मौत के बाद सामने आए वीडियो में जहर पिलाने का खुलासा

petlawadपूर्व जनपद अध्यक्ष के पोते राहुल डाबी की मौत के बाद मिले वीडियो ने मचाई सनसनी

By: राजेश मिश्रा

Published: 20 Jul 2018, 05:23 PM IST

पेटलावद. क्षेत्र में पूर्व जनपद अध्यक्ष के पोते की मौत के बाद मोबाइल में वीडियो मिला है। उसमें जबरन दवाई पिलाकर मौत के घाट उतारने की बात कही जा रही है। मृतक के पिता ने वीडियो देखने के बाद पुलिस को हत्यारों के खिलाफ कार्रवाई कर सजा दिलाने के लिए आवेदन दिया है। हालांकि पुलिस की राह कठिन है, क्योंकि शव दाह हो चुका है। उपचार करने वाले डॉक्टर ने एमएलसी बनाने के बावजूद पुलिस को सूचना नहीं दी थी।
जानकारी के अनुसार पूर्व जनपद अध्यक्ष हीरालाल डाबी के पोते राहुल पिता कैलाश डाबी की कीटनाशक पीने के कारण 16 जुलाई को मृत्यु हो गई थी। इसमें सबसे पहले एक लडक़ी ने राहुल के दोस्तों को फोनकर बताया था कि तुम्हारे दोस्त ने जहरीली दवा पी ली है, वह इस समय देवरूंडी के आसपास है। इसकी सूचना उसके पापा को भी दे देना। इसके बाद राहुल के पिता और दोस्त लोग बताई हुई जगह पर पहुंचे, जहां राहुल बेहोश हालत में मिला था। बताया जा रहा है कि उस समय वह लडक़ी भी वहीं थी और राहुल का फोन उस लडक़ी के पास था। इसके बाद राहुल को सारंगी अस्पताल ले जाया गया, जहां पर उसकी स्थिति अधिक खराब होने के कारण उसे अन्यत्र रैफर किया गया। इस दरम्यान परिवार वाले उसे इंदौर ले जा रहे थे, किंतु रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। इसके बाद रात्रि में परिजन उसे अपने घर देवरापाड़ा ले गए और 17 जुलाई की सुबह उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया। इसके बाद परिजन ने उसके मोबाइल को देखा तो उसमें एक चौंकाने वाला 15 सेकंड का वीडियो मिला। इसमें राहुल यह बता रहा है कि उसकी मौत का मुख्य कारण यह है कि उसे जबरन जितेंद्र निनामा और उसके एक साथी ने जहर पिलाया है। जिसमें वह स्वयं कह रहा है कि अब मैं मरने वाला हूं। मुझे जितेंद्र निनामा और उसके एक साथी ने जबरन जहर पिला दिया है। इस मोबाइल को देखने के बाद परिजन जिसे आत्महत्या समझ रहे थे उन्हें हत्या लगने लगी और राहुल के पिता ने पुलिस चौकी सारंगी पर पहुंच कर वीडियो के आधार पर एक आवेदन दिया। मांग कि है कि यह आत्महत्या नहीं हत्या है, कातिलों को सजा दी जाए।
जांच की जा रही है
इस संबंध में टीआई केएल वरकड़े का कहना है कि इस मामले की जांच की जा रही है। हमारे पास अभी तक कुछ नहीं था। यह भी सिद्ध करना है कि राहुल डाबी की मृत्यु हुई है। इस वीडियो की फोरेंसिक जांच कराई जाएगी। साथ ही जो आवेदन प्राप्त हुआ है, उसके हर पहलू की जांच होगी तभी किसी निर्णय पर पहुंचा जा सकेगा।
पुलिस के सामने कई गुत्थियां
पुलिस के सामने सबसे बड़ी गुत्थी तो यह है कि युवक का शव जल चुका है पोस्टमॉर्टम भी नहीं हुआ है। पुलिस के हाथ में कोई जानकारी नहीं है। सारंगी शासकीय अस्पताल में आए इस केस के बारे में अस्पताल से भी कोई सूचना नहीं आई थी। बताया जा रहा है डाक्टर ने एमएलसी बना ली थी किंतु पुलिस चौकी पर सूचना नहीं दी थी। राहुल के मोबाइल से सिम भी गायब बताई जा रही है।

राजेश मिश्रा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned