चुनाव प्रशिक्षण में भी नही छोड़ी आदत...

-तम्बाकू का सेवन करने पर 17 कार्मिकों के चालान
-विलम्ब से आने पर 8 कार्मिकों को दिया नोटिस

By: jitendra jakiy

Updated: 15 Nov 2018, 07:48 PM IST

चुनाव प्रशिक्षण में भी नही छोड़ी आदत...
-तम्बाकू का सेवन करने पर 17 कार्मिकों के चालान
-विलम्ब से आने पर 8 कार्मिकों को दिया नोटिस
-जितेंद्र जैकी-
झालावाड़. जिला प्रशासन की ओर से विधानसभा चुनाव के लिए कर्मचारियों को दिए जा रहे प्रशिक्षण में कार्मिक अपनी आदतों से बाज नही आ रहे है। गुरुवार को भी राजकीय पोलीटेक्निक कॉलेज में क्रमांक 386 से 1010 तक के प्रथम मतदान अधिकारियों के प्रशिक्षण में आठ कार्मिक लेट लतीफ रहे। वहीं शिविर में बैठकर तम्बाकू चबाते 17 कार्मिकों का चालान बनाया गया।
-यह कार्मिक ने नही समझा समय का मोल
प्रशिक्षण कार्यक्रम में कार्मिक योगेश कुमार, कन्हैयालाल, अब्दुल सलीम, शिवलाल लोधा, कर्ण सिंह, हेमराज, प्रेमचन्द मीणा एवं महावीर खटीक देरी से पहुंच। इन्हे मतदान दल गठन प्रकोष्ठ प्रभारी एवं जिला परिषद् के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रामजीवन मीणा ने निर्वाचन कानून एवं सीसी नियमों के अन्तर्गत कारण बताओ नोटिस जारी किया तथा शुक्रवार को प्रशिक्षण कार्यक्रम में पुन: निर्धारित समय में उपस्थित होने के निर्देश दिए हैं।
-यह रहे आदत से मजबूर
प्रशिक्षण के दौरान तम्बाकू का सेवन करने पर राप्रावि जगदीशपुरा के जितेन्द्र कुमार नागर, उप रजि. सहकारी समिति के स. प्रशा. अधिकारी मांगीलाल खींची, राउप्रावि नाहरड़ी के अरविन्द कुमार पारीक, राउप्रावि मोजूखेड़ी के रामबाबू मीणा, राउमावि हरिगढ़ के सियाराम धाकड़, राउमावि आवर के अशोक कुमार मीणा, राप्रावि कानपुरा के धन्नालाल गोचर, राउप्रावि टकलोन श्यामलाल मीणा, नरेन्द्र कुमार नागर, रामावि बरेड़ा के किशोरीलाल, राप्रावि चन्द्रपुरा के महेश चन्द्र जायसवाल, उप मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी परिवार कल्याण के योगेश कुमार, राउमावि बामलाबेह के कन्हैयालाल, राउप्रावि रूणजी के अब्दुल सलीम, राप्रावि धांकड़ी शिवलाल लोधा, राउप्रावि मालीपुरा के कृष्ण सिंह देथा एवं राउप्रावि नागनियाखेड़ी के हेमराज लोधा का तम्बाकू का सेवन करने पर कोटपा एक्ट के तहत 200 रुपए का चालान काटा गया।

 

jitendra jakiy Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned