम्प मच गया जब एक परिवार ने तीन मासूम बच्चों के साथ आत्मदाह के लिए खुद पर केरोसिन उंडेल लिया। परिवार आग लगाने ही जा रहा था कि कुछ दूर मौजूद सिपाही दौड़ पड़े। सभी को पकड़ कर आग लगाने से रोक लिया। इसके बाद केरोसिन में लतपथ ही लेकर एसपी के सामने पहुंचे। एसपी ने देखा तो उनके भी होश उड़ गए। वजह पूछने पर दंपती ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से पट्टीदारों के बीच जमीनी विवाद चल रहा है ।आए दिन दबंग पट्टीदार गोलबंद होकर घर पर चढ़कर जान से मारने की धमकी दिया करते हैं । पुलिस से न्याय की गुहार लगाने पर कोई कारवाई नहीं होती । आजिज़ आकर तीनों बच्चों संग आत्मदाह का फैसला किया

ये परिवार केरोसिन से तर बतर है। कुछ ही देर पहले तीनों बच्चों संग ये जल मरने के लिए कोशिश करते पकड़ लिए गए। दरअसल दबंगों के खिलाफ पुलिस से शिकायत करते करते थक गए तो आज सुबह एसपी कार्यालय के सामने पहुंच गए। हाथ में तेल का गैलेन और मौत के खौफ से अनजान तीन मासूम बच्चों को भी साथ लेते आए। देखते ही देखते दंपती ने पांचों पर मिट्टी का तेल छिड़क लिया। माचिस की डिब्बी निकाल आग लगाने का प्रयास कर ही रहे थे कि कुछ पुलिस वाले शोर मचाते हुए परिवार की ओर दौड़ पड़े।

सभी को काबू में करके वहां से हटाया और उनको पुलिस अधीक्षक के सामने पेश किया गया । एसपी ने आत्मदाह की वजह पूछी तो रोते हुए बताया कि उसका नाम राजेन्द्र विश्वकर्मा है। वो सुजानगढ़ थाना क्षेत्र के नेवली गांव का रहने वाला है। आरोप लगाया कि पिछले कुछ दिनों से गांव में पट्टीदारों के बीच जमीन को लेकर विवाद चल रहा है । आये दिन दबंग पट्टीदार गोलबंद होकर घर पर चढ़ आते हैं। जान से मारने की धमकी दिया करते हैं। पुलिस को सूचना दी जाती थी तो थाने वाले मामले को नजरअंदाज कर देते । जिससे दबंगों के हौसले और भी बुलंद हो जाते। इंसाफ न मिलने से पीड़ित और पुलिस के रवैये से आजिज़ आकर कार्यालय के सामने मिट्टी का तेल छिडक कर जान देने का प्रयास किया।

पीड़ित दंपती का दर्द सुना तो एसपी ने मामले की जांच के लिए मातहतों को निर्देशित किया। पट्टीदारों पर करवाई करते हुए परिवार को सुरक्षा देने को भी कहा। परिवार को भी इंसाफ दिलाने का भरोसा दिया। हालांकि सोनभद्र में जमीनी विवाद मे हुए नरसंहार के बाद यूपी के मुखिया योगी आदित्य नाथ ने पुलिस अफसरों को कड़े दिशा निर्देश दिए हैं कि जमीन विवाद मामले को नजरअंदाज न करें। लेकिन जौनपुर में आये दिन आ रहे जमीन विवाद मामले को पुलिस नजरअंदाज करती दिखाई दे रही है। समय रहते जौनपुर पुलिस जमीन विवाद को सुलझाने में कामयाब नहीं हुई तो यहां भी सोनभद्र जैसी तस्वीर देखने को मिल सकती है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned