scriptमरीज के साथ डॉक्टर को लेनी होगी फोटो, वरना नहीं पास होगा क्लेम | jhalawar Top News. | Patrika News
झालावाड़

मरीज के साथ डॉक्टर को लेनी होगी फोटो, वरना नहीं पास होगा क्लेम

Doctor will have to take photo with the patient, otherwise the claim will not be passed.

झालावाड़Jun 24, 2024 / 08:26 am

jagdish paraliya

  • सुनेल. आयुष्मान भारत योजना के तहत इलाज व्यवस्था में हेरा-फेरी करने वालों पर सरकार नकेल कसने जा रही है। अब व्यवस्था को मजबूत और पारदर्शी बनाने के उद्देश्य से स्वास्थ्य विभाग ने बड़ा निर्णय लिया है। चयनित निजी अस्पतालों में आयुष्मान योजना के तहत मरीजों को भर्ती करने या सर्जरी करने पर संबंधित चिकित्सक को मरीज के साथ फोटो लेनी होगी। इसके बाद इसे जीपीएस पर लाइव लोकेशन पोर्टल पर अपलोड करना होगा।
सुनेल. आयुष्मान भारत योजना के तहत इलाज व्यवस्था में हेरा-फेरी करने वालों पर सरकार नकेल कसने जा रही है। अब व्यवस्था को मजबूत और पारदर्शी बनाने के उद्देश्य से स्वास्थ्य विभाग ने बड़ा निर्णय लिया है। चयनित निजी अस्पतालों में आयुष्मान योजना के तहत मरीजों को भर्ती करने या सर्जरी करने पर संबंधित चिकित्सक को मरीज के साथ फोटो लेनी होगी। इसके बाद इसे जीपीएस पर लाइव लोकेशन पोर्टल पर अपलोड करना होगा। तभी उनकों इलाज के लिए क्लेम मिलेगा। योजना को पारदर्शी बनाने के लिए सरकार की ओर से निर्णय लिए जा रहे है। आयुष्मान भारत योजना में पात्र लाभार्थी को सरकारी और निजी चयनित अस्पतालों में इलाज कराने पर उन्हें रुपए नहीं देने पड़ेंगे। इसमें सरकार की ओर से दिया जाने वाला क्लेम राशि से उनका इलाज हो सकेगा। कई बार निजी चयनित अस्पतालों में मरीजों का पांच लाख रुपए तक मुफ्त इलाज किया जाता है। लेकिन अस्पतालों में इलाज को लेकर कई बार शिकायतें स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को मिली थी। जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने इलाज व्यवस्था को पारदर्शी बनाने के लिए निगरानी का घेरा और सख्त किया है। अब आयुष्मान भारत में चयनित निजी अस्पतालों में योजना के तहत यदि मरीज का इलाज या फिर उसका ऑपरेशन किया जाता है तो संबंधित चिकित्सक को मरीज के साथ फोटो लेनी होगी। फोटो में चिकित्सक मरीज के साथ स्पष्ट चेहरा होना चाहिए। इसमें यदि किसी प्रकार कमी मिली तो क्लेम निरस्त कर दिया जाएगा।
जिले में 2 लाख 38 हजार आयुष्मान कार्ड धारक

जिले आयुष्मान योजना के तहत 5 लाख 83 हजार कार्ड बनाने का लक्ष्य जिले में रखा गया है। इसमें से 2 लाख 38 हजार कार्ड बनकर तैयार हो गए है। जो आयुष्मान कार्ड धारकों के पास पहुंच रहे हैं। इस योजना के तहत एक साल में पात्र लाभार्थी पांच लाख रुपए तक का नि:शुल्क इलाज करा सकता है। प्रति परिवार पांच लाख रुपए प्रतिवर्ष मिलेंगे। यह योजना सर्जरी, परामर्श और अस्पताल में भर्ती होने वाले खर्च सहित विभिन्न चिकित्सा प्रक्रियाओं का कवर को इसमें शामिल किया गया है।
जिले में 9 निजी अस्पतालों को किया शामिल

सरकार की ओर से आयुष्मान योजना के तहत जिले के 9 निजी अस्पतालों को शामिल किया गया है। इसमें योजना में शामिल परिवार के सदस्य पांच लाख रुपए तक का नि:शुल्क इलाज करवा सकते है।
आयुष्मान भारत योजना के तहत जिले में दो लाख 38 हजार कार्ड बनकर तैयार हो गए है जो योजना का लाभ ले सकते है। इसमें पांच लाख रुपए का इलाज नि:शुल्क किया जाएगा। जो सरकारी व निजी चयनित अस्पताल में ही मिलेगा। वही शेष रहे 3 लाख 45 हजार लोगों का कार्ड तैयार किये जा रहे है।
  • डॉ.मोहम्मद साजिद खान, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी,झालावाड़

Hindi News/ Jhalawar / मरीज के साथ डॉक्टर को लेनी होगी फोटो, वरना नहीं पास होगा क्लेम

ट्रेंडिंग वीडियो