देव विमानों की शोभायात्रा में गूंजे जयकारें

देव विमानों की शोभायात्रा में गूंजे जयकारें
देव विमानों की शोभायात्रा में गूंजे जयकारें

Jitendra Jaikey | Updated: 09 Sep 2019, 07:27:17 PM (IST) Jhalawar, Jhalawar, Rajasthan, India

-बारिश की झड़ी के बीच ढोल ग्यारस पर निकला जुलूस

देव विमानों की शोभायात्रा में गूंजे जयकारें
-बारिश की झड़ी के बीच ढोल ग्यारस पर निकला जुलूस
-जितेंद्र जैकी-
झालावाड़. जलझुलनी एकादशी (ढोल ग्यारस) पर सोमवार को जिलेभर में देव विमानों की शोभायात्रा निकाली गई। इस दौरान शहर में भजन, कीर्तन व जयकारों के बीच नाचते गाते हुए श्रद्धालुओं ने बड़ी संख्या में भाग लिया। सभी समाजों के व मंदिरों के करीब दो दर्जन देव विमान गढ़ परिसर में एकत्र हुए। सबसे पहले धनवाड़ा से श्री गणेशाय नवयुवक मंडल की ओर से देव विभाग शाम चार बजे पहुंच गया। इसके बाद देव विमान आने का सिलसिला शुरु हुआ। सबसे अंत में गढ़ परिसर में स्थित श्रीरमणीक नाथ मंदिर से देव विमान आया व उसने सबसे आगे आकर शोभायात्रा की अगुवाई की।
-शाम को शुरु हुई शोभायात्रा
गढ़ भवन परिसर से करीब साढ़े पांच बजे से सभी देव विमानों की शोभायात्रा शुरु हुई। विमानों के आगे बज रहे ढ़ोल, डीजे व बेंड बाजों पर श्रद्घालु नृत्य करते हुए चल रहे थे। इस दौरान गढ़ परिसर में श्रद्धालुओं की बड़ी संख्या में भीड़ उमड़ पड़ी व मेले जैसा माहौल बना रहा। मार्ग में जगह जगह श्रद्धालुओं ने देव विमानों की पूजा अर्चना की व प्रसाद वितरित किया। सभी विमान मंगलपुरा, मूर्ति चौराहा, मामा भानेज चौराहा होकर गांवड़ी के तालाब पहुंचे। यहां देव प्रतिमाओं को स्नान करवाया गया व जल झुलनी एकादशी होने के कारण भगवान को जल में झूलाया गया। इसके बाद सभी देव विमान वापस अपने अपने मंदिरों मेंं लौटे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned