संक्रमण का नहीं खौफ, सामूहिक बैठ कर रहे बातें....

गलियों में सटे हुए है मकान, नहीं कर रहे नियम की पालना

By: Anil Sharma

Published: 02 Jun 2020, 11:37 PM IST

झालरापाटन. नगर का कन्टेमेंट जोन घनी आबादी वाली तंग गलियों में हंै, इन गलियों में एक दूसरे के मकान सटे हंै। कई लोग छोटे-छोटे कमरों मेें किराए से रहते हैं। नगर की 70 प्रतिशत आबादी नगर परकोटे के अन्दर रहती है। यही जिला प्रशासन व चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की सबसे बड़ी चिंता है।
विभाग की माने तो घनी आबादी वाले क्षेत्रों में लोग सोशल डिस्टेंस के नियमों की पालना सही तरीके से नहीं करते हंै। जिससे यहां संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ रही है। पुलिस की सख्ती होने के बावजूद अभी भी गलियों में लोग घर से बाहर निकलकर कर सोशल डिस्टेंस की अवहेलना करते हुए बतियाते रहते हैं। जबकि इसी कारण को लेकर पूरा नगर कोरोना की चपेट में आया है। पहलेे जहां संक्रमित मिलते थे, उस क्षेत्र की सीमा को ही सील किया जाता था, लेकिन अब कन्टेमेंट जोन घोषित कर उसकी सीमा तय की जाती है। जिससेे वर्तमान मेें नगर का तीन चौथाई हिस्सा इस परिधि में है। कोरोना संक्रमितों की संख्या बढऩे के साथ ही उपचार के बाद लोगों के रिकवर होकर घर लौटने से अब अच्छे संकेत सामने आने से इस बीमारी को लेकर खौफ में कमी आने लगी है। ईमली दरवाजा क्षेत्र के कई संक्रमित मंगलवार को रिकवर होकर घर लौटे हैं, जिससे मौहल्ले के लोगों में उत्साह दिखाई दिया। वहीं चिकित्सा विभाग ने आधा दर्जन जगह कैम्प लगाकर लोगों के कोरोना सैम्पल लिए।

कई वस्तुएं उपलब्ध नहीं हो रही
जीरो मोबिलिटी क्षेत्र में लोगों को जरूरत की कई वस्तुएं उपलब्ध नहीं होने से परेशानी आ रही है। प्रशासन ने यह वस्तुएं उपलब्ध कराने के लिए चिह्नित दुकानदारों के मोबाईल नम्बर दिए हैं, लेकिन इन दुकानदारों के कॉल अटेंड नहीं करने सेे लोग परेशान हैं।

मवेशी भी परेशान
इसके साथ ही मोबिलिटी क्षेत्र में रहने वाले कई परिवारों को उनके मवेशियों के लिए चारे व आहार का प्रबंध करने मेें परेशानी आ रही है। एडवोकेट जावेद अख्तर ने बताया कि हरा चारा उपलब्ध नहीं होने से मवेशियों को 4 दिन से आहार नहीं मिल पा रहा है। यहीं परेशानी अन्य लोगों को भी आ रही है।

परकोटे का लाभ उठा रहे व्यापारी
नगर परकोटे के अन्दर जीरो मोबिलिटी लागू होने के बावजूद व्यापारी इसका खुला उल्लंघन कर रहे हैं। जीरो मोबिलिटी के कारण नगर के अधिकांश लोग अपने घरों मेें बंद हंै। इसके बावजूद कुछ व्यापारी नगर परकोटे का फायदा उठाकर परकोटे के बाहर से अन्दर सामान पहुंचाकर व्यापार कर रहे हैं। यह लोग परकोटे के ऊपर खड़े होकर रस्सी लगाकर बाहर से सामान ऊपर खेंच कर अन्दर ले जा रहे हैं।

अधिकांश सब्जी खराब
मंगलवार सुबह वितरण के लिए लाई गई सब्जी का मुकेरी मौहल्लेवासियों ने अधिकांश सब्जी खराब बताते हुए विरोध किया। इसे लेकर मौहल्ले के लोगों व टीम सदस्यों के बीच बहस हुई और इन्होंने सब्जी वापस कर दी।

दूध फटने की शिकायत
इसके साथ ही कई लोगों ने वितरित किए जा रहे दूध की गुणवत्ता व पैकिंग युक्त दूध मेें चींटियां निकलनेे व दूध फटने की शिकायत की। प्रबंध संचालक राकेश शर्मा ने बताया कि वह इस मामले की जांच करेंगेे साथ ही उन्होंनेे बताया कि एक लीटर दूध की कीमत 42 रुपए है, लेकिन खुल्ले पैसे की परेशानी को देखते हुए पैकिंग में दूध की मात्रा मेें कमी कर 40 रुपए की दर ली जा रही है।

Anil Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned