scriptअपनी उम्र से ज्यादा रक्तदान : किसी ने 60 तो किसी ने 52 बार किया रक्तदान | रक्तदान-महादान, आओ मिलकर संवारें जीवन,करें रक्तदान | Patrika News
झालावाड़

अपनी उम्र से ज्यादा रक्तदान : किसी ने 60 तो किसी ने 52 बार किया रक्तदान

रक्तदान-महादान, आओ मिलकर संवारें जीवन,करें रक्तदान

झालावाड़Jun 17, 2024 / 08:55 pm

harisingh gurjar

रक्तदान महादान,आज विश्व रक्तदाता दिवस है और यही वो रक्तदाता है जिनकी वजह से किसी के बेटे किसी के पिता किसी केभाई-बहन की जिंदगी बच जाती है।

आज प्रदेश में लाखों लोग ऐसी बीमारियों से ग्रसित है जिनको बार-बार ब्लड की जरूरत रहती है लेकिन ये रक्तदाता हीं है जिनकी वजह से इनकी जिंदगी बची रहती है। सच में ये भी उनके लिए किसी भगवान से कम नहीं जो अपना ब्लड देकर किसी की जान बचाते है।आज भीषण गर्मी में ब्लड की कमी आई तो ये लोग पीछे नहीं हटे। शहर में ऐसे कई रक्तदाता हैं जो सरकारी या निजी अस्पताल में मरीजों को ब्लड की जरूरत होने पर तुरंत पहुंच जाते हैं या फिर स्वैच्छिक रक्तदाता खोज लाते हैं। ये ऐसे रक्तदाता हें जो रात और दिन चौबीस घंटे दूसरों का जीवन बचाने के लिए अहम भूमिका निभा रहे हैं।
विश्व रक्तदान दिवस पर जब हमने ऐसे रक्तदाताओं से बात की जो सालों से रक्तदान कर रहें है। इन रक्तदाताओं का कहना था अब तो एक नियम बना लिया की हमें रक्तदान करना हीं है।
ये है सच्चे रक्तवीर

उम्र 27 साल-60 बार कर चुके रक्तदान-

आधी रात में भी किसी को ब्लड के लिए फोन आ जाता है तो मैं चल उठता हूं। मैंने मेरे साथ कई युवाओं को भी रक्तदान के लिए प्रेरित किया और आज वो भी हर बार रक्तदान करते है। मेराब्लड ग्रुप ओ पॉजिटिव है। उम्र 27 साल है मैंने 41 बार एसडीपी व 19 बार साधारण रक्तदान किया है। मेरा तो यही कहना है कि थैलिसिमिया के अलावा अन्य मरीजों के परिजनों को इधर-उधर से ब्लड के लिए फोन लगाने की बजाए पहले स्वयं रक्तदान करें,फिर ब्लड बैंक से रक्त लें ताकि कमी नहीं हो। रक्तदान महादान है।
विजय लोधा,नर्सिंगकर्मी गोविन्दपुरा।

ब्लड सर्कुलेशन अच्छा रहता-

02. रक्तदान अब तो आदत बन गई है रक्तदान करना हीं है। जो लोग कहते है रक्तदान से कमजोरी आती है मैं तो उनको कहना चाहता हूं यह बिलकुल गलत है। बल्कि रक्तदान करने के 12 घंटे के बाद ही आप वैसी ही स्थिति में आ जाते है जो रक्तदान करने से पहले थे। मेरा ग्रुप ओ नेगेटिव है,हर तीन माह में रक्तदान करता हूं। अभी तक 18 बार कर चुका हूं। जब भी रक्तदान करने जाएं खाना खाकर जाएं, रक्तदान के बाद 15 मिनट आराम करें कोई दिक्कत नहीं होगी। रक्तदान से ब्लड सर्कुलेशन अच्छा रहता है।
सीएम मीणा, एक्सईएन, पवन सिंचाई परियोजना।

युवा आएं आगे-

03.मेरा ब्लड ग्रुप बी नेगेटिव है। मैं अभी तक 20 बार रक्तदान कर चुका हूं। जब हम रक्तदान कर किसी की जान बचाते है तो इससे बड़ा ओर कोई पुण्य का काम नहीं हो सकता है। मेरी सभी युवाओं से अपील है कि हर तीन माह में एक बार नियमित रुप से रक्तदान जरुर करें।
सौरभ शर्मा, झालावाड़।

प्लेटलेट्स हुई 33 हजार तो अच्छा लगा-

04.मेरा ब्लड ग्रुप ओ नेगेटिव है। अभी तक 52 बार रक्तदान कर चुका हूं। पहले मैंने एक साल में 6 बार रक्तदान किया है। अब नियम बना लिया है,साल में तीन बार रक्तदान करता हूं। एक बार एक बच्चे की प्लेट् लेट्स तीन हजार ही रह गई उसे एसडीपी दी तो वो 33 हजार पर पहुंच गई। इससे मन को बहुत सुकून मिला। रक्तदान महादान है, अपने रक्त से किसी को जीवन दान मिल रहा तो इससे बढ़कर ओर क्या हो सकता है।
मनोहरलाल शर्मा, नसीराबाद।

शुभअवसर पर रक्तदान करें-

5 जब भी घर में कोई विशेष दिन आता है तो मैं उस दिन रक्तदान जरूर करता हूं। मैं एक साल में दो बार जरुर रक्तदान करता हूं बेटे आशीष के 21 मई को व बेटी विधि के 8 नवंबर को जन्मदिन पर रक्तदान करता हूं। मेरा ब्लड ग्रुप ओ पॉजिटिव है। अभी तक 19 बार रक्तदान कर चुका हूं। अन्य लोगों से भी अपील है कि शादी की सालगिरह, जन्मदिन व अन्य अवसर पर आप रक्तदान करें, इससे बड़ा कोई दान नहीं है। हमें रक्त से किसी को जीवनदान मिल सकता हैं।
सियाराम बाकोंदिया, टेक्नीशियन प्रभारी, मेडिकल कॉलेज, झालावाड़।

Hindi News/ Jhalawar / अपनी उम्र से ज्यादा रक्तदान : किसी ने 60 तो किसी ने 52 बार किया रक्तदान

ट्रेंडिंग वीडियो