चार साल से नहीं हुई डीड राइटर की परीक्षा, लोग परेशान

-मुख्यालय सहित झालरापाटन, भवानीमंडी, अकलेरा, खानपुर, पिड़ावा, बकानी आदि ब्लॉक में डीड राइटर के लिए युवाओं ने आवेदन कर रखा है।

By: Hari Singh gujar

Published: 04 Jan 2018, 12:42 PM IST

झालावाड़.अनपढ़ व कम पढ़े लिखे लोगों को अधिकारियों के यहां अर्जी देने में भी काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इसका कारण है हर ब्लॉक व जिला मुख्यालय पर डीड राइटर का नहीं होना। इसके लिए स्वयं प्रशासन के अधिकारी ही जिम्मेदार है। जो परीक्षा हर दो वर्ष में आयोजित करवानी होती है। वह चार वर्ष होने के बाद भी नहीं हुई है। इससे ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले लोगों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

READ MORE-धरतीपुत्रों की योजना दो विभाग के बीच बनी फुटबॉल...

 

इतने लोगों ने कर रखा है आवेदन-
जिले में डीड राइटर बनने के लिए करीब 300 युवाओं ने आवेदन कर रखा है। लेकिन अभी तक परीक्षा नहीं होने से लोगों को भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। तो बेरोजगारों को भी रोजगार नहीं मिल पा रहा है। इन लोगों के आवेदन मिनी सचिवालय में धूल फांक रहे हैं। लेकिन इस ओर अधिकारियों का कोई ध्यान नहीं है। लोकेश कुमार ने बताया कि परीक्षा हो तो कहीं भी बैठकर दिनभर लोगों के आवेदन भर सकते हैं। लेकिन लंबे समय से परीक्षा नहीं हो रही है।

 

READ MORE-ऐसा क्या हुआ कि झालावाड़ में 13 कांग्रेस पार्षदों ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से दिया इस्तीफा..

यह है नियम-
डीड राइटर की परीक्षा कराने का नियम यह है कि हर दो वर्ष में परीक्षा आयोजित करवाई जानी चाहिए। लेकिन चार वर्ष होने के बाद भी इनकी परीक्षा नहीं करवाई जा रही है। जिले में झालरापाटन, भवानीमंडी, अकलेरा, चौमहला, डग, असनावर, खानपुर, पिड़ावा, बकानी आदि ब्लॉक में डीड राइटर के लिए युवाओं ने आवेदन कर रखा है। परीक्षा नहीं होने से परेशान हो रहे हंै।

 

READ MORE-ऐसा क्या हुआ कि नए साल में ज्यादा नशा होने से मर गए दो पशु...

इनकों ज्यादा होती है परेशानी-
ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले अनपढ़ व बुजुर्ग लोगों को पेंशन व अन्य परेशानी के लिए अधिकारी के पास आवेदन करना होता है, लेकिन इन बुजुर्गों का आवेदन लिखने वाला कोई नहीं होने से कई बार इधर-उधर लोगों से कहना पड़ता है, लेकिन आवेदन लिखने के लिए कोई भी तैयार नहीं होता है। सोमवार को नयागांव से आए बुजुर्ग दौलतराम ने बताया कि किसी काम से आया था। आवेदन लिखवाना था, कोई भी नहीं है, किससे खिलवाएं। एक व्यक्ति ऐसा तो होना चाहिए जो बुजुर्गों व महिलाओं के आवेदन लिख सकें।

इस संबंध में अतिरिक्त जिला कलक्टर भवानीसिंह पालावत का कहना है कि डीड राइटर की परीक्षा के बारे में पता करेंगे क्यों नहीं हो रही करवाएंगे।

Hari Singh gujar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned