1 करोड़ 42 लाख रु.की राशि मिली, पर केबल नहीं लग पाई

कई मोहल्ले जहां वर्षों पुराने तारोंं रिपेयर कर चला रहे हैं काम

By: kashiram jatav

Published: 28 May 2020, 11:16 PM IST

राणापुर. केंद्र सरकार की योजना आईपीडीएस (इंट्रीग्रेटेड पावर डेवलोपमेन्ट स्कीम) के तहत राणापुर के लिए लगभग 3 वर्ष पूर्व नगर की विधुत प्रणाली के सशक्तिकरण के लिए 1 करोड़ 42 लाख रु. का आवंटन हुआ था। असका कार्य गत वर्ष 03-04-2017 को चालू होकर 2 वर्ष में पूर्ण करना था। नगर के कुछ कुछ जगहों पर केबल लगा दी गई , लेकिन आज भी कई मोहल्ले है जहां पर वर्षों पुराने तार लग हुए है, जिन्हें रिपेयर कर काम चला रहे हैं । कई घरों ऊपर तारों का झुंड लगा हुआ । पुलिस थाने पर कई वर्षों से लगी डीपी की हालत इतनी खस्ता हो गई किसी कोई बड़ी अनहोनी हो सकती है।

इस डीपी के पास कितनी लोगो ंकी दुकानों लगी रहती है
मेंटेनेस के नाम पर घंटों बिजली बंद : मेंटेनेंस के नाम पर विभाग घंटों बिजली काट देता है जिससे लोगों को कई तरह की परेशानी का सामना करना पड़ता है। सरकारी दफ्तरों में जो टेलीफोन होते हैं वह वहां पर नगर के लोग फोन लगाकर अपनी समस्या उन्हें अवगत कराते हैं कि उन्हें क्या समस्या है , लेकिन यहां तो राणापुर के विद्युत कंपनी के टेलीफोन महीनों से खराब पड़े हैं। फोन लगता ही नहीं है। जब लोग इस भीषण गर्मी में कोई समस्या लेकर इस लॉक डाउन में पैदल चलकर बिजली विभाग जाते हैं। उनकी कोई सुनवाई नहीं की जाती है।

जहां जरूरत थी वहां लगाई नहीं
न गर में सुभाष चौपाटी, चंद्रशेखर आजाद मार्ग, पुलिस थाना तिराहा ऐसे कई वार्ड और मोहल्ले हैं जहां नीचे तक तार लटके हुए हैं। इन सभी मोहल्लों में यह केबल लगवानी थी, लेकिन इसके उल्टा विद्युत कंपनी द्वारा नगर के बाहर के इलाकों में केवल लगा दी गई, जबकि इसकी सबसे ज्यादा जरूरत नगर के रहवासी इलाके में थी जहां पर। तार टूटने फाल्ट होने व कोई बड़ी घटना होने का अंदेशा लगातार बना रहता है।

वापस योजना रिवाइज होगी तो ये काम होगा
&आईपीडीएस योजना में जो पैसा आया था , उससे केबल नगर में लगा दी है। अब कभी योजना रिवाइज़ होगी तो ये काम होगा। हमारी टीम को नगर के मोहल्लों में लोगों ने पोल लगाने की अनुमति नहीं दी थी। जिससे हमने फिर दूसरी जगह प्रजापत मोहल्ला, मालीपुरा में पोल लगाए है। पत्र लिखा है। इस समस्या के बारे चंदशेखर आज़ाद मार्ग में रोजाना तार टूटते देखते यूजर अधिकारी क्या निर्णय लेते है।

-मुकेश परमार , जेई विद्युत विभाग राणापुर।

&जब भी विद्युत विभाग में फोन लगाना पड़ता है तो वहां का नंबर हमेशा बंद ही आता है। फोन लगता ही नहीं है। अगर कोई घटना होती है या कोई तार फाल्ट होता है तो हम उसकी सूचना विभाग को कैसे देंगे ।

-नारायण जैन , पार्षद वार्ड 5

kashiram jatav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned