सपा ने जीता उपचुनाव, जौनपुर की इस सीट पर भाजपा की करारी हार

यूपी के जौनपुर में बरसठी ब्लॉक प्रमख की सीट पर सपा की बड़ी जीत, उपचुनाव में बीजेपी प्रत्याशी को बड़े अंतर से हराया।

जौनपुर. लगातार दिग्ग्ज नेताओं के पार्टी छोड़ने से परेशान अखिलेश यादव और समाजवादी पार्टी के लिये यह खबर बड़ी खुशखबरी से कम नहीं। जौनपुर में हुए एक उपचुनाव में समाजवादी पार्टी ने जीत हासिल की है। इस सीट पर पहले भी सपा का ही कब्जा था। जनप्रतिनिधि की मौत के बाद यह सीट खाली हुई थी, जिसपर हुए उपचुनाव को जीतकर सपा ने सीट बचाने में कामयाबी हासिल की।

 

दरअसल जौनपुर के दिग्गज सपा नेता और कभी मिनी मुख्यमंत्री कहे जाने वाले पारसनाथ यादव की पत्नी कलावती यादव बरसठी की ब्लॉक प्रमुख थीं। वह चुनाव तब जीती थीं जब सपा की सरकार थी और खुद पारसनाथ मंत्री थे, जिनकी तूती बोलती थी।

 

 

Akhilesh Yadav

इसी वर्ष कलावती देवी के निधन के बाद बरसठी ब्लॉक प्रमुख की सीट खाली हो गई। इस बीच हुए विधानसभा चुनाव में समजावादी पार्टी को करारी हार का मुंह देखना पड़ा। बावजूद इसके पासरनाथ यादव अपनी सीट और साख दोनों बचाने में कामयाब रहे। इस चुनाव में पारसनाथ यादव की पुत्रवधू मैदान में थीं। उनके मुकाबले में भाजपा समर्थित प्रत्याशी थे। पर वह 88 वोट पाकर जीत गयीं, जबकि भाजपा समर्थित उम्मीदवार को महज 10 वोट ही मिले।

 

Parasnath Yadav

विधानसभा चुनाव के बाद पारसनाथ यादव के लिये बरसठी ब्लॉक प्रमुख की सीट प्रतिष्ठा का विषय बन गयी। उन्हें किसी भी तरह इस सीट को जीतकर अपना वर्चस्व बचाना था और साथ ही सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को यह संदेश भी देना था कि जहां कई जिलों में जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लॉक प्रमुख की कुर्सी पर लगातार बीजेपी के लोग कब्जा कर रहे हैं। ऐसे वक्त में भी चुनाव लड़कर बड़े अंतर से भाजपा को हराकर पूरी पार्टी को यह बताया जा सकता है कि क्षेत्र में मजबूती और राजनीतिक पकड़ रखकर विपरीत परिस्थितियों में भी जीत हासिल की जा सकती है।

 

 

Parasnath Yadav

भाजपा लहर में भी जीते थे पारसनाथ यादव

बता दें कि 2017 विधानसभा चुनाव में एक ओर जहां समाजवादी पार्टी के कई कद्दावर नेता बीजेपी की लहर में धराशायी हो गए वहीं पारसनाथ यादव जिले की मल्हनी सीट से लगातार दूसरी बार परचम लहराने में सफल रहे। यह पारसनाथ यादव का ही करिश्मा था कि जिले की नौ सीटों में से तीन पर समाजवादी पार्टी ने जीत हासिल कर ली। अपनी सीट पर तो पारस ने विरोधी उम्मीदवार को बड़े अंतर से चुनाव हराया।

 

Parasnath Yadav and Mulayam Singh Yadav

शिवपाल के अलावा सिर्फ पारस के लिये मुलायम सिंह ने किया था प्रचार

पारसनाथ यादव का कद समाजवादी पार्टी में क्या है इसका अंदाजा बस इतने से ही लगाया जा सकता है कि जब अखिलेश यादव टिकट बंटवारे के समय शिवपाल और मुलायम के करीबियों का टिकट काट रहे थे उस समय भी पारसनाथ यादव को मल्हनी विधानसभा से प्रत्याशी बनाया गया। यही नहीं जहां अखिलेश से नाराज मुलायम सिंह यादव प्रचार के लिये शिवपाल यादव के अलावा केवल पारसनाथ के चुनाव में ही आए थे, उन्होंने पारस को जिताने के लिेये जनता से अपील भी की थी।

Show More
रफतउद्दीन फरीद Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned