थांदला के नए अस्पताल में लेबोरेट्ररी, डॉक्टर, सोनोग्राफी और एक्स-रे मशीन नहीं

लिंक रोड के साथ चौराहा बनाना भी प्रस्तावित था, मगर प्रशासनिक मजबूरियों के चलते स्वीकृत चौराहा नहीं बनाया गया

By: kashiram jatav

Published: 03 Jan 2020, 06:36 PM IST

थांदला. नगर में एक भी काम ऐसा नहीं है जो पूरा हो। हर जगह अधूरी कहानी है। ताबड़तोड़ नवनिर्मित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र का उद्घाटन जनप्रतिनिधियों ने कर दिया। इसके तकरीबन एक माह पश्चात स्वास्थ्य केन्द्र संचालित होने लगा है। परन्तु सुविधा के नाम पर यहां किसी प्रकार की बढ़ोतरी नहीं हुई।

बड़े अस्पताल में सर्वसुविधायुक्त आधुनिक लेबोरेट्ररी, डॉक्टर ,स्टाफ ,सोनोग्राफी एवं नवीन तकनीक की आधुनिक एक्स-रे मशीन सहित अन्य आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध नहीं है। थांदला को बायपास की सौगात जो कि नगर के बीच में से गुजरने के कारण मात्र एक बासयपास रोड बन गया है। पुरानी नगर पंचायत के चौराहे को उचित ढंग से नहीं बनाया गया। तेज गति के वाहनों एवं मोड़ की वजह से दुर्घटनाएं होती रहेंगी। हालांकि लिंक रोड के साथ चौराहा बनाना भी प्रस्तावित था, मगर प्रशासनिक मजबूरियों के चलते स्वीकृत चौराहा भी नहीं बनाया गया।

उचित बायपास की दरकार-
नगर को अब तक उचित बायपास रोड की दरकार है, चूंकि वर्तमान में निर्मित बायपास नगर के बीचो बीच से गुजर रहा है। इससे सिर्फ एमजी रोड का दबाव कम हुआ है। मगर नगर में प्रवेश भारी वाहनों की आवाजाही पर अंकुश नहीं लग पाया है। नगर की करोड़ों की लागत से बनी कृषि उपज मंडी गोदाम के अभाव में हमेशा सूनी दिखाई देती है। इस कारण यहां न व्यापारी आकर मंडी लगाते है ना किसानों की उपस्थिति रहती है। नववर्ष में मंडी प्रशासन से उम्मीद है कि मंडी में गोदाम बने। इससे किसानों एवं व्यापारियों को अगले सत्र से समस्याओं का सामना न करना पड़े व वीरान पड़ी मंडी सुचारू चल सके।

अधूरे कार्य कब पूरे होंगे-
नगर को सबसे अधिक अपेक्षा नगर परिषद से होती है, परन्तु नगर परिषद कि धीमी कार्यप्रणाली के चलते नगर में कई कार्य अधूरे पड़े या धीमी गति से चल रहे हैं। नगर में नलजल योजना के लिए जगह-जगह लाइन डालने के लिए किए गड्डों को नगर के कुछ हिस्सो में भरा जा चुका है पर अधिकांश जगह अब तक समतलीकरण नहीं होने के कारण नगरवासी धूल मिट्टी से परेशान हैं। इसके अलावा नौगावां नदी का मुक्तिधाम ,पद्मावती नदी शुद्धीकरण एवं गहरीकरण, सुलभ शौचालयों की कमी, पार्किंग स्टैंड, अतिक्रमण हटाने के लिए मुहिम की जरूरत है। अस्पताल चौराहे से पुरानी नगर परिषद का रोड निर्माण कार्य पूर्ण करना शेष है। ट्रेचिंग ग्राउंड की सुनियोजन हो ताकि जवाहर नवोदय विद्यालय के छात्रों व रहवासियों को गंदगी एवं बदबू से मुक्त किया जा सके। साथ ही नगर को सिंगल यूज पोलीथिन मुक्ति के लिए भी कोई प्रयास नगर परिषद द्वारा नहीं किए जा रहे हैं। जबकि जिले व अन्य नगर परिषदों ने इसके लिए कई आयोजन कर जन जन को जागरूक करने के प्रयास किए जा चुके हैं।

kashiram jatav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned