सावधान... सौंफ के साथ कहीं कोरोना तो नहीं बंट रहा?

कृषि मंडी परिसर में बिना मास्क लगा हजारों लोगों का जमावड़ा, मंडी स्टॉफ भी बिना मास्क नजर आए, सोशल डिस्टेंस की उड़ी धज्जियां, सीजन में पहली बार 1500 बोरी आवक

By: vishal yadav

Updated: 01 Mar 2021, 11:14 AM IST

बड़वानी. देश सहित प्रदेश में एक बार फिर कोरोना की दूसरी लहर तेजी से फैल रही है। महाराष्ट्र सीमा से सटा बड़वानी जिला इससे अछूता नहीं है। प्रदेश सरकार के दिशा-निर्देश के यहां स्थितियां रेड अलर्ट हो गई है। इस सावधानी के बीच रविवार को शहर की कृषि मंडी में सौंफ के साथ कोरोना बंटने का उदाहरण देखने को मिला।
प्रति रविवार लगने वाली कृषि उपज मंडी में जिले सहित आसपास के जिलों से किसान सौंफ लेकर पहुंचते है। वहीं सौंफ खरीदी के लिए व्यापारी इंदौर सहित अन्य शहरों से आते है। साथ ही इस दौरान बड़ी संख्या में शहरवासी घरेलु उपयोग के लिए सौंफ की खरीदी करते है। जबकि जिले में कलेक्टर ने कोरोना के मद्देनजर गाइड लाइन जारी की है। इसके तहत अधिक लोगों की भीड़ एकत्रित करना प्रतिबंधित है। वहीं आवश्यक आयोजनों में अधिक भीड़ की स्थिति में विधिवत अनुमति लेकर मास्क-दूरी के नियमों का पालन करना जरुरी है। वहीं रविवार को शहर के राजघाट रोड स्थित कृषि उपज मंडी में सौंफ की खरीदी-बिक्री के लिए हजारों लोगों की भीड़ एकत्रित हुई। इसमें नाम मात्र के लोग भी मास्क का उपयोग नहीं करते दिखे। साथ ही सोशल डिस्टेंस की धज्जियां उड़ी। वहीं मंडी स्टॉफ भी बेमास्क सिर्फ राजस्व बटोरने में लगा रहा। मंडी के लालू मुवादिया के अनुसार सुबह सात बजे से मुनादी करवाकर सभी को मास्क पहनने और दूरी पर रहने का आह्वान करते रहे, लेकिन लोग मानने को तैयार नहीं है।
सीजन में पहली बार बंपर आवक
इस वर्ष मंडी में सीजन के दौरान पहली बार सौंफ की आवक बंपर रही। रविवार रिकार्ड 1380 बोरी सौंफ की आवक तो रही, लेकिन बीते सप्ताहों की तुलना में भावो में 30 से 40 प्रतिशत कमी आई है। इससे किसानों के चेहरे मुरझाए नजर आए। उल्लेखनीय है कि बीते सप्ताहों में आवक 300 से 700 बोरी तक रही थी और भाव 55 से 190 रुपए प्रतिकिलो तक रहे थे। जबकि इस बार बंपर आवक के बावजूद सौंफ का भाव 50 से 130 रुपए प्रतिकिलो तक रहा।

vishal yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned