scriptचार माह रहेगी पर्वो की धूम, पिछले साल की तुलना में इस बार राखी, दीपावली सहित कई पर्व 10 दिन पहले | jhalawar Top News. | Patrika News
झालावाड़

चार माह रहेगी पर्वो की धूम, पिछले साल की तुलना में इस बार राखी, दीपावली सहित कई पर्व 10 दिन पहले

There will be celebration of festivals for four months, compared to last year this time many festivals including Rakhi, Diwali will be celebrated 10 days earlier.

झालावाड़Jun 24, 2024 / 08:32 am

jagdish paraliya

  • सुनेल. अगले माह से त्योहारों की शुरुआत हो जाएगी। देवशयनी एकादशी से देवउठनी एकादशी तक चातुर्मास में कई त्योहार आएंगे। अंग्रेंजी कैलेंडर के हिसाब से इस बार पिछले साल की तुलना में रक्षाबंधन, नवरात्रि, दशहरा, दीपावली सहित चातुर्मास के अन्य पर्व 10 दिन से एक पखवाड़ा पहले आएंगे।
सुनेल. अगले माह से त्योहारों की शुरुआत हो जाएगी। देवशयनी एकादशी से देवउठनी एकादशी तक चातुर्मास में कई त्योहार आएंगे। अंग्रेंजी कैलेंडर के हिसाब से इस बार पिछले साल की तुलना में रक्षाबंधन, नवरात्रि, दशहरा, दीपावली सहित चातुर्मास के अन्य पर्व 10 दिन से एक पखवाड़ा पहले आएंगे।
निर्धारित तिथि पर ही आते हैं त्योहार

पंडित नरेन्द्र कुमार शर्मा ने बताया कि त्योहारों की गणना हिंदी पंचांग के हिसाब से की जाती है। जिसके लिए हिंदी का माह और तिथि निर्धारित है। हिंदी पंचांग के अनुसार इस तिथि पर यह त्योहार आते हैं लेकिन अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार आगे-पीछे इसलिए हो जाते हैं कि हिंदी कैलेंडर में हर तीसरे साल अधिक मास होता है। ऐसे में एक माह की अवधि बढ़ जाती है,इसलिए अंग्रेंजीकैंलेंडर की गणना के हिसाब से त्योहार आगे-पीछे होते हैं और उनका क्रम बदलता है। वर्ष 2023 में अधिक मास था, इसलिए इस बार त्योहारों में अंग्रेंजी कैलेंडर के हिसाब से 10-15 दिनों का अंतर दिखाई देगा।
2024 में कब-कब कौन से त्योहार

17 जुलाई देवशयनी एकादशी, 21 जुलाई गुरु पूर्णिमा, 22 जुलाई से श्रावण माह, 19 अगस्त रक्षाबंधन, 26 अगस्त कृष्ण जन्माष्टमी, 7 सितंबर गणेश चतुर्थी, 3 अक्टूबर शारदीय नवरात्रि, 12 अक्टूबर विजयदशमी, 16 अक्टूबर शरद पूर्णिमा, 29 अक्टूबर धनतेरस, 31 अक्टूबर दिवाली, 12 नवंबर देवउठनी एकादशी रहेगे।
2023 में ऐसी थी त्योहारों की स्थिति

29 जून देवशयनी एकादशी, 3 जुलाई गुरुपूर्णिमा, 30 अगस्त रक्षाबंधन, 7 सितंबर कृष्ण जन्माष्टमी, 19 सितंबर गणेश चतुर्थी, 15 अक्टूबर शारदीय नवरात्रि, 24 अक्टूबर विजयदशमी, 28 अक्टूबर शरद पूर्णिमा, 10 नवबंर धनतेरस, 12 नवंबर दिवाली, 23 नवंबर देवउठनी एकादशी थी।
देवउठनी एकादशी तक भगवान विष्णु क्षीर सागर में करते है विश्राम

  • देवशयनी एकादशी का पर्व 17 जुलाई को मनाया जाएगा। मान्यता अनुसार देवशयनी एकादशी से देवउठनी एकादशी तक सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु क्षीरसागर में विश्राम करते हैं और भगवान भोलेनाथ सृष्टि का संचालन करते हैं। इन चार माह में साल के सबसे अधिक व्रत-त्योहार आते हैं। चातुर्मास के दौरान एक माह श्रावण का महीना होगा और इस एक माह में भक्त महादेव की आराधना, जलाभिषेक करेंगे। इसी प्रकार नागपंचमी, रक्षाबंधन, जन्माष्टमी, गणेश उत्सव, दुर्गा उत्सव, दशहरा, दिवाली सहित अन्य पर्व रहते हैं। चातुर्मास के चार महीनों तक पूरे साल में सबसे अधिक पर्व रहते हैं। इस बार चातुर्मास के दौरान आने वाले अधिकांश पर्व 11 से 15 दिन जल्दी आएंगे।

Hindi News/ Jhalawar / चार माह रहेगी पर्वो की धूम, पिछले साल की तुलना में इस बार राखी, दीपावली सहित कई पर्व 10 दिन पहले

ट्रेंडिंग वीडियो