scriptOmicron threat, special surveillance on those coming from Madhya Prade | Jhalawar.....ओमिक्रॉन का खतरा, मध्यप्रदेश से आने वालों पर विशेष निगरानी | Patrika News

Jhalawar.....ओमिक्रॉन का खतरा, मध्यप्रदेश से आने वालों पर विशेष निगरानी

विदेश से आने वाले यात्रियों के लिए के लिए संशोधित एडवाइजर जारी

झालावाड़

Published: December 07, 2021 11:01:01 am

झालावाड़.जयपुर में ओमिक्रॉन का बम फूटने के बाद चिकित्सा विभाग अलर्ट हो गया है। झालावाड़ जिला मध्यप्रदेश से सटा हुआ है, जहां इंदौर, भोपाल, उज्जैन, जबलपुर आदि जिलों से प्रतिदिन झालावाड़ में यात्री आते जाते हैं। इस लिए ऐहतियात के तौर पर झालावाड़ जिले की सभी ब्लॉक, सीएचसी एवं पीएचसी के प्रभारियों को निर्देशित किया गया है कि वे बाहर से आने वालों पर निगरानी रखे और सैम्पलिंग लें। सीएमएचओ डॉ.साजिद खान ने जिले के सभी चिकित्सा संस्थान प्रभारियों को पाबन्द किया है कि वे अन्य राज्य व जिले के बाहर से आने वाले यात्रियों की कोविड-19 सैम्पलिंग करवाते हुए उनको क्वारेन्टाइन करवाना सुनिश्चित करें। सीएमएचओ ने बताया कि एहतियात के तौर पर झालावाड़ जिले की सभी ब्लॉक, सीएचसी एवं पीएचसी के प्रभारीयों को निर्देशित किया गया है कि वे अपने क्षेत्रों में विदेश या अन्य राज्य या जिलों से आ रहे यात्रियों की प्रतिदिन ट्रेसिंग करें साथ ही सभी के कोविड.19 के सेम्पल लेकर जॉच के लिए जिला मुख्यालय के केन्द्र पर भिजवाना सुनिश्चित करे। ताकि ओमिक्रॉन स्ट्रेन वायरस जिसे देखते हुए सरकार द्वारा विदेश से आए हुए यात्रियों की पूर्व में दी गई एडवाईजरी में संशोधन करते हुए नई एडवाईजरी की सख्त पालना करवाए। जिला कलक्टर हरिमोहन मीना के निर्देश पर जिले के के 272 चिकित्सा संस्थानोंए प्रशासन गांव के संग अभियान, मुख्यमंत्री राजस्थान चिरंजीवी स्वास्थ्य शिविर एवं हर घर दस्त अभियान के तहत घर.घर जाकर कोविड.19 वैक्सीन कोविशिल्ड व को.वैक्सीन की दोनों डोज लगाई जा रही है। साथ ही घर.घर सर्वे के माध्यम से गहन मोनिटरिंग की जा रही है।
बच्चों को परीक्षण से छूट
नई जारी की गाइड लाइन में 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को आगमन से पहले और बाद में परीक्षण से छूट दी गई है। हालांकि यदि आगमन पर या होम क्वारंटाइन अवधि के दौरान कोविड-19 के लक्षण पाए जाते हैं, तो बच्चों का उनका परीक्षण किया जाएगा और निर्धारित प्रोटोकॉल के अनुसार उनका इलाज किया जाएगा। जिन देशों से यात्रियों को भारत में आगमन पर अतिरिक्त उपायों का पालन करना होगा। जिसमें आगमन के बाद परीक्षण जोखिम वाले देश निगरानी और मानक प्रोटोकॉल के अनुसार उपचार शामिल हैं। निगेटिव होने पर 14 दिनों तक सेल्फ हेल्थ मॉनिटरिंग करें।
निर्धारित मानक प्रोटोकॉल के अनुसार उपचार
आगमन पर आरटी.पीसीआर परीक्षण से गुजरने वाले यात्रियों के नमूने अंतरराष्ट्रीय यात्रियों का परीक्षण किया। नेगेटिव को होम क्वारंटाइन, सात दिन के लिए अनुमति दी जाएगी, 8 वें दिन पुन: परीक्षण किया जाएगा और बाद में अन्य 7 दिनों के लिए स्व.निगरानी करने की अनुमति दी जाएगी।
-निर्धारित मानक प्रोटोकॉल के अनुसार उपचार। ओमाइक्रोन प्रकार के लिए जीनोमिक परीक्षण नकारात्मक होने पर उपचार करने वाले चिकित्सक के विवेक पर छुट्टी दी जाती है।
-14 दिनों के लिए स्वयं स्वास्थ्य निगरानी।
-जीनोमिक परीक्षण के लिए नमूना भेजे।
फैक्ट फाइल
-जिले में कोरोना पॉजिटिव-17534
-जिले में कुल सैंपलिंग-281605
-जिले में कोरोना से मौतें-222
-जिले में अभी सैंपल लिए जा रहे- करीब 1000 प्रतिदिन
Jhalawar.....ओमिक्रॉन का खतरा, मध्यप्रदेश से आने वालों पर विशेष निगरानी
Jhalawar.....ओमिक्रॉन का खतरा, मध्यप्रदेश से आने वालों पर विशेष निगरानी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.