तेज हवा के साथ बरसी मावठ

Jagdish Paraliya

Updated: 08 Nov 2019, 11:49:17 AM (IST)

Jhalawar, Jhalawar, Rajasthan, India

कई जगह मंडियों में अनाज भीग गया
झालरापाटन. नगर में गुरुवार शाम ४.३० बजे से 1 घंटे तक लगातार जोरदार बरसात हुई। इससे चंद्रमा कार्तिक मेले में दुकानें जमा रहे लोगों को परेशानी हुई। वहीं कृषि उपज मंडी में खुले में रखी जींस बह गई।


सुनेल. कस्बे सहित आसपास के गांवों में दोपहर बाद बरसात से रबी की बुवाई वाधित होने से किसानों के चेहरे पर फिर मायूसी छा गई है। ढाबलाखींची निवासी किसान रामबिलास पाटीदार, बोलियाबुजुर्ग निवासी गोविन्द पाटीदार ने बताया कि लहसुन, प्याज, चना की बुवाई कर रहे हैं। कई किसान तो ऐसे है जो आज ही बुवाई के लिए लहसुन लेकर खेतों में पहुंचे, लेकिन बरसात होने से परेशान हैं।


पिड़ावा. नगर सहित ग्रामीण क्षेत्र हिनोतिया कोटड़ी, खेड़ी, बिजनिया खेड़ी, दांता, सेमली चौहान, हरनावदा पीथा सहित कई ग्रामीण क्षेत्रों में मावठा की बरसात तेज हवा के साथ 3.20 बजे से शुरू हुई। इससे जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया। बस स्टैंड पर यात्रियो को असुविधा हुई। वहीं साप्ताहिक हाट भी फ ीका हो गया। तलाई चौक, वीडियो चौराहा, मायाखेड़ी चौराहा, मेला मैदान सहित कई जगहों पर लगातार बारिश होने से पानी जमा हो गया। बारिश लगभग 4:25 तक जारी रही। इसके बाद भी बूंदाबांदी का दौर जारी रहा।
रायपुर. कस्बे सहित क्षेत्र के गरवाड़ा, सेमली, दूबलिया, बोरबन्द, दोबड़ा, दोबड़ी सहित अन्य गांवों में बारिश हुई। क्षेत्र में इस समय लगभग तीस प्रतिशत लहसुन, प्याज, चना की बुवाई हुई है, लेकिन बारिश ने बुआई को आगे बढ़ा दिया है। कृषि पर्यवेक्षक अरविन्द पाटीदार ने बताया कि गेहूं की पांच प्रतिशत बुआई हुई है। भारतीय किसान संघ तहसील अध्यक्ष मनोहरलाल दांगी ने बताया कि बारिश से चारा खराब होगा।


सारोलाकलां. कस्बे में शाम को करीब 20 मिनट तेज बरसात हुई। इससे कस्बे के मुख्य बाजार में पानी बह निकला। कार्यवाहक सहायक कृषि अधिकारी शिवप्रसाद सुमन ने बताया कि इससे सरसों फसल में फायदा होगा। खेतों में रेलने के बराबर बरसात हो गई।
रटलाई. कस्बे में दिनभर आसमान में बादल छाए रहे, इसके बाद करीब 4 बजे तेज हवाओं का दौर शुरू हुआ और करीब आधा घंटा 4.30 बजे तेज बारिश शुरु हुई। साप्ताहिक हाट में दुकानदार सामान समेटने में लग गए। ग्रामीण अंचल से आए लोग इधर-उधर भीगने से बचाने के लिए दौडऩे लगे। राजपुरा निवासी किसान शिवलाल लोधा ने बताया कि इस जोरदार बारिश से किसानों को फायदा हुआ।


बकानी. कस्बे सहित आसपास के क्षेत्र में दोपहर बाद 15 मिनट तक मावठ की बारिश हुई। कई किसान तो अभी तक फसलें समेटने में लगे हैं। वहीं खेतों में नमी होने के कारण अगली फसलों के लिए खेत तैयार नहीं हो पाए हंै।


भीमसागर. क्षेत्र में एकाएक शाम करीब 5 बजे बाद तेज हवाओं के साथ जोरदार मूसलाधार बारिश शुरू हुई, जो करीब आधे घण्टे तक जारी रही। बाघेर में सड़क पर पानी बह निकला। बारिश का दौर देर शाम तक जारी रहा।


आवर. पगारिया क्षेत्र में आधा घंटा तेज वर्षा हुई। क्षेत्र में 4 बजे तेज वर्षा हुई। इससे मौसम में सर्दी अहसास हुआ। ग्रामीणों का कहना है कि गुजरात के तूफान का असर है।

असनावर. कस्बे समेत क्षेत्र में गुरुवार को आसमान में दिनभर बादल छाए रहे। जिसके बाद शाम को कस्बे में तेज हवाओं के साथ बारिश का दौर शुरू हुआ। तेज बारिश से बाजारों व नेशनल हाइवे 52 की सड़कों पर पानी बह निकला। तेज बारिश से मौसम सदज़् हो गया व गलन बढ़ गई। गलन बढ़ जाने से सदीज़् का अहसास होना शुरू हो गया। किसानों ने बताया कि बारिश से किसानों को रबी की फसलों की बुवाई में फायदा होगा।


छोटी सुनेल. ग्राम पंचायत सहित क्षेत्र में देर शाम को मूसलाधार बरसात हुई। ग्रामीणों ने बताया बरसात के चलते 15 दिन के लिए बुवाई रोक दी है।


पचपहाड़. कस्बे सहित आसपास क्षेत्र में अपरान्ह 4 बजे से ठंडी हवा के साथ बरसात हुई। दोपहर में बादल छाने से शाम तक अंधेरा रहा। ताईखेड़ा के उलफत सिंह परिहार ने बताया कि गुढ़ा पंचायत क्षेत्र में दोपहर बाद सड़कों पर पानी बह निकला। बुवाई कार्य अब ठप्प से हो गया है।


धरोनिया. कस्बे सहित आस पास के गांवों धरोनिया, सरोनिया, धारुखेड़ी में तेज हवाओं के साथ बारिश हुई। ब्रजमोहन पाटीदार, महेश, मनोज पाटीदार, अशोक शर्मा आदी ने बताया की बरसात के कारण क्षेत्र के किसानों को भारी नुकसान हुआ । पूर्व में हुई लगातर वर्षा से पहले ही बुआई लेट हो गई है, बहुत से खेतों में हंकाई भी नहीं हो पाई।

पनवाड़ क्षेत्र में धान की कटी पड़ी फसल में नुकसान की संभावना
पनवाड़. क्षेत्र में गुरुवार को मौसम का मिजाज बदलाव रहा। सुबह से ही बादल छाए रहे। कस्बे में शाम पौने 6 बजे तक तेज हवा के साथ बरसात हुई। इससे कई खेतों में पककर तैयार खड़ी धान की फसल आड़ी पड़ गई। वहीं हरिगढ़ क्षेत्र में भी हवा के साथ बरसात हुई। उधर किसानों ने बताया कि अभी धान की फसल खेतों में है और सोयाबीन के खेत को हांक कर तैयार किया जा रहा है। कई खेतों में लहसुन व चने की बुआई कर रहे हैं। बारिश होने पर बुआई का समय निकलने की आशंका है। इस समय पनवाड़, बिशनखेड़ी, बांसखेड़ा, सरखण्डिया, आकोदिया, उम्मेदपुरा, गणेशपुरा, दानवास, रघुवीरपुरा, बोरेली, भटवाड़ा सहित क्षेत्र के कई गांवों में इस समय धान की फसल कटाई का कार्य पर चल रहा है।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned