सरकारी लापरवाही: अस्पताल में न डॉक्टर मिला न कोई कर्मचारी, आखिर जमीन पर ही हो गया प्रसव

सरकारी लापरवाही: अस्पताल में न डॉक्टर मिला न कोई कर्मचारी, आखिर जमीन पर ही हो गया प्रसव

abdul bari | Publish: Aug, 04 2019 12:06:01 AM (IST) | Updated: Aug, 04 2019 01:48:02 AM (IST) Jhalawar, Jhalawar, Rajasthan, India

प्रसव ( Childbirth) के दौरान कोई भी कर्मचारी मौजूद नहीं था। करीब एक घंटे तक परिजन अस्पताल के अंदर-बाहर चिकित्सक व अन्य कर्मचारियों को ढूंढते रहे, लेकिन कोई भी ( Government negligence ) नहीं मिला। लेबर रूम पर भी ताला लगा मिला।

झालावाड़

आदर्श पीएचसी ( PHC ) सरड़ा पर चिकित्सा विभाग की बड़ी लापरवाही ( Government negligence ) सामने आई। लापरवाही की हद यह है कि शनिवार सुबह अस्पताल में महिला का प्रसव जमीन पर हो गया। उसने नवजात को जन्म दिया। परिजनों ने बताया कि प्रसव पीड़ा होने पर सुमित्रा तंवर निवासी सेदरा मध्यप्रदेश का लेकर पीएचसी लेकर आए। प्रसव ( Childbirth) के दौरान कोई भी कर्मचारी मौजूद नहीं था। करीब एक घंटे तक परिजन अस्पताल के अंदर-बाहर चिकित्सक व अन्य कर्मचारियों को ढूंढते रहे, लेकिन कोई भी नहीं मिला। लेबर रूम पर भी ताला लगा मिला।

 

संभालने वाला कोई नहीं मिला

ऐसे में महिला को ज्यादा प्रसव पीड़ा हुई तो परिजनों ने जांच केंद्र का ताला खुला देख जमीन पर ही लेटा दिया। इसके बाद महिला ने शिशु को जन्म दिया। मामले में ( medical negligence ) एएनएम पूनम कुमारी ने बताया कि वह टीकाकरण के लिए बोरबंद सहित अन्य गांवों में गई थी। वहां से दोपहर करीब डेढ़ बजे आ गई। उपसरपंच बजरंग लाल सेन ने बताया कि पीएचसी भगवान भरोसे है। चिकित्सक सहित स्टाफ कम है। मौजूदा कर्मचारी भी लापरवाही करते हैं। एक अन्य गर्भवती विष्णु बाई भी सवेरे 9 बजे से पीएचसी में बैठी थी। संभालने वाला कोई नहीं मिला। इसलिए निजी वाहन से अकलेरा चली गई।


गौरतलब है कि पीएचसी सरड़ा को आउटडोर, प्रसव, मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण सेवाएं, रोगियों को नि:शुल्क जांच सेवा और दवाइयां उपलब्ध कराने के लिए राज्य में प्रथम रैंकिंग व ग्रेडिंग गत दिनों मिली है।


इनका कहना है...

डिलेवरी ओपीडी खत्म होने के बाद आई थी। मैं और स्टाफ फिल्ड में टीकाकरण के लिए गए थे। प्रसुता और नवजात दोनों पीएचसी में भर्ती हैं और स्वस्थ हैं। गेट पर आते ही जल्द ही डिलेवरी हो गई, एक ही स्टाफ मौके पर था। स्टाफ की कमी भी है, ऐसे में परेशानी होती है।

डॉ. नीरज राठौर, प्रभारी, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, सरड़ा

 

यह खबरें भी पढ़ें...

राजस्थान के 14 जिलों के लिए चेतावनी जारी, तेज बारिश के साथ आ सकता है अंधड़

 


डिग्गी में डूबने से दो चचेरे भाईयो की मौत, परिवार की महिलाऐं कपड़े धोने पहुंची तो मचा कोहराम

 

फिल्मी स्टाइल में दौड़े तस्कर, पुलिस ने चोर-चोर का शोर मचाकर दबोचा

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned