scriptStrong jump in wheat prices, increased by Rs 300 a quintal in a month | गेहूं के दामों में जोरदार उछाल, एक माह में बढ़े 300 रुपए क्विंटल | Patrika News

गेहूं के दामों में जोरदार उछाल, एक माह में बढ़े 300 रुपए क्विंटल

निर्यात के कारण दामों में आई तेजी, किसान खुश, उपभोक्ता परेशान

झालावाड़

Published: May 12, 2022 11:38:35 am

झालावाड़. झालरापाटन. हरिश्चंद्र कृषि उपज मंडी में गेहूं के दामों में जबरदस्त उछाल आने के साथ ही गेहूं 2300 रुपए प्रति क्विंटल पर बिका। वैश्विक स्तर पर गेहूं के दाम 10 साल के उच्चतर स्तर पर पहुंच गए हैं। रूस और यूक्रेन के बीच जारी युद्ध का असर भारत में भी गेहूं की कीमतों में देखा जा रहा है। रूस यूक्रेन युद्ध अब आम लोगों की जेब ढीली कर रहा है जिससे स्थानीय बाजार में भी गेहूं के दाम में जबरदस्त उछाल आ रहा है। मंडी में एक माह में ही गेहूं के दामों में लगभग 300 रुपए प्रति ङ्क्षक्वटल की तेजी देखी गई। 5 अप्रैल 2022 को मंडी में गेहूं के दाम 2030 रुपए प्रति ङ्क्षक्वटल थे जो बढ़कर 5 मई 2022 यानी कि बुधवार तक 2300 रुपए प्रति क्विंटल तक पहुंच गए हैं।
व्यापारियों का कहना है कि रूस और यूक्रेन के बीच जारी युद्ध का असर सिर्फ दोनों देशों की सीमाओं तक ही सीमित नहीं है, बल्कि पूरी दुनिया को इस जंग के परिणाम आर्थिक रूप से भुगतने पड़ रहे हैं।
बम्पर उत्पादन
व्यापारियों का कहना है कि इस वर्ष गेहूं का जबरदस्त उत्पादन होने के बावजूद बाहों में लगातार तेजी का रुख जारी है। इस वर्ष किसानों को दोहरा फायदा मिल रहा है, गेहूं के साथ ही किसानों को भूसे के भी अच्छे दाम मिल रहे हैं जिससे गेहूं उत्पादकों की इस बार बल्ले बल्ले हो रही है। मंडी में गेहूं की जबरदस्त आवक होने से पूरे परिसर में हर तरफ गेहूं के ढेर दिखाई दे रहे हैं। गल्ला व्यापारियों का कहना है कि गेहूं की अच्छी पैदावार होने के साथ ही गुणवत्ता भी बहुत ही बढिय़ा है जिससे इसकी बाहर काफी मांग हो रही है।
गेहूं के आपूर्ति प्रभावित रहेगी
जानकार लोगों ने बताया कि रूस कई खाद्यान्नों, कच्चे तेल, औद्योगिक धातु का बहुत बड़ा निर्यातक है और इस युद्ध के कारण इनकी आपूर्ति खतरे में पड़ है जिससे वैश्विक स्तर पर इनके दाम आसमान छूने लगे हैं। रूस और यूक्रेन का गेहूं निर्यात भी प्रभावित हुआ है और ऐसी आशंका है कि आने वाले समय में भी गेहूं के आपूर्ति प्रभावित रहेगी। चीन और भारत के बाद रूस ही सबसे बड़ा गेहूं उत्पादक देश है। गेहूं के निर्यात के मामले में यह शीर्ष स्थान पर है, गेहूं निर्यातक देशों में यूक्रेन का पांचवा स्थान है।
वैश्विक स्तर पर इसकी बढ़ती कीमत
गल्ला व्यापारी विजय क्विंटल राठौर ने बताया कि भारत में वर्ष 21 एवं 22 के दौरान सरकार ने गेहूं के रिकॉर्ड उत्पादन का अनुमान है, लेकिन वैश्विक स्तर पर इसकी बढ़ती कीमत देख कर भारी मात्रा में गेहूं का निर्यात करने की तैयारी है, गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य वर्ष 2022 व 2023 के लिए 2015 रुपए प्रति क्विंटल तय किया है और किसान आम तौर पर इसी डर से गेहूं बेचने को तरजीह देते थे लेकिन अब बाजार में एमएसपी से अधिक कीमत मिल रही है। कारोबारियों ने बताया कि एम एसपी के ऊपर गेहूं के भाव का होना यह दर्शाता है कि सरकार को किसानों से इस बार बहुत ही कम मात्रा में गेहूं मिल पाएगा।
गेहूं का निर्यात
गल्ला व्यापारी विजय कुमार मूंदड़ा व अंकुर शाह ने बताया कि भारत मुख्य रूप से नेपाल, बांग्लादेश, संयुक्त अरब अमीरात, श्रीलंका और यमन को गेहूं का निर्यात करता है। रूस और यूक्रेन के युद्ध रत होने से गेहूं की वैश्विक आपूर्ति खतरे में आ गई है और इसी के कारण अन्य देशों में भी गेहूं का निर्यात करने के लिए संबंधित देशों और निर्यातकों से बातचीत कर रहा है। वैश्विक स्तर पर गेहूं के दाम 10 साल के उच्चतम स्तर पर हैं।
दाम आसमान छूने लगे
गल्ला कारोबारियों ने बताया कि दुनिया भर का 30 प्रतिशत गेहूं सप्लाई करने वाले यूक्रेन और रूस के युद्ध के चलते भारत में भी गेहूं के दाम आसमान छूने लगे हैं। आमतौर पर गेहूं की आवक के समय दाम कम होते हैं जबकि मंडी में जैसे-जैसे अधिक मात्रा में गेहूं आ रहे हैं, वैसे दामों में जबरदस्त उछाल आ रहा है।
आवक बढ़ रही
गल्ला व्यापारी अशोक मेहता ने बताया कि मंडी में दिन-प्रतिदिन गेहूं की आवक बढ़ रही है। भारत से हल्का माल तीन नंबर गेहूं का एक्सपोर्ट होता है वही एक नंबर और दो नंबर गेहूं की खपत हमारे देश में ही हो जाती है। उन्होंने बताया कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में निर्यात खुल जाने के बाद गेहूं के दाम में बढ़ोतरी हो रही है। इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ कि सीजन में होने के बाद भी गेहूं के दामों में एक माह में 300 रुपए प्रति ङ्क्षक्वटल की तेजी देखी गई। इससे उन किसानों को फायदा हो रहा है जो अब अपनी फसल बाजार में बेचेंगे। कई किसानों ने बीच में मौसम खराब होने के कारण आनन-फानन में अपनी उपज बेच दी है इसे लेकर वह पछता रहे हैं।
गेहूं के दामों में जोरदार उछाल, एक माह में बढ़े 300 रुपए क्विंटल
गेहूं के दामों में जोरदार उछाल, एक माह में बढ़े 300 रुपए क्विंटल

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिंदबरम के बेटे के घर पर CBI की रेड, कार्ति बोले- कितनी बार हुई छापेमारी, भूल चुका हूं गिनतीकुतुब मीनार और ताजमहल हिंदुओं को सौंपे भारत सरकार, कांग्रेस के एक नेता ने की है यह मांगकोर्ट में ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश होने में संशय, दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट में एक बजे सुनवाई, 11 बजे एडवोकेट कमिश्नर पहुंचेंगे जिला कोर्टहरियाणा: हरिद्वार में अस्थियां विसर्जित कर जयपुर लौट रहे 17 लोग हादसे के शिकार, पांच की मौत, 10 से ज्यादा घायलConstable Paper Leak: राजस्थान कांस्टेबल परीक्षा रद्द, आठ गिरफ्तार, 16 मई के पेपर पर भी लीक का सायाWeather Update: उत्तर भारत में भीषण गर्मी, इन राज्यों में आंधी और बारिश की अलर्टLucknow: क्या बदलने वाला है प्रदेश की राजधानी का नाम? CM योगी के ट्वीट से मिले संकेतजमैका के दौरे पर गए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने क्यों की सलवार-कुर्ता की चर्चा, जानिए इस टूर में और क्या-क्या हुआ
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.