scriptJhalawar News .Central government will cherish the disappearing custom | Jhalawar News...लुप्त होते रीति रिवाज और कला संस्कृति को संजोएगी केंद्र सरकार | Patrika News

Jhalawar News...लुप्त होते रीति रिवाज और कला संस्कृति को संजोएगी केंद्र सरकार

Jhalawar News...पायलट प्रोजेक्ट में झालावाड़ जिले के 30 गांवों का चयन

झालावाड़

Published: January 12, 2022 12:19:51 pm

झालावाड़. गांवों के लुप्त होते प्राचीन रीति रिवाज, दुर्लभ कला संस्कृति, गहनों, गांवों का विशेष खान-पान, शादी-विवाह की रस्में आदि को संजोया जाएगा, ताकि आनी वाली पीढिय़ों को गांवों की कला-संस्कृति से रूबरू हो सके। हर गांव की कुछ विशेषताएं होती है। किसी जगह के माण्डणा प्रसिद्ध है तो किसी जगह की विशेष पद्वति से तैयार भोजन।
गांवों के कुछ खास धार्मिक व पुरा सम्पदा का भी डाटा तैयार किया जाएगा। केन्द्र सरकार की ओर से देशभर के गांवों की पुरा सम्पदा, कला व सांस्कृतिक धरोहर, धार्मिक स्थलों आदि का डाटा तैयार करवाया जाएगा। इसके लिए चिह्नित गांवों का सर्वेक्षण कर कहां क्या-क्या चींजे हैं, उनका पूरा लेखा- जोखा तैयार किया जाएगा। भारत सरकार से central ministry of culture...सेन्ट्रल मिनिस्ट्री ऑफ कल्चर की ओर से सीएससी की ओर से गांव में मौजूद कला साहित्य और धरोहर को अधिक मजबूत बनाने के लिए संरक्षण शुरू किया गया है । सीएससी ई गवर्नेंस के झालावाड़ डिस्ट्रिक्ट मैनेजर हितेश कुमार लोधा ने बताया कि कल्चर मिनिस्ट्री की ओर से झालावाड़ जिले में पायलेट प्रोजेक्ट के तहत 30 गांवों को शामिल किया गया है। जिन भागों में बांटकर सर्वेक्षण किया जा रहा है। जिला प्रबंधक ने बताया जिले में पायलट प्रोजेक्ट मनोहर थाना के गांव कामखेड़ा में शुरू किया गया है। कामखेड़ा बालाजी धाम शिव मंदिर माताजी मंदिर और निर्माणाधीन श्रीराम मंदिर का सर्वेक्षण किया गया है। एक गांव में लुप्त होती कला मरम्मत की बाट जो रही । प्राकृतिक धरोहर गांव में प्रचलित विशेष मान्यता सहित अन्य चीजों का सर्वे कर मिनिस्ट्री को डाटा सौंपा जाएगा। सीएससी डिस्ट्रिक्ट कोर्डिनेटर नन्दलाल, सदस्य ओमप्रकाश लोधा, महेंद्र कुमार, बीरमचन्द आदि मौजूद थे। इसके बाद जिले के 1620 गांवों का सर्वेक्षण कर डाटा तैयार किया जाएगा।
सफेद मार्बल से बन रहा है मंदिर
कामखेड़ा में बालाजी मंदिर के पास ही सफेद मार्बल से इस मंदिर का निर्माण किया गया है। इसका निर्माण कार्य चल रहा है। इसकी भव्यता देखते ही बनती है। बहुत की कलात्मकता से इसका निर्माण किया जा रहा है। कामखेड़ा बालाजी मंदिर जिले का प्रसिद्ध मंदिर है। यहां राजस्थान के अलावा मध्यप्रदेश से भी श्रद्धालु प्रतिदिन आते हैं।
क्या होगा फायदा
गांवों की दुर्लभ कला व सांस्कृतिक धरोहर के डाटा केन्द्र सरकार एकत्रित करने के बाद विलेज ट्यूरिज्म के लिए प्रमोशन करेगी। इससे गांवों में देशी और विदेशी पर्यटकों का आवागमन होगा। इससे आने वाले समय में गांव पर्यटन का हब बन सके। हाल में झालावाड़ इन्वेस्ट समिट में भी निवेशकों ने विलेज ट्यूरिज्म के क्षेत्र में निवेश की मंशा जाहिर की है। इससे आने वाले समय में गांवों में रोजगार सृजन हो सकेगा। विदेशी पर्यटक देश और राजस्थान में यहां की कला संस्कृति, प्राचीन धरोहर आदि देखने के लिए ही आते हैं। झालावाड़ जिले में विलेज ट्यूरिज्म की विपुल संभावनाएं हैं।
,
Jhalawar News...लुप्त होते रीति रिवाज और कला संस्कृति को संजोएगी केंद्र सरकार,Jhalawar News...लुप्त होते रीति रिवाज और कला संस्कृति को संजोएगी केंद्र सरकार

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

पूर्व केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह ने छोड़ी कांग्रेस, सोनिया गांधी को सौंपा अपना इस्तीफाRepublic Day 2022: आज होगी वीरता पुरस्कारों की घोषणा, गणतंत्र दिवस से पूर्व राजधानी बनी छावनीRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस से पहले दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने जारी की एडवाइजरी, घर से निकलने से पहले जरूर जान लेंDelhi: सीएम केजरीवाल का ऐलान, अब सरकारी दफ्तरों में नेताओं की जगह लगेंगी अंबेडकर और भगत सिंह की तस्वीरेंशरीयत पर हाईकोर्ट का अहम आदेश, काजी के फैसलों पर कही ये बातUP Election Campaign :मायावती दो फरवरी से करेंगी प्रचार का आगाज, आगरा में होगी पहली जनसभा7th Pay Commission: कर्मचारियों में खुशी की लहर, जल्द खाते में आएंगे पैसे, एलाउंस भी मिलेगापुलिस को देखकर फिल्मी स्टाइल में बेरिकेट तोड़कर भागे तस्कर, जब जवानों ने की चेकिंग तो मिला डेढ़ करोड़ का गांजा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.