scriptचिकित्सा संस्थानों को मिलेे पर्याप्त बजट,कर्मचारियों की कमी हो पूरी | - प्री बजट परिचर्चा | Patrika News
झालावाड़

चिकित्सा संस्थानों को मिलेे पर्याप्त बजट,कर्मचारियों की कमी हो पूरी

– प्री बजट परिचर्चा

झालावाड़Jun 21, 2024 / 11:26 am

harisingh gurjar

झालावाड़.राजस्थान सरकार अपना बजट 10 जुलाई को पेश करेगी। ऐसे में जिले के चिकित्सा विभाग में कार्यरत कर्मचारियों से पत्रिका ने प्री बजट परिचर्चा की तो उन्होंने कई सुझाव दिए। जिसमें चिकित्सा संस्थानों को अपग्रेड करने सहित कर्मचारियों की समस्याओं पर ध्यान देने की बात कही। जिले में चिकित्सा संस्थानों को विकसित करने के लिए डग,मनोहरथाना सहित कई क्षेत्रों के चिकित्सा संस्थानों को विकसित करने की जरुरत है।
ऐसे बताई अपनी मांगे

01.एसआरजी चिकित्सालय में 100 बेड के हिसाब से ही नर्सिंग ऑफिसर के पद स्वीकृत है, जबकि यहां अब 11 सौ से अधिक सीटें हो गई है। उसके हिसाब से बजट में पद स्वीकृत करने चाहिए ताकि जिले में चिकित्सा सेवा में सुधार हो सके।जिले के युवाओं को स्थानीय स्तर पर ही नियुक्ति मिल सके। वहीं राज्य कर्मचारियों के लंबित 15 सूत्रीय मांगपत्र का शीघ्र समाधान करना चाहिए।
राधेश्याम पाटीदार, जिलाध्यक्ष कर्मचारी महासंघ एकीकृत झालावाड़।

02. राज्य में संविदा ठेका प्रथा बंद कर युवाओं को नियमित रोजगार के संसाधन उपलब्ध कराने के लिए बजट में विशेष प्रावधान किए जाने चाहिए। जिले में ऐसी कई पीएचसी है जिन्हे सीएचसी में अपग्रेड करना चाहिए। नर्सेज के सभी पदों पर भर्तियां निकाली जाएं।
अरुण श्रृंगी,जिला संयोजक राजस्थान नर्सेज संयुक्त संघर्ष समिति, झालावाड़।

03. चिकित्सक की अनुपस्थिति में नर्सेज को सामान्य दवा लिखने का अधिकार दिया जाएं, नर्सेज को समयबद्ध पदोन्नति के अवसर प्रदान किए जाएं। डॉक्टर व नर्सिंग ऑफिसर के खाली पद भरे जाएं। जिले के रिमोट एरिये के लिए अतिरिक्त स्वास्थ्य बजट दिया जाए।
मनोज मीणा, जिलाध्यक्ष राजस्थान नर्सेज संयुक्त संघर्ष समिति झालावाड़।

04. राजस्थान सरकार बजट में ऐसा प्रावधान करें ताकि नर्सेज को सम्मानजनक वेतन मिले। प्रदेश में लंबित चिकित्सा विभाग की भर्तियों को अति शीघ्र पूर्ण करके पदस्थापन आदेश जारी किए जाएं। प्रतिबंधित जिलो से स्थानांतरण बेन खोले जाएं, तबादला नीति बनाई जाएं।
लोकेश मीणा, अध्यक्ष मेडिकल कॉलेज झालावाड़।

05. आगामी बजट में झालावाड़ जिले के अकलेरा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की सैटेलाइट चिकित्सालय में क्रमोन्नत करके चिकित्सा सुविधाओं का विस्तार किया जाना चाहिए। उप जिला चिकित्सालय का दर्जा दिया जाएं। जिले में बजट घोषणा में बाद नर्सिंग कॉलेज के बारे में कुछ नहीं हुआ उसको चालू किया जाएं।
पवन वर्मा,उपाध्यक्ष नर्सिंग टीचर्स एसोसिएशन,झालावाड़।

06.राजस्थान सरकार के जुलाई में पेश होने वाले बजटके लिए चिकित्सा विभाग से सुझाव लेकर जिले के सुनेल, खानपुर, पिड़ावा, मनोहरथाना, बकानी, रटलाई , असनावर सीएचसी में सुविधाएं बढ़ाने के लिए अलग से बजट दिया जाएं।खानपुर मेगा हाइवे व असनावर नेशनल हाइवे पर ट्रोमा सेंटर खोले जाएं। ताकि जिले में हो रहे सड़क हादसों में लोगों को जल्द इलाज मिल सके।
ललित गुर्जर, जिलाध्यक्ष नर्सिंग कर्मचारी संघ, झालावाड़।

07.हर सीएचसी स्तर पर एम्बुलेंस की सुविधा व डॉक्टरों की कमी को पूरा किया जाएं। जिलेभर की चिकित्सा सुविधाओं का बजट पूर्व सर्वे करवाकर जो कमियां है उनके लिए बजट में विशेष प्रावधान किए जाएं।
मनोज खलोरा, नर्सिंग ऑफिसर,झालावाड़

08 भवानीमंडी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में डग, चौमहला व एमपी तक के मरीज आते हैं, इसे सैटेलाइट चिकित्सालय घोषित किया जाएं ,अलग से बजट दें। महिला नर्सेज को ड्यूटी के दौरान सुरक्षा एवं नर्सेज को पर्याप्त संसाधन के लिए बजट दिया जाएं।
अरविन्द परिहार सचिव नर्सिंग टीचर्स एसोसिएशन।

09.मेडिकल कॉलेज में नर्सेज सहित तकनीकी विभाग में पुराने पदों के हिसाब से पद स्वीकृत है। बजट में इसकी घोषणा करनी चाहिए।

सत्यनारायण रैगर, नर्सिंग ऑफिसर,झालावाड़।

Hindi News/ Jhalawar / चिकित्सा संस्थानों को मिलेे पर्याप्त बजट,कर्मचारियों की कमी हो पूरी

ट्रेंडिंग वीडियो