scriptMinister preparing to close such running dairy, milk will come from Ko | मंत्रीजी ऐसे चल रही डेयरी को बंद करने की तैयारी | Patrika News

मंत्रीजी ऐसे चल रही डेयरी को बंद करने की तैयारी

प्रबंध निदेशक ने झालावाड़ और बारां में दूध सप्लाई कोटा डेयरी से करने के दिए आदेश

झालावाड़

Updated: May 13, 2022 01:20:37 pm

झालावाड़. डेयरी प्रबंधन और डेयरी मंत्री प्रमोद जैन भाया भले ही झालावाड़-बारां जिला दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ लिमिटेड (झालावाड़-बारां डेयरी) को बंद करने ने इनकार कर रहे हैं, लेकिन पर्दे के पीछे बंद करने की पूरी तैयारी कर ली है। कोटा डेयरी प्रबंधन ने दो दिन बाद झालावाड़ डेयरी प्लांट में दूध का उत्पादन बंद करने का निर्णय किया है। दो दिन बाद झालावाड़ और बारां जिले दूध की सप्लाई झालावाड़ डेयरी के बजाए कोटा डेयरी से किया जाएगा। इस संबंध में कोटा डेयरी की एमडी ने आदेश जारी कर दिया है।
ये जारी किया आदेश
डेयरी की प्रबंध निदेशक प्रमोद चारण ने 10 मई को एक आदेश जारी किया है। जिसमें कोटा डेयरी के प्लांट प्रभारी को लिखा है कि आरसीडीएफ के प्रबंध निदेशक से 9 मई को हुई वार्ता में उनके द्वारा झालावाड़ एवं बारां में जो दूध सप्लाई झालावाड़ डेयरी प्लांट में की जा रही है, उसको कोटा डेयरी प्लांट से किया जाना उचित होगा, इस पर सहमति दी गई है। अत : झालावाड़-बारां में दुग्ध सप्लाई कोटा डेयरी से 14 मई से प्रारंभ करने की व्यवस्था करें। प्लांट में उत्पादन पहले ही बंद कर दिया है।इस आदेश की प्रतिलिपि झालावाड़-बारां डेयरी के एमडी को भी भेजी है। कोटा डेयरी की एमडी के पास ही झालावाड़ डेयरी के एमडी का अतिरिक्त चार्ज है।
ताकि झालावाड़ नहीं आना-जाना पड़े
डेयरी अधिकारी कोटा में ही जमे रहना चाहते हैं। उनको पशुपालकों के हितों से कोई वास्ता नहीं है। कोटा डेयरी की एमडी के पास झालावाड़ डेयरी का भी अतिरिक्त कार्यभार है। ऐसे में एमडी को सप्ताह में दो से तीन दिन झालावाड़ आना पड़ता। इससे बचने के लिए ऐसा फरमान जारी कर दिया कि यहां आने की जरूरत नहीं पड़ेगी। क्योंकि झालावाड़ डेयरी प्लांट में दूध नहीं आएगा तो अधिकारियों का कोई काम नहीं रहेगा।
दो जिलों के पशुपालकों के हितों पर कुठाराघात
मुख्यमंत्री प्रदेश के पुशपालकों और दुग्ध उत्पादकों के हितों पर विशेष ध्यान दे रहे हैं, लेकिन अधिकारी कागजी घोड़े दौड़ा रहे हैं। झालावाड़-बारां डेयरी प्लांट बंद होने पर दोनों जिलों के सैकड़ों पशुपालकों को नुकसान होगा।
2007 में शुरू हुई थी डेयरी
झालावाड़़- बारां डेयरी वर्ष 2007 में तत्कालीन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने दोनों ं जिले के दुग्ध उत्पादकों को उनके द्वारा उत्पादित दूध का उचित मूल्य दिलाने और लोगों को अच्छी गुणवत्ता का दूध उपलब्ध कराने के लिए यहां पर सरस डेयरी की स्थापना कराई थी। तब से ही यह डेयरी यहां पर संचालित है। वर्ष 2010 में कुछ कारणवश इसे बंद कर दिया गया था। जिसे वसुंधरा राजे ने दिसंबर 2015 में अतिरिक्त बजट देकर एवं मशीनरी दिला कर फि र से शुरू कराया गया था, लेकिन डेयरी पर कर्ज का भार बढ़ते जाने और दूध का उत्पादन कम होने के कारण लागत के मुकाबले आय कम होने से डेयरी फेडरेशन फिलहाल यहां से दूध का उत्पादन बंद करवा कर संयंत्र को अवशीतन केंद्र के रूप में चलाने के मूड में है।
जनप्रतिनिधियों की चुप्पी पर उठे सवाल
झालावाड़ डेयरी को गुपचुप तरीके से बंद करने की तैयारी चल रही है, लेकिन जिले के जनप्रतिनिधियों ने चुप्पी साध रखी है। विधायकों से लेकर किसी भी जनप्रतिनिधि ने इस संबंध में अभी तक कोई आवाज नहीं उठाई है। कांग्रेस के जिलाध्यक्ष पशुपालक से जुड़े हैं, लेकिन उन्होंने भी अभी तक चुप्पी साध रखी है।
मंत्रीजी ऐसे चल रही डेयरी को बंद करने की तैयारी, दूध कोटा से आएगा
मंत्रीजी ऐसे चल रही डेयरी को बंद करने की तैयारी, दूध कोटा से आएगा

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

नाइजीरिया के चर्च में कार्यक्रम के दौरान मची भगदड़ से 31 की मौत, कई घायल, मृतकों में ज्यादातर बच्चे शामिल'पीएम मोदी ने बनाया भारत को मजबूत, जवाहरलाल नेहरू से उनकी नहीं की जा सकती तुलना'- कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मईमहाराष्ट्र में Omicron के B.A.4 वेरिएंट के 5 और B.A.5 के 3 मामले आए सामने, अलर्ट जारीAsia Cup Hockey 2022: सुपर 4 राउंड के अपने पहले मैच में भारत ने जापान को 2-1 से हरायाRBI की रिपोर्ट का दावा - 'आपके पास मौजूद कैश हो सकता है नकली'कुत्ता घुमाने वाले IAS दम्पती के बचाव में उतरीं मेनका गांधी, ट्रांसफर पर नाराजगी जताईDGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थापंजाबः राज्यसभा चुनाव के लिए AAP के प्रत्याशियों की घोषणा, दोनों को मिल चुका पद्म श्री अवार्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.