भाजपा व कांग्रेस के 27 पार्षदों ने सौंपे इस्तीफे, 15 दिन बाद स्वत: भंग हो जाएगा नगर परिषद झालावाड़ का बोर्ड

Hari Singh Gujar

Publish: Mar, 18 2019 07:21:32 PM (IST) | Updated: Mar, 18 2019 07:21:33 PM (IST)

Jhalawar, Jhalawar, Rajasthan, India




झालावाड़.नगर परिषद झालावाड़ की सरकार बनने से लेकर आज तक अजीबोगरीब स्थिति से गुजर रही है। कभी बोर्ड बैठक होने से पहले ही स्थगित हो जाती है। तो कभी सभापति व उपसभाति के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव की वोटिंग ही अचनाक से स्थगित कर दी जाती है। इस सारे घटनाक्रम के बीच सोमवार को भाजपा व कांग्रेस के मिलाकर 27 पार्षदों ने इस्तीफे दे दिए है। हालांकि पार्षदों ने इस पूरे मामले में फरवरी माह में अविश्वास प्रस्ताव लाया था, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं होने से पार्षदों में खासी नाराजगी है। ऐसे में सोमवार को नगर परिषद के 27 पार्षदों ने सामूहिक रूप से एकसाथ इस्तीफे दिए।

ऐसे चला घटनक्रम-
करीब 3 बजे भाजपा व कांग्रेस के कुछ पार्षद उपखंड अधिकारी के समक्ष इस्तीफे का सत्यापन कराने पहुंचेे, लेकिन कई पार्षदों के पास आईडी नहीं होने से उपखंड अधिकारी मोहनलाल प्रतिहार ने आईडी दिखाने के लिए कहा। इसके बाद पार्षद घरों से आईडी लेकर पहुंचे, इस दौरान करीब एक घंटा तक उपखंड अधिकारी कार्यालय के समक्ष पार्षदों का जमघट लगा रहा।

एसडीएम ने किया सत्यापन-
भाजपा के 15 व कांग्रेस के 12 पार्षदों ने उपखंड अधिकारी मोहनलाल प्रतिहार के समक्ष इस्तीफ रखे। इस्तीफे कार्यपालक मजिस्ट्रेड को देने के बाद वह सत्यापित कर वापस पार्षदों को देता है। पार्षद इस्तीफे लेकर नगर परिषद पहुंचे लेकिन वहां सभापति के कुर्सी पर नहीं ेहोने से आमद शाखा के बाबू को सौंप दिए। वहीं एक प्रति डाक से रजिस्ट्री के माध्यम से भेज दी।

अब आगे क्या होगा-
स्वायत शासन विभाग के नियमों की धारा 322 के तहत कोई भी दो तिहाई निर्वाचित पार्षद इस्तीफे देते हैं। तो इसके बाद 15 दिन में स्वत: इस्तीफे मान्य होते हैं। ऐसे में स्वत: बोर्ड भंग हो जाता है। ऐसे में अब नगर परिषद के सभापति मनीष शुक्ला की कुर्सी पर पूरी तरह से खतरा मंडराया गया है।

इन पार्षदों ने सौंपे इस्तीफे-
भाजपा पार्षदों ने जयदीप सिंह झाला के नेतृत्व संजय शुक्ला, दीपक स्वामी, दिनेश सुमन, कन्हैया, नरेन्द्र भील, तुषार उपाध्याय, शिवराज, आशीफ, पूनम नरसल,बलवीर प्रजापति, सविता कश्यप, रेखा लोधा, मीना कोठारी, निहारिका राजावत ने इस्तीफे सौंपे। वहीं कांग्रेस के पार्षदों ने फारूख अहमद के नेतृत्व में नफीस अहमद, वकार अहमद, शाह फैजल, ललित सुमन, ईश्वर खरनीवाल, मैना कुमारी, रूकसाना, गजेन्द्र गुर्जर, राजेश गुर्जर, लक्की शेडवाल, महावीर गौड़ आदि ने इस्तीफे दिए।


परेशान हो चुकी है जनता-
सभी पार्षदों ने सामूहिक रूप से त्यागपत्र दिए है, साढ़े तीन साल से हमारे वार्डों में कोई नहीं हो रहे थे, जनता हमें आकर कर रही है। सभी लोग परेशान है। आलाधिकारियों को अवगत करा दिया था, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई, 6 फरवरी को अविश्वास प्रस्ताव आ गया था, 7 मार्च को बैठक होनी थी, लेकिन उसे अंत समय में कैंसिल कर दी गई है। इसके बाद आज सभी इस्तीफे दे रहे हैं।
फारूख अहमद, कांग्रेस पार्षद नप, झालावाड़।


अविश्वास पार्षद के लिए जो तारीख दी थी, वह भी निकल गई है, लेकिन सभापति मनीष शुक्ला सरकार के आशीर्वाद से पद पर बने हुए है, लोगों को निर्माण स्वीकृतियां नहीं मिल रही है, बोर्ड की बैठक नहीं बुलाकर स्वयं निर्णय ले रहे हैं, जनहित में कार्य करने चाहिए, लेकिन ये मनमर्जी से काम कर रहे हैं। इसलिए शहर की जनता के हित में हम सामूहिक रूप से आज 27 ही पार्षद इस्तीफे सौंप रहे हैं।
जयदीप सिंह झाला,पार्षद,नप, झालावाड़।


मेरे पास नगर परिषद के 27 पार्षद आए थे सभी इस्तीफे सत्यापित कर वापस उन्हें सौंप दिए है।
मोहनलाल प्रतिहार, उपखंड अधिकारी,झालावाड़।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned