बसें प्लेटफॉर्म पर खड़ी नहीं होती, अनाउंसमेंट भी नहीं होता

बस स्टैंड पर अव्यवस्था : प्रतिदिन 8 से 10 हजार यात्री आते हैं, सुविधाओं के नाम पर यहां पानी तक उपलब्ध नहीं

झाबुआ. पिछली सरकारों ने यहां अत्याधुनिक बस स्टैंड बनाने की घोषणाएं की, लेकिन घोषणाओं को धरातल पर उतारने के लिए कोई प्रयास नहीं किए। अधिकारी एक-दूसरे पर डालकर अपने कर्तव्य से पल्ला झाड़ते रहे।

वर्ष 2014 में तत्कालीन कलेक्टर बी चंद्रशेखर ने बस स्टैंड के ठेला व्यवसायियों एवं अन्य अतिक्रमण को हटाकर बस स्टैंड को व्यवस्थित किया था। उस समय प्लेटफॉर्म बनाकर बस स्टैंड को तय समय सीमा अनुसार प्लेटफॉर्म पर खड़ा किया जाता था एवं गाडिय़ों के आने-जाने के समय का अनाउंस किया जाता था, लेकिन उनके जाते ही बस स्टैंड की हालत पहले से भी बदतर हो गई। बस स्टैंड पहुंचने वाले मार्ग पर विजय स्तंभ चौराहे से बस स्टैंड तक रोड के दोनों तरफ हाथ ठेला खड़े कर व्यापार किया जा रहा है। बीच रोड पर खड़े रहकर ग्राहक खरीदारी कर रहे हैं। बस स्टैंड पहुंचने वाला मार्ग संकीर्ण है। इसके बावजूद मार्ग पर डिवाइडर बनाया गया।

बस स्टैंड पर प्रतिदिन डेढ़ सौ बसें पहुंचती है। प्रतिदिन 8 से 10000 हजार यात्री बसों में सफर करते हैं, लेकिन सुविधाओं के नाम पर यहां पर पानी भी उपलब्ध नहीं है। बसें खड़ी करने के स्थान पर आवारा मवेशी का जमघट लगा रहता है। इससे यात्रियों में असुरक्षा का माहौल बना हुआ है। यात्री प्रतीक्षालय के मुख्य द्वार पर दो पहिया वाहन की पार्किंग की जा रही है। बसों के खड़े रहने के लिए बनाए प्लेटफार्म पर हाथ ठेला लगाकर व्यापार किया जा रहा है। बस स्टैंड पहुंचने के लिए एकांकी मार्ग नहीं होने से बसों के सामने दोपहिया वाहन चालक आ चुके हैं, कई बार बस स्टॉफ से झड़प हो चुकी है। दोनों छोर पर फल बेचने वाले लोग व्यापार करते हैं। कभी भी वाहन के स्टेरिंग या ब्रेक फेल हुए तो बहुत बड़ा हादसा घट सकता है।
स्थानांतरित किया जाना चाहिए
मध्यप्रदेश चालक परिचालक जिला अध्यक्ष सोनू अली एवं प्रदेश संगठन मंत्री हाजी लाला ने बताया कि अतिक्रमण के कारण बस स्टैंड में अव्यवस्था फैल रही है। कुछ समय के लिए बस स्टैंड को विजय स्तंभ चौराहा अथवा दिलीप सिंह भूरिया प्रतिमा पर स्थानांतरित किया जाना चाहिए।
अतिक्रमण मुक्त करने की योजना तैयार
&बस स्टैंड को अतिक्रमण मुक्त करने की योजना तैयार है। इसके लिए जरूरी आदेश सभी संबंधित विभागों जारी कर दिए हैं। जल्द ही यहां पहुंचने वाले मार्ग के दोनों ओर बैठे व्यापारियों को हटाया जाएगा।
-बीएस भिलाला, तहसीलदार

kashiram jatav
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned