जौनपुर में जमीन के विवाद में दो सगे भाइयों समेत तीन की हत्या, एसओ समेत चार पुलिस वाले सस्पेंड किये गए

यूपी के जौनपुर में भूमि विवाद को लेकर दो पक्षों में जमकर लाठी-डंडे और धारदार हथियार चले, जिसमें दो सगे भाइयों समेत तीन की मौत हो गई। इस मामले में पुलिस अधीक्षक ने एसओ समेत चार पुलिस वालों को निलंबित कर दिया है। एक पक्ष के निर्माण कार्य शुरू कराने के बाद शुरू हुआ था संघर्ष।

जौनपुर. खुटहन थाना अंतर्गत फिरोजपुर गांव में जमीन विवाद को लेकर दो पक्षों में हुए खूनी संघर्ष में दो सगे भाइयों समेत तीन की मौत हो गई और 10 लोग घायल हुए। घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वारदात के बाद मौके पर पहुंचे आईजी के निर्देश पर एसओ समेत 4 पुलिस वाले निलंबित कर दिए गए। फिलहाल गांव में तनाव देखते हुए फोर्स तैनात कर दी गई है।

 

खुटहन थानाक्षेत्र के फिरोजपुर गांव निवासी रामचंद्र पासवान और पड़ोसी राम खेलावन पासवान के बीच जमीन को लेकर पुराना विवाद चला आ रहा था। रविवार को विवादित जमीन पर रामचंद्र ने निर्माण शुरु करा दिया। राम खेलावन पक्ष ने विरोध किया तो कहासुनी शुरू हो गई। देखते ही देखते विवाद खूनी संघर्ष में बदल गया। दोनों पक्षों से लाठियां व धारदार हथियार निकल गए और वो एक दूसरे पर टूट पड़े। हमले में दोनों पक्षों के 15 लोग खून से लथपथ होकर जमीन पर गिर पड़े। आनन-फानन में सभी को जिला अस्पताल ले जाया गया। वहां चिकित्सकों ने रामचंद्र पासवान, उनके भाई बैजनाथ पासवान और दूसरे पक्ष के राम खेलावन पासवान को मृत घोषित कर दिया।

 

ट्रिपल मर्डर की जानकारी होते ही पुलिस सकते में आ गई और भारी पुलिस बल मौके पर पहुंचा। पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार खुद दल-बल के साथ जांच करने मौके पर पहुंच गए। गांव में तनाव देखते हुए कई थानों की फोर्स तैनात कर दी गई। इतनी बड़ी घटना के बाद देर शाम आईजी वाराणसी भी मौके पर पहुंच गए। दोनों पक्षों से बातचीत के बाद उन्होंने एसपी को दिशा निर्देश दिया। घटना के बाद देर रात पुलिस अधीक्षक ने इस मामले में पुलिस की लापरवाही के लिये एसओ जगदीश कुशवाहा समेत 4 पुलिस वालों को निलंबित कर दिया।

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned