Rampage : बसें जब्त होने पर आक्रोशित चालकों ने किया हंगामा

चालकों के लायसेंस निरस्त करने के निर्देश, कार्रवाई के दौरान यात्री होते रहे परेशान
बकाया टैक्स और फिटनेस नहीं होने पर आरटीओ ने दो बसों को किया जब्त

By: tarunendra chauhan

Updated: 20 Feb 2021, 01:54 AM IST

झाबुआ. आरटीओ ने शुक्रवार को बस स्टैंड का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान बकाया टैक्स जमा नहीं करने पर दो बसों को जब्त किया। दोनों बसों में सफर कर रहे यात्रियों को उतार दिया गया। आरटीओ ने एक बस में जरूरत से ज्यादा सवारी बैठाने और फिटनेस नहीं होने पर नाराज होते हुए ड्राइवर का लाइसेंस निरस्त करने की बात कही। तीन बसों एमएच 31 सीबी 5788 भोलेनाथ बस, गुर्जर बस एमपी 11 पी 6642 ए व एमपी 09 एफए 2802 चंबोड बस पर कार्रवाई करने के बाद आरटीओ वहां से चले गए। करवाई के बाद घंटों तक यात्री धूप में खड़े होकर दूसरी बस का इंतजार करते रहे। बस स्टैंड पर आने जाने वाले यात्रियों के लिए कोई शेड का इंतजाम नहीं है।

यात्री हुए परेशान
सुरडिया निवासी मानसिंह मेड़ा ने बताया कि झाबुआ काम से आया था। अपनी बेटी को लेने कुंदनपुर जाना था । टैक्स बकाया, फिटनेस निरस्त कह कर बस से उतार दिया। गांव जाने के लिए अब दूसरी बस भी घंटों बाद मिलेगी। डूंगरा लालू रहने वाली जंगी पति अन्नू गुंडीया को 15 दिन का बेटी के साथ कुंदनपुर जाने वाली बस से उतार दिया। 2 घंटे धूप में खड़ी थी।

आक्रोशित बस चालकों ने हंगामा मचा दिया
निजी बस चालक परिचालक संघ के अध्यक्ष हाजी लाला एवं सचिव सोनू अली के साथ खड़े लगभग एक दर्जन बस ड्राइवरों ने हंगामा मचा दिया। पत्रिका को बताया कि आरटीओ खानापूर्ति कार्रवाई कर रहे हैं। आरटीओ ने पक्षपातपूर्ण कार्रवाई की। 15 मिनट में बस स्टैंड पर 3 बसों कि चेकिंग की है,जबकि सुबह से रात तक बस स्टैंड पर डेढ़ सौ से अधिक बसें पहुंचती है। इसके अलावा 70 बसें ऐसी हैं जो बस स्टैंड पर नहीं पहुंचती और ग्रामीण रूटों पर चलती है। इन बसों में सभी मापदंडों को ताक पर रखा गया है। इनपर कार्रवाई नहीं कर रहे हैं।

बस स्टैंड पहुंच मार्ग पर अतिक्रमण
पिछले 2 सालों से हम बस स्टैंड आने वाले मार्ग और जाने वाले मार्ग पर अतिक्रमण हटाने की बात कर रहे हैं। बसों के आने-जाने वाले मार्ग के दोनों तरफ फल-सब्जी विक्रता बैठ जाते हैं। उनके साथ में अन्य ठेला गाडिय़ां खड़ी रहती है। यदि किसी बस के स्टेयरिंग या ब्रेक फेल हो गया तो बड़ा हादसा हो सकता है। बस स्टैंड में बस के आने जाने वाले मार्ग को अतिक्रमण मुक्त करने के लिए पिछले 2 सालों से लगातार मांग की जा रही है, जिस पर आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई।

कार्रवाई में भेदभाव का आरोप
भोलेनाथ बस के ड्राइवर का लाइसेंस निरस्त करने की बात सुनकर बस स्टैंड पर खड़े दूसरे ड्राइवर अपने साथी के साथ हुई घटना के विरोध में जमा होने लगे। बस चालक परिचालक संघ के सदस्यों ने आरटीओ की कार्रवाई पर आपत्ति लेते हुए बताया कि मध्य प्रदेश राज्य परिवहन निगम ने 31 मार्च तक गाडिय़ोंं के कागज नहीं होने की दशा में भी चालन नहीं काटने का नियम बनाया था, जिसे दरकिनार करते हुए आरटीओ ने बस जब्त कर ली।आरटीओ की कार्रवाई 15 मिनट में खत्म हो गई। यहां खड़ी 8 बसों में सिर्फ तीन बसों की जांच की । यह विभागीय कार्रवाई की जगह द्वेष पूर्ण कार्रवाई है। आरटीओ राजेश गुप्ता ने बस स्टैंड पर खड़ी दूसरी बसों के दस्तावेज चेक नहीं किए और ना ही ओवरलोड बसों को देखने के बाद कोई कार्रवाई की।

- बस संचालकों द्वारा नियमों के उल्लंघन की शिकायत मिली थी। बस मालिकों को समझाइश देने जांच करने पहुंचे। 3 बसों में अनियमितता देखते हुए पंचनामा बनाया है। आगे भी इस प्रकार की कार्रवाई चलती रहेगी।
राजेश गुप्ता, आरटीओ

Show More
tarunendra chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned