सोयाबीन की जगह मक्का बोने पर बीमा का लाभ नहीं मिलेगा

सोयाबीन की जगह मक्का बोने पर बीमा का लाभ नहीं मिलेगा
सोयाबीन की जगह मक्का बोने पर बीमा का लाभ नहीं मिलेगा

Arjun Richhariya | Updated: 11 Oct 2019, 11:00:02 PM (IST) Jhabua, Jhabua, Madhya Pradesh, India

बैंक ने पत्र भेजकर किसान को सूचित कर बताया कि आपने शासन की ओर से अधिसूचित फसल नहीं बोई

पेटलावद. अन्नदाता किसानों के हितों की बात करने वाली राज्य व केन्द्र की सरकारें किसानों के लिए बड़े-बड़े वादे और दावे करती हैं, किसानों के लिए कई प्रकार की योजनाएं बनाई जाती हैं, लेकिन जो योजनाए सरकार द्वारा किसानों के हित के लिए बनाई जाती हैं वे योजनाएं किसानों को फ ायदा देने से ज्यादा नुकसान करती है। ऐसी ही कुछ तस्वीर पेटलावद क्षेत्र के गोठानिया खुर्द से फसल बीमा के नाम पर ठगे गए किसान की देखने को मिली।

गोठानिया खुर्द निवासी किसान अजयसिंह पंवार ने पिछले महीने एसबीआई की स्थानीय शाखा के प्रबंधक एवं कलेक्टर को आवेदन देकर फ सल खराब होने पर बीमा का लाभ दिलाने की मांग की थी। कलेक्टर को दिए पत्र के आधार पर बैंक की ओर से 26 सितंबर को रजिस्टर डॉक से मिले पत्र ने अजयसिंह पंवार की नींद उड़ाकर रख दी। बैंक ने किसान को सूचित करते हुए बताया कि आपने शासन की ओर से अधिसूचित फसल सोयाबीन नहीं बोकर मक्का की फसल बोई थी। इसलिए आपको बीमा का लाभ नहीं मिल सकता।

क्या है अधिसूचित फसल-
कृषि विभाग के अधिकारियों की माने तो राज्य शासन द्वारा खरीब एवं रबी की फ सलों के समय कृषि व राजस्व विभाग की रिपोर्ट के आधार पर क्षेत्र में बोई जाने वाली फसल को अधिसूचित करते हुए सूचना जारी की जाती है व राज्य शासन की ओर से अधिसूचित फसल पर ही बीमा देने का करार शासन और बैंको के बीच होता है, लेकिन इन तकनीकी त्रुटियों की जानकारी किसान को नहीं होने से बीमा लाभ नहीं मिल पाता।

फसल बीमित पर नहीं मिलता लाभ
शासन की योजना के तहत बैंक और सोसायटीयों द्वारा किसान क्रेडिट कार्ड बनाकर फसल ऋण दिया जाता है और ऋ ण जमा करते समय या ऋ ण देते समय ही बैंकों और सोसायटी द्वारा किसान द्वारा बोई जा रही फसल का बीमा करते हुए बीमा की प्रीमियम की राशि उसी समय काट ली जाती है। इस तरह से फसल बोने से पहले ही पी्रमियम राशि भर दी जाती है। बैंक की ड्यूटी है कि जो प्रीमियम दी उसे अधिसूचित फसल की पी्रमियम के रूप में ही जमा किया जाए, ताकि फ सल खराब होने पर उसका लाभ किसान को मिल सकें। विभागीय तालमेल की कमी से किसानों को बीमा न देना छलावा है।

प्रचार-प्रसार नहीं करते- किसान अजयसिंह पंवार ने बताया फ सल बीमा की प्रिमियम को पहले ही बैंक में जमा करा लिया। मुझे नहीं पता की शासन ने किस फसल को अधिसूचित किया है। यदि ऐसी तकनीकी बातों का विभाग व शासन प्रचार प्रसार करे तो किसानों को नुकसान से बचाया जा सकता है।
करोड़ों रुपए प्रीमियम के नाम पर जमा- किसानों को अधूरी जानकारी देकर प्रीमियम भरवाने वाली बैंकें बीमा का लाभ कितने किसानों को दे रहीं, जांच का विषय है, पर इतना जरूर है कि बैंकों ने प्रीमियम के रूप में करोड़ों रुपए जमा करा रखे हैं, लेकिन फ ायदा किसानों को जीरो है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned