झालावाड़ के यह बूथ दोनों दलों के नेताओं की भरते है झोली, इस बार क्या होगा...

झालावाड़ के यह बूथ दोनों दलों के नेताओं की भरते है झोली, इस बार क्या होगा...

Hari Singh Gujar | Publish: Sep, 04 2018 04:13:35 PM (IST) Jhalawar City, Jhalawar, Rajasthan, India

सियासी बिसात बिछी : जाने झालावाड़ में कांग्रेस व भाजपा के बूथों की स्थिति

- जिले में हर विधानसभा चुनाव 2013 में दस बूथ के आंकड़ों से जाने दोनों दलों की स्थिति

...

 

हरिसिंह गुर्जर
झालावाड़.राजस्थान में चुनावी बिसात बिछ चुकी है। दोनों दलों के बड़े नेता राजनीति में सक्रिय हो गए हैं। वहीं कार्यक्रताओं को भी जिम्मेदारियां सौंपी जा चुकी है। दोनों दलो ने जिन बूथों पर कमजोर स्थिति थी, उन पर पूरा एड़ी चोंटी का जोर लगा दिया है। तो कार्यकर्ताओं को उस बूथ में आने वाले मतदाताओं को हर हाल में रिझाने की जिम्मेदारी दे दी गई है। दोनों दल कौनसे बूथ में कमजोर रहे, कहां अच्छी लीड मिली थी, इसका विश्लेषण करने में जुटे हुए है।
जिले में चारों विधानसभा क्षेत्रों में विधानसभा चुनाव 2013 में दोनों दलों की बूथवार स्थिति क्या रही है, इसका तुलनात्मक विश्लेषण किया है। जानकारों ने बताया कि इन बूथों में पहले और अब की स्थिति में रात-दिन का अंतर आया है। कहीं काम हुए तो कहीं अभी भी काम के इंतजार में मतदाता बैठे हैं। वहीं दोनों दलों के अपने-अपने दावे हैं। एक दल दूसरे दल पर आरोप लगा रहा है, कि जनता को बर्गलाकर पहले चुनाव जीत गए, वहीं दूसरा दल फिर से काम के बदले वापस इन बूथों पर विजय होने का दावा कर रहा है। लेकिन यह तो समय ही बताएंगा कि भविष्य में ऊंट किस ओर बैठेगा...
2008 में नहीं था ऐसा-
दोनों दलों को 2013 में जिन बूथों पर बढ़त मिली है, उस समय प्रत्याशी दूसरा होने से इन बूथ के बढ़त के आंकड़े कहीं ज्यादा तो कहीं कम थे। 2013 में जनता ने सरकार बदलने का मानस बनाया तो आंकड़ों में अंतर आया। वहीं भाजपा के लिए अब मुश्किल यह है कि किसान फसलों को लेकर,युवा रोजगार, तो कर्मचारी सातवें वेतनमान सहित कई मांगों को लेकर आए दिन धरने व प्रदर्शन कर रहे हैं, तो कांग्रेस के लिए यह परीक्षा की घड़ी होगी की क्या वह इन परेशानियों का समाधान कर पाएगी। अब आने वाले चुनाव में कौन प्रत्याशी होगा, पर्टियां कैसे उम्मीदवारों को उतारती है, उस पर भी बुहत कुछ निर्भर करेगा। हालांकि दोनों दलो के नेताओं की विधानसभारवार सक्रियता नजर आ रही है।

जिले में बूथों के यह रहेंगे प्रमुख मुद्दे:-
- बेरोजगारी की परेशानी, जिले में कोई बड़ा उद्योग नहीं खुला
-जिले में 2016 खरीफ की फसलो का मुआवजा अभी तक नहीं मिला।
- रबी फसलों में लहसुन के टोकन कटने के बाद अभी तक तुलाई नहीं हुई
-बांधों में डूब क्षेत्र में आई जमीन का मुआवजा कई लोगों को नहीं मिला।
-राजकीय महाविद्यालय जरुर खुले, लेकिन कहीं भी संसाधन नहीं पर्याप्त नहीं मिले।
- ग्रामीण क्षेत्रों में अभी कई क्षेत्रों में पेयजल की परेशानी झेल रहे हैं ग्रामीण।

यह स्थिति थी जिले में विधानसभा :2013 में
किन पांच-पांच बूथों पर सबसे ज्यादा वोट किसे मिले...
डग विधानसभा-

भाजपा प्रत्याशी रामचन्द्र
बूथ सं. मत मिले
249 756
100 729
102 724
113 718
243 712

कांग्रेस प्रत्याशी- मदनलाल
43 621
69 613
119 583
214 583
68 506

झालरापाटन विधानसभा
भाजपा प्रत्याशी- वसुन्धराजे

बूथ सं. मत मिले
152 834
206 821
80 782
101 745
70 725

भाजपा प्रत्याशी- मिनाक्षी चन्द्रावत
165 637
39 590
37 545
132 489
234 468
विधानसभा-खानपुर
भाजपा प्रत्याशी- नरेन्द्र नागर

बूथ सं. मत मिले
153 920
181 705
249 688
68 663
164 662

कांग्रेस प्र्रत्याशी - संजय गुर्जर
61 565
206 499
27 452
42 399
72 394

विधानसभा- मनोहरथाना
भाजपा प्रत्याशी -कंवरलाल मीणा
बूथ सं. मत मिले
63 763
58 616
264 609
20 448
21 445

कांग्रेस प्रत्याशी- कैलाश मीणा
234 476
19 473
102 445
229 441
121 404


यह बोले जिलाध्यक्ष-
1.हमने उन गंवों में जाकर संपर्क किया है, लोग बहकावे में आ गए थे, वर्कर तैयार है,प्रत्येक बूथ पर हमारे पांच-पांच कार्यकर्ता तैयार है। हर विधानसभा में कमेटियां तैयार हैं। जो बूथ कमजोर है, उन पर मेहनत कर रहे हैं। 2008 में हमारी अच्छी स्थिति थी, कुछ कमियंा 2013 में रही है उन्हें दूर कर रहे हैं। अब जनता परेशान हो चुकी है, बदलाव चाहती है।
कैलाश मीणा, जिलाध्यक्ष कांग्रेस पार्टी,झालावाड़

2.जिले में चारों विधानसभाओं में कमजोर बूथों को एबीसीडी चार केटेगरी में विभक्त कर 21-21 लोगों की समिति बनाई है। वह प्रत्येक बूथ पर जाकर लोगों की समस्याएं सून रहे हैं। जो भी परेशानियां आ रही है, उन्हें दूर करने का प्रयास कर हैं। बूथ लिस्ट के अनुसार पन्ना प्रमुख बनाकर उसमें आ रहे मतदाताओं की जिम्मेदारी दी गई है। सरकार के कामों को जनता को बता रहे हैं। इसी आधार पर फिर से इन बूथों में विजय होंगे।
संजय जैन, भाजपा जिलाध्यक्ष, झालावाड़।

3.सरकार ने 15 लाख लोगों को रोजगार मुहैया कराने की बात कही थी, लेकिन कहीं नजर नहीं आ रहा है। अब युवा रोजगार मुहैया कराने वाली सरकार का ही चयन करेंगे। समान काम के लिए समान वेतन निजी संस्थाओं में भी लागू होना चाहिए।
पुष्पेन्द्र सिंह,युवा मतदाता, झालावाड़

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned