पति की मौत के बाद ख्याल रखने के बहाने बहन-बहनोई ने बनाया बंधक, हड़प लिए 48 लाख रूपए

भतीजे ने शिकायत तो पुलिस ने कराया मुक्त, अब कार्रवाई की तैयारी...

 

By: ज्योति मिनी

Published: 10 Feb 2018, 01:02 PM IST

जौनपुर. केराकत कोतवाली क्षेत्र के तरियारी गांव में विधवा को बंधक बनाकर बहन व बहनोई ने जबरन उसके खाते से 33 लाख रूपये ट्रांसफर करवा लिए। 15 लाख के गहने भी हड़प लिए। पति की मौत के बाद दोनों साजिश करते हुए उसका ख्याल रखने के बहाने अपने साथ घर ले आए। फंड में मिले पैसों को फिक्स करने का धोखा देकर अपने खाते में डलवा लिया। करीब 6 माह बाद एक रिश्तेदार हालचाल लेने पहुंचा तो मामला खुल गया। शिकायत पर पुलिस ने उसे मुक्त करा लिया।

चन्दवक थाना क्षेत्र के मढ़ी गांव निवासी प्रभा देवी के पति रामजीत का एक वर्ष पूर्व निधन हो गया था। वे एनएफएल में मुख्य अभियंता थे। दोनों को कोई संतान नहीं थी। पति की मौत के बाद तेरहवीं में पहुंचे विधवा की बहन धर्मावती देवी, बहनोई रामकेर और बेटा रविंद्र ख्याल रखने का झांसा देकर अपने घर तरियारी लेते आए। यहां के यूनियन बैंक की शाखा में उनका खाता खोलवाया गया।

इसी में मृतक के फंड के रूपये भी आए। इसके बाद से परिवार वालों ने विधवा का बाहर आना-जाना बंद करवा दिया। विरोध करने पर धमकाते भी थे। एक दिन इस खाते से नौ लाख रूपये निकाल लिए। बाकी रूपयों को फिक्स कराने के नाम पर दो बार में 10 व 14 लाख रूपये तीनों ने अपने खाते में ट्रांसफर करवा लिए। साथ ही करीब 15 लाख के आभूषण भी हड़प लिए।

जनवरी माह में प्रभा देवी के भाई संकठा प्रसाद का बेटा संजय उनकी हालचाल लेने वहां पहुंच गया। उसे देखते ही वो फफक कर रोने लगी। आपबीती सुनाई तो उनकी पासबुक लेकर संजय बैंक पहुंच गया। रूपये निकाले जाने की पुष्टि होते ही कोतवाली पहुंच गया। वहां तहरीर दी लेकिन सुनवाई नहीं हुई।

शुक्रवार को एसडीएम मंगलेश दुबे से शिकायत की तो उन्होंने त्वरित कार्रवाई करते हुए टीम भेज दी। टीम ने दबिश देकर पीड़िता को मुक्त करा लिया। एसडीएम ने बताया कि, पीड़िता की तहरीर के आधार पर मामला दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी। महिला को उनके भाई के सुपुर्द कर दिया गया है।

input-जावेद अहमद

 

 

Show More
ज्योति मिनी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned