जिले में 17 हजार 590 राहत कार्य जारी, 43 हजार 281 श्रमिकों को रोजगार

अधिकतर मजदूर थोड़ी बहुत खेती पर निर्भर, साथ ही बाहर से आए अधिकांश मजदूर घरों पर ही बेरोजगारी का दंश झेल रहे

By: kashiram jatav

Published: 05 May 2020, 11:38 PM IST

झाबुआ. जिले के मजदूरों के लिए राहत की खबर है। यहां के और यहां से बाहर गए मजदूर जो अब लौट आए हैं, उनको रोजगार मिल गया है। इससे बाजार में भी रौनक देखने को मिल रही है। वहीं अधिकतर मजदूर थोड़ी बहुत खेती पर निर्भर हैं। साथ ही बाहर से आए अधिकांश मजदूर घरों पर बेरोजगारी का दंश झेल रहे हैं।

मंगलवार को ग्रामीणों की भीड़ रही। पर सभी बीमारी को लेकर सतर्क दिखे। एक-दूसरे से दूरी बनाकर चले। साथ ही मास्क और गमचा पहने रहे। वहीं भुखमरी के कगार पर पहुंच चुके गरीबों को काम मिलने रहा है। इससे बड़ी राहत मिली है। महात्मा गांधी नरेगा के तहत जिले में 17 हजार 590 राहत कार्य किए जा रहे हैं। इसमें 43 हजार 281 श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध हो रहा है। इस योजना के तहत झाबुआ में 3 हजार 718 , मेघनगर में 2 हजार 329, पेटलावद में 3 हजार 38 3, रामा में 2 हजार 261, रानापुर में 3 हजार 121, और थांदला जनपद पंचायत क्षेत्र में 2 हजार 778, राहत कार्य चल रहे हैं। इन कार्यों में झाबुआ में 5 हजार 091, मेघनगर में 7158, पेटलावद में 11 हजार 6 8 5, रामा में 7 हजार 420, रानापुर में 4 हजार 163, और थांदला जनपद पंचायत क्षेत्र में 7 हजार 76 4 श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है।

11 अन्य कंाउटर ट्रेंच के कार्य किए जा रहे हैं
&जिले में कपिल धारा योजना के तहत 2 हजार 929 कूप, 1 हजार 96 0 सार्वजनिक कूप, 1 हजार 6 4, नदी पूनर्जीवन कार्य, 1 हजार 352, प्लानटेसन के कार्य, 8 30 तालाब, 9 खेत तालाब, 1 अन्य बोल्डर चैक का कार्य, तथा 11 अन्य कंाउटर ट्रेंच के कार्य किए जा रहे हैं।
-दिनेश वर्मा, अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत।

kashiram jatav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned