scriptno clue death of rearmouse | 3 दिन बाद भी चमगादड़ों की मौत का कारण स्पष्ट नहीं, जांच रिपोर्ट का इंतजार | Patrika News

3 दिन बाद भी चमगादड़ों की मौत का कारण स्पष्ट नहीं, जांच रिपोर्ट का इंतजार

पारा 42 के पार , नहीं थम रहा मौत का सिलसिला
जान जोखिम में डाल शवों को हटा रहे लोग

झाबुआ

Published: May 16, 2022 11:15:39 pm

झाबुआ. बढ़ता तापमान , हीट स्ट्रोक , डिहाइड्रेशन या कोई और वजह .... वार्ड 1 में सर्किट हाउस एवं इसके आसपास के क्षेत्रों में हुई चमगादड़ों की मौत का खुलासा 3 दिन बाद भी नहीं हुआ।बताया जा रहा है कि पिछले 7 दिन में 500 से अधिक चमगादड़ मर चुके हैं। प्रतिदिन 50 से 60 चमगादड़ मारे जा रहे हैं। इधर, तापमान लगातार 41 से 42 डिग्री बना हुआ है , बताया जा रहा है कि 40 डिग्री तापमान सहन नहीं करने की वजह से पक्षियों कि मौत हो जाती है, ऐसे में इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि जब तक तापमान 40 डिग्री से कम न हो इनकी मौतों का सिलसिला नहीं थमेगा, लेकिन ङ्क्षचता की बात तो यह है कि प्रशासनिक स्तर पर मरे हुए चमगादड़ को हटाने के लिए कोई प्रयास नहीं हो रहे हैं।
इधर , प्रशासन ने 4 सदस्यों का दल गठित कर चमगादड़ की मौत का कारण स्पष्ट करने का आदेश दिया है।
उड़ते पक्षी बेसुध होकर गिर रहे
एक्सपर्ट की मानें तो 40 डिग्री तापमान में आसमान में उड़ते पक्षी बेसुध होकर जमीन पर गिरने लगते है, ऐसे में बहादुर सागर तालाब एवं मेहताजी के तालाब के आसपास के क्षेत्रों में चमगादड़ की मौत लगातार हो रही है , जिससे रहवासियों में हड़कंप मच गया है। पंडित मयंक त्रिवेदी ने बताया कि रोजाना 50 से अधिक चमगादड़ मारे जा रहे हैं। इन्हें नहीं हटाने से तीन चार दिन में 150 से अधिक चमगादड़ के शव मंदिर के आसपास जमा हो रहे हैं। मंदिर की छत भी चमगादड़ के शवों से भर गई है। भयंकर बदबू आ रही है। चमगादड़ के अंदर अनगिनत जंतू पाए जा रहे हैं, प्रतिदिन सफाई जरूरी है। मंदिर दर्शन करने आने वाले श्रद्धालुओं को भी संक्रमण फैलने का डर सता रहा है।
मृत चमगादड़ को हटाने के लिए कोई सार्थक उपाय नहीं किए जा रहे
वार्ड 1 और वार्ड 9 के निवासियों को संक्रमित होने का खतरा सता रहा है। स्थानीय रहवासी विजय , दीपक, राजेश, अर्जुन, कमल ने बताया कि गली के आवारा कुत्ते इन चमगादड़ को खा रहे हैं , कुत्तों के खाने के बाद चमगादड़ के अवशेष इन्हीं स्थानों पर बिखरे पड़े हैं। ये कुत्ते लोगों के संपर्क में आकर बीमारियां फैला सकते हैं। चमगादड़ से संक्रामक बीमारियों का खतरा भी है। निपाह वायरस उनमें से एक है। यह जानलेवा वायरस है। इंसानों के साथ यह जानवरों को भी लपेटे में ले सकता है।
3 दिन बाद भी चमगादड़ों की मौत का कारण स्पष्ट नहीं, जांच रिपोर्ट का इंतजार
3 दिन बाद भी चमगादड़ों की मौत का कारण स्पष्ट नहीं, जांच रिपोर्ट का इंतजार

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

SpiceJet की एक और फ्लाइट में खराबी, मुंबई में प्लेन की इमरजेंसी लैंडिंग, 17 दिन में तकनीकी खराबी की 7वीं घटनायूपी में प्रशासनिक फेरबदल, 4 IAS और 3 PCS किए गए इधर से उधरउत्तर प्रदेश संयुक्त प्रवेश परीक्षा बीएड परीक्षा-2022: जाने परीक्षा केंद्र के लिए बनाए गए नियमGujarat: एमई, एमफार्म में प्रवेश के लिए आज से शुरू होगा रजिस्ट्रेशनएंकर रोहित रंजन को रायपुर पुलिस नहीं कर पाई गिरफ्तार, अपने ही दो कर्मचारी के खिलाफ जी न्यूज़ ने दर्ज कराई FIRMausam Vibhag alert : मौसम विभाग का यूपी के कई जिलों में 9-12 जुलाई तक भारी बारिश का अलर्टबाप बोला, मेरे बेटे ने दोस्त के साथ मिलकर कर दी अपनी मां की हत्याGanpati Special Train: सेंट्रल रेलवे ने किया बड़ा एलान, मुंबई से चलेगी 74 गणपति महोत्सव स्पेशल ट्रेन, देखें पूरा शेड्यूल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.