गरीब तबके के लिए रोजगार का माध्यम बना तेंदूपत्ता तुड़ाई कार्य

श्रमिकों को मिल रहा आर्थिक संबल

By: arun tripathi

Published: 22 May 2020, 04:57 PM IST

भालता. देश में लगातार बढ़ते कोरोना संक्रमण ने सम्पन्न वर्ग से लेकर गरीब तबके के लोगों के समक्ष आसन्न संकट उत्पन्न कर रखा है। कोरोना के कारण बिगड़ी आर्थिक व्यवस्था को सुधारने में क्षेत्र के जंगलों में उगी वनसंपदा भी सहयोग कर रही है। मंदी का सामना कर रही सरकार को तेंदूपत्ते के ठेकों से राजस्व प्राप्ति हुई। वहीं कोरोना काल में श्रमिकों व दिहाड़ी मजदूरों को तेंदूपत्ता तुड़ाई से मिलने वाली राशि से आर्थिक संबल मिल सकेगा। काम धंधे रोजगार व मजदूरी ठप्प होने पर गरीब वर्ग के लोगों के सामने आर्थिक संकट की स्थिति पैदा होने लगी थी। इन दिनों सरकार द्वारा तेंदूपत्ता तुड़ाई से क्षेत्र की महिलाएं बच्चों के साथ बुजुर्ग भी इस काम में जुटकर रोजी-रोटी का जुगाड़ कर रहे हैं।
उम्र के हिसाब से कार्य विभाजन
जंगल से पत्ते तोड़कर गड्डी बनाने से लेकर बेचने तक कड़ी मशक्कत की जाती है। इस कार्य में गरीब परिवार के बच्चे युवतियां, महिलाएं, पुरुषों के साथ बुजुर्ग भी सहयोग करते हैं। ग्रामीण अलसुबह ही करीब 3 किमी दूर जंगल में जाकर तीन्दू के पेड़ों से पत्ते तोड़ बोरे व प्लास्टिक के कट्टों में भर पैदल व बाइक से घर तक लाते हैं। घर के छोटे बड़े सभी सदस्य दिनभर मिलकर पत्तों की छटाई कर गड्डियां बांधते हैं। जिन्हें शाम के समय युवक बेचने जाते हैं।
प्रति गड्डी मिल रहा एक रुपया
ग्रामीणों के अनुसार तेंदूपत्ता तुड़ाई में मेहनत ज्यादा करनी पड़ती है। जंगल में कीड़े-कांटों के भय के अलावा पेड़ से गिरने का खतरा रहता है। मांगीबाई, भैरुलाल लोधा और घनश्याम गुर्जर ने बताया कि ठेकेदार द्वारा तेंदूपत्ते की 100 गड्डियों के 100 रुपए मिलते हैं। कन्या बाई महेश कुमार ने कहा कि लॉकडाउन में सब काम, दिहाड़ी मजदूरी बन्द होने के बाद इस काम से हुई कमाई से विपदा के समय राहत मिली।
प्रकृति ने दियाविपदा में साथ
कोरोना वायरस से पैदा हुए विपरीत हालात में प्रकृति ने साथ दिया। वनसंपदा तुड़ाई के टेंडर से एक ओर वनविभाग को लाखों रुपए की आय हुई। वहीं तेंदूपत्ते से आमजन को प्राप्त राशि से घरेलू खर्च चलाने में मदद मिली।
बाहर से आ रहे लोगों से ग्रामीणों में डर
मंडावर. ग्राम पंचायत गोरधनपुरा में तेंदूपत्ता की तुड़ाई के लिए बाहर के लोग प्रवेश कर रहे हैं। गुजरात, मध्य प्रदेश, टोंक के लोग आ-जा रहे हैं। इसके कारण गांव में कोरोना जैसी घातक बीमारी फेलने की संभावना है। इस कारण ग्राम वासियों में नाराजगी है। सरपंच भूरी बाई ने बताया कि सभी की सेहत की जांच होनी चाहिए।
ये मिला राजस्व
क्षेत्रीय वन अधिकारी राजेंद्र कुमार मीणा ने बताया कि तेंदूपत्ता तुड़ाई के टेंडर से विभाग को आय हुई। वहीं कोरोना में ग्रामीणों को रोजगार मिल गया।
बैरागढ़ ईकाई 1,20000
पाटलिखेड़ा ईकाई 1,25000
टेकली ईकाई 1,55000
रिंछवा ईकाई 1, 65000 रुपए का राजस्व मिला।


दुकानें खुली पर नहीं आ रहे उपभोक्ता
झालरापाटन. राजस्थान सरकार व जिला प्रशासन के नियम व शर्तों के साथ नगर में बाजार खोलने की अनुमति दी है। जिसके तहत दूसरे दिन भी सभी बाजार खुले।
सभी जगह लॉकडाउन के चलते बाजार में ग्राहकों के नहीं आने से व्यापारी परेशान है। व्यापारियों का कहना है कि कोरोना संक्रमण का हर तरफ खौफ होने के साथ ही यातायात के साधनों के नहीं चलने सेे बाजार में आस पास के क्षेत्र सेे ग्राहक नहीं आ रहे है। अभी यहां पर दोपहर 1 बजे तक दुकानें खुलने से स्थानीय लोगों की घरेलू व आवश्यक जरूरत पूर्ति के सामानों की बिक्री हो रही है। अन्य दुकानों पर ग्राहकी बिल्कुल नहीं होने से दुकानदार हाथ पर हाथ धरे बैठे हंै। सर्राफा व्यापारियों ने बताया कि सोने के दाम 50 हजार रुपए प्रति तौला होने से ग्राहक भाव पूछ कर चला जाता है। शादी विवाह व अन्य सभी मांगलिक कार्यक्रम बंद रहने सेे इस समय हर ग्राहक अपनी विशेष जरूरत के सामान ही खरीद रहा है।
व्यापरियों का कहना है कि जब तक हालात सामान्य नहीं हो जाते तब तक व्यापार मंदा ही रहेगा। कपड़ा व रेडिमेड दुकानदारों ने बताया कि हर वर्ष इस समय उनके यहां ईद की ग्राहकी जबरदस्त चलती है, लेकिन इस बीमारी सेे हर कोई मेें मायुसी रहने सेे त्यौहार के प्रति उत्साह नहीं होने के कारण ग्राहकी बिल्कुल नहीं है।
दोपहर 2 बजे तक खुलेंगी दुकानें
जिला प्रशासन नेे व्यापारिक संगठनों की पहल पर नगर में दुकानें खोलनेे के समय मेें एक घंटा और बढ़ा दिया है। व्यापार सेवा समिति अध्यक्ष विजय मेहता, नगर कांग्रेस अध्यक्ष चन्द्रप्रकाश लाला राठौर, भाजपा मंडल अध्यक्ष महेश बटवानी, चन्द्रावती ग्रोथ सेन्टर इंडस्ट्रीज एसोशिएशन अध्यक्ष राजेन्द्र शर्मा, व्यापार संघ सचिव चेतन नामदेव, भाजपा व्यापार प्रकोष्ठ जिलाध्यक्ष अशोक मेहता, कांग्रेस जिला उद्योग एवं व्यापार प्रकोष्ठ जिलाध्यक्ष विक्रम राय कुमावत, गोविन्द सोनी की अगुवाई में प्रतिनिधिमंडल ने गुरुरवार को उपखंड अधिकारी हरबिन्दर सिंह ठिल्लन व पुलिस उप अधीक्षक गोविन्दसिंह बारहट से मुलाकात की।
सर्वसम्मति से निर्णय
प्रतिनिधियों ने उन्हें बताया कि सरकार की गाइडलाइन के अनुसार व्यापारियों ने दुकानें खोलने के लिए सुबह 7 से शाम 7 बजे तक की अनुमति मांगी थी, लेकिन आमजन के स्वास्थ्य की परवाह करते हुए सर्वसम्मति से व्यापार का समय सुबह 7 सेे दोपहर 2 बजे तक और 2.30 बजे तक घर जाने के समय का प्रस्ताव रखा, इसपर सभी के बीच सहमति होने के साथ ही शुक्रवार से इसे लागू करने का निर्णय किया।
बाजार हो जीरो मोबिलिटी से मुक्त
प्रतिनिधि मंडल सदस्यों ने मुख्य बाजार को जीरो मोबिलिटी क्षेत्र से मुक्त करने की भी मांग रखी। जिसके लिए प्रशासन ने दो दिन में विचार कर जवाब देने की जानकारी दी। प्रशासन ने प्रतिनिधि मंडल को सभी व्यापारियों को नियमों की पालना के साथ व्यापार करने की सलाह दी।

recession
arun tripathi Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned