scriptरख-रखाव के नाम पर हर दिन बिजली कटौती, फिर भी ट्रांसफार्मर की सूध नहीं ले रहा डिस्कॉम | - एक दर्जन से अधिक ट्रांसफार्मर खुले पड़े हुए | Patrika News
झालावाड़

रख-रखाव के नाम पर हर दिन बिजली कटौती, फिर भी ट्रांसफार्मर की सूध नहीं ले रहा डिस्कॉम

– बारिश में करंट से हो सकते है हादसे

झालावाड़Jul 10, 2024 / 11:12 am

harisingh gurjar

झालावाड़.शहर में ट्रांसफार्मर जानलेवा साबित हो सकते हैं। मानसून छा चुका है, लेकिन ट्रांसफार्मर के आसपास दौड़ता करंट मवेशी ही नहीं बल्कि आमजन की भी जान जोखिम में डाल सकता है। सुरक्षा को लेकर डिस्कॉम अधिकारी भी बेपरवाह है। गतवर्ष भी शहर में एक गोवंश की मौत करंट से हो चुकी अफसरों के सुध नहीं लेने से ऐसे हालात बनते हैं। इसका बड़ा कारण ट्रांसफार्मर के आसपास तार फेंसिंग नहीं होने से हादसे का हर पल खतरा बना रहता है। शहर के जागरूक नागरिकों द्वारा कई बार शिकायत के बावजूद इनकी सुध नहीं ली जा रही है।
बच्चों के पास जाने का बना रहता खतरा-

शहर में बड़ी संख्या में ट्रांसफार्मर हैं। इनके आसपास सुरक्षा बंदोबस्त नहीं है। इससे मानसून के दौरान कई बार करंट से मवेशी दम तोड़ चुके है। गली-मोहल्लों के ट्रांसफार्मर के आसपास बच्चों के जाने का डर बना रहता है।
होना यह चाहिए-

नियमानुसार हर ट्रांसफार्मर के आसपास सुरक्षा दीवार होनी चाहिए। सीमेंट के पिल्लर लगा ढका जाएं या तार फेंसिंग की जाए। शहर में ट्रांसफार्मरों के नीचे हाथ-ठेले वाले चौपाटी लगाकर खड़े रहते हैं। यहां तक कि स्कूलों के बाहर तक भी ट्रांसफार्मर खुले पड़े हैं। जिनमें कभी बड़ा हादसा हो सकता है।
ऐसे मिले हालात-

01.झालावाड़ शहर के संजय कॉलोनी में एक स्कूल के पास लगाट्रांसफार्मर जिसके आसपास कोई सुरक्षा दीवार व तार फेंसिंग भी नहीं की गई है। ऐसे में यहां से बच्चों के आने-जाने के दौरान हादसे का डर बना रहता है।
02.झालावाड़ गोदाम की तलाई पीपली चौक कुईयंा के पास लगा ट्रांसफार्मर जो जमीनपर ही खुली अवस्था में है।ऐसे में यहां भी जयपुर डिस्कॉम को तार फेंसिंग करवाना चाहिए।

03.झालावाड़ शहर के खारी बावड़ी सब्जी मंडी के पास लगा ट्रांसफार्मर। यहां ट्रांसफार्मर पर पेड़ पौधे व बेल पूरी तरह छा गई है। सब्जी विक्रेता व सब्जी लेने वाले शहरवासी भी यहां आते-जाते हैं,ऐसे में करंट का खतरा बना रहता है।
04. झालावाड़ शहर के मंगलपुरा माताजी मंदिर के अंदर लगा ट्रांसफार्मर खुला हुआ है। यहां मंदिर में बड़ी संख्या में इन दिनों महिलाएं पूजा करनेआती है, उनके साथ छोटे बच्चे भी आते हैं,वह इधर-उधर खेलते रहते हैं। ऐसे में यहां कभी हादसा हो सकता है।
अभी मैं मिटिंग में हूं-

अभी मैं मिटिंग में हूं। इसबारे में पता करवाते हैं। ज्यादा तो एसई साहब बता सकते हैं।

केएल बड़ोदिया, एक्सईएन, जयपुर डिस्कॉम, झालावाड़।

Hindi News/ Jhalawar / रख-रखाव के नाम पर हर दिन बिजली कटौती, फिर भी ट्रांसफार्मर की सूध नहीं ले रहा डिस्कॉम

ट्रेंडिंग वीडियो