scriptमनमर्जी से आ रहे डॉक्टर-नर्सिंग कर्मी, समय पर नहीं मिल रहा इलाज | जांच भी नहीं हो रही | Patrika News
झालावाड़

मनमर्जी से आ रहे डॉक्टर-नर्सिंग कर्मी, समय पर नहीं मिल रहा इलाज

जांच भी नहीं हो रही

झालावाड़Jun 23, 2024 / 10:15 am

harisingh gurjar

जांच भी नहीं हो रही

जांच भी नहीं हो रही

.केन्द्र व राज्य सरकार ग्रामीणों को चिकित्सा सुविधा घर के निकट ही मिले, इसके लिए कई तरह के जतन कर रही है। लेकिन चिकित्सा विभाग के कर्मचारी ही सरकार की मंशा पर पानी पैर रहे हैं। कर्मचारी मनमर्जी के अनुसार ही आ जा रहे हैं। ये मामला है जिले के हिम्मतगढ़ पीएचसी का। यहां कर्मचारियों के समय पर नहीं आने से मरीजों को परेशानी हो रही है। इसके अलावा भी कई तरह की अव्यवस्था है। पीएचसी इन दिनों वेंटिलेटर पर है, चिकित्सालय में स्वास्थ सेवाओं की कमी के चलते ग्रामीणों को निजी व झोलाछाप चिकित्सकों का सहारा लेना पड़ रहा है। प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र केवल रैफरल हॉस्पीटल बना हुआ है। यहां केवल सर्दी, जुखाम और बुखार के मरीजों को दवाईयां देकर भेज दिया जाता है, ऐसे में अगर समय पर डॉक्टर बैठे तो मरीज को भर्ती कर इलाज किया जा सकता है।
इतने कर्मचारी-

हिम्मतगढ़ पीएचसी पर एक डॉक्टर, 4 नर्सिंग स्टाफ, एक फार्मासिस्ट, 2 एएनएम, एक-एक पद ऑपरेटर, लैब सहायक, लेखा सहायक के हैं, लेकिन यहां दो ही स्वास्थ्यकर्मी व एक फार्मासिस्ट ही नियमित सेवाएं दे रहे हैं, बाकी मनमर्जी से ही आते-जाते हैं।
ग्रामीणों ने जताया रोष-

ग्रामीण हरकचन्द दांगी, विक्रम खटीक, लविश भावसार, और प्रकाश सेन आदि ने बताया की समय पर डॉक्टर व नर्सिंग स्टाफ के नहीं मिले से मरीजों को रायपुर, पिड़ावा, सुनेल या झालावाड़ जाना मजबूरी बना हुआ है। वहीं पीएचसी के पास के गांव टिकटिकिया, बोरबंद, हनोतिया, धारूखेडी, कचराखेड़ी, तेलियाखेडी आदि के ग्रामीण भी इलाज के लिए आते है, लेकिन उन्हे निराश होना पड़ता है। नहीं होती है समय पर जांचे- ग्रामीणों ने बताया कि पीएचसी पर सीबीसी जांच के लिए मशीन है,लेकिन कई दिनों से खराब है। वहीं लैब सहायक भी सप्ताह में दो ही दिन आता है, ऐसे में समय पर जांचे नहीं होने से छोटी-छोटी जांचों के लिए मरीजों को रायपुर व झालावाड़ के चक्कर लगाना मजबूरी बना हुआ है। ऐसे में मरीजों को आर्थिक नुकसान भी उठाना पड़ रहा है। ग्रामीणों ने ब्लॉक सीएमएचओ को भी कई बार अवगत करवा दिया है,लेकिन ध्यान नहीं दिया जा रहा है।
पाबंद करेंगे-

अगर पीएचसी में स्टाफ समय पर नहीं आ रहा है तो जांचकर कार्रवाई करेंगे। वैसे डॉक्टर को पाबंद कररखा है। जांच भी नहीं हो रही है तो दिखवाते है क्यों नहीं हो रही। डॉ. हरिप्रसाद लखवाल, ब्लॉक सीएमएचओ,सुनेल।

Hindi News/ Jhalawar / मनमर्जी से आ रहे डॉक्टर-नर्सिंग कर्मी, समय पर नहीं मिल रहा इलाज

ट्रेंडिंग वीडियो