दहेज की लालच में बहू को चलती ट्रेन से फेका

दहेज की लालच में बहू को चलती ट्रेन से फेका
Dowry

शाहगंज स्टेशन के आउटर पर मिला शव, पुलिस मामले की जांच में जुटी

जौनपुर. काफी पंचायत के बाद बहू ससुराल जाने को तैयार हुई तो दहेज के दानवों ने उसे चलती ट्रेन से फेंक दिया। हादसे में बहू की मौत हो गई। उस पर दिलेरी ये कि मायका पक्ष को फोनकर बताया जाता है कि उनकी बेटी शाहगंज स्टेशन पर पानी लेने उतरी लेकिन वापस नहीं आ सकी। मामला शाहगंज कोतवाली के ताखा पश्चिम रेलवे लाइन की है। जहां शुक्रवार की दोपहर एक अज्ञात लाश मिली। देर रात इस लाश की शिनाख्त अंबेडकर नगर के हंसवर थानांतर्गत मकरही निवासी हनुमान गुप्ता की बेटी पिंकी के रूप में हुई।
पिंकी की शादी 29 जनवरी 2015 को अंबेडकर नगर के ही बसखारी थानांतर्गत किछौछा गांव निवासी मुलई अग्रहरि के बेटे मनोज अग्रहरि के साथ हुई थी। मनोज का परिवार काम धाम के सिलसिले से कोलकाता में रहता है। हनुमान गुप्ता ने शादी तय करने के दौरान किए गए सारे वादे पूरे किये थे। वे सारे दहेज दिये जो ससुरलियों ने मांगा था। शादी के बाद मनोज और पिंकी को एक बेटा भी है। लेकिन पिछले कुछ दिनों से ससुराल वाले पिंकी पर और दहेज लाने का दबाव बना रहे थे। पिंकी ने इंकार किया तो उसे प्रताड़ित करने लगे। कुछ दिनों पहले पिंकी घर आई तो ससुराल में हुए सारे जुल्म उसने परिजनों को बताया। 
इस बात पर हनुमान गुप्ता ने मुलई गुप्ता के साथ एक सप्ताह पहले पंचायत भी की। पंचायत मंे तय हुआ कि अब दहेज की मांग नहीं की जाएगी। बहू को राजी खुशी ससुराल में रखा जाए। शुक्रवार को निर्धारित दिन मुलई, मनोज और सास सुशीला देवी पिंकी की विदाई लेने उसके घर पहुंचे। सभी उसे लेकर देहरादून एक्सप्रेस से कोलकाता जाने के लिए निकले। इसी बीच दोपहर करीब तीन बजे शाहगंज के ताखा पश्चिम आउटर पर एक युवती का शव मिला। पुलिस ने शिनाख्त कराने की कोशिश की लेकिन कोई पहचान नहीं सका।
फिर उस शव का पंचनामा करवाकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया। शाम करीब पांच बजे मुलई ने हनुमान गुप्ता को फोनकर बताया कि पिंकी शाहगंज स्टेशन पर पानी लेने के लिए उतरी लेकिन स्टेशन पर ही छूट गई। हमसभी जौनपुर उतर कर वापस शाहगंज आ रहे हैं। आप में से कोई शाहगंज स्टेशन पहुंचे। खबर मिली तो मायके में कोहराम मच गया। हनुमान गुप्ता अपने कुछ शुभचिंतकों के साथ भागे-भागे शाहगंज स्टेशन पहुंचे। वहां उन्होंने पिंकी को बहुत तलाश किया लेकिन कोई सुराग नहीं लग सका। रात करीब नौ बजे तक परिजनों ने पिंकी की तलाश की लेकिन कुछ पता नहीं चला। इसी बीच किसी ने बताया कि दोपहर में एक युवती का शव शाहगंज स्टेशन के पहले आउटर पर मिला था। उसे देख लें। लेकिन मायका पक्ष को लगा कि पिंकी तो स्टेशन पहुंच चुकी थी। फिर स्टेशन से पहले मिला शव उसका कैसे हो सकता है। फिर भी परिजन पता करने कोतवाली पहुंच गए। वहां कोतवाल शिवाकांत यादव ने शव के कपड़े परिजनों को दिखाए तो हनुमान गुप्ता ने बिना एक पल गंवाए उसे पिंकी का कपड़ा बता दिया। इसके बाद फूट-फूट कर रोने लगे। हनुमान गुप्ता ने पुलिस को तहरीर देकर आरोप लगाया कि दहेज की लालच में ससुराल वालों ने पिंकी को चलती ट्रेन से धक्का देकर मारा डाला। पुलिस तहरीर लेकर जांच में जुट गई है। 
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned