1 लाख 12 हजार परिवारों ने कराया रजिस्ट्रेशन, इन्हें हर साल पांच लाख तक का इलाज फ्री

1 लाख 12 हजार परिवारों ने कराया रजिस्ट्रेशन, इन्हें हर साल पांच लाख तक का इलाज फ्री

BK Gupta | Publish: Sep, 10 2018 12:01:01 PM (IST) Jhansi, Uttar Pradesh, India

1 लाख 12 हजार परिवारों ने कराया रजिस्ट्रेशन, इन्हें हर साल पांच लाख तक का इलाज फ्री

झांसी। समाज के वंचित वर्गों, दिव्यांगों, बेसहारा और आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं निशुल्क उपलब्ध कराने के उद्देश्य से केंद्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा आयुष्मान भारत योजना में प्रति परिवार प्रति परिवार पांच लाख रुपये तक की चिकित्सा सेवाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। इसके लिए झांसी जिले में करीब एक लाख बारह हजार परिवारों ने पंजीकरण कराया है। इनके सभी सदस्यों को पूरे वर्ष में पांच लाख रुपये तक का उपचार मुफ्त दिया जा सा सकेगा।
यहां उपलब्ध होंगी स्वास्थ्य सेवाएं
स्वास्थ्य विभाग के अपर निदेशक ने बताया कि केंद्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा समाज के सभी जरूरतमंद व्यक्तियों तक स्वास्थ्य सेवाओं की पहुंच बनाने के लिए आयुष्मान भारत योजना का 25 सितंबर को प्रधानमंत्री द्वारा शुभारंभ किया जाएगा। इस योजना में पात्र परिवारों को प्रतिवर्ष पांच लाख रुपये की अधिकतम सीमा तक चिकित्सा सेवाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। ये चिकित्सा सेवाएं पात्र परिवारों में जिला चिकित्सालय, जिला महिला चिकित्सालय के साथ ही जिले के सभी आठ ब्लाकों में स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों सहित कुछ चिह्नित निजी चिकित्सालयों के माध्यम से प्रदान की जाएंगी।
प्राइवेट हास्पिटल्स को शामिल करने की तैयारी
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा.सुशील प्रकाश का कहना है कि जिला चिकित्सालय, जिला महिला चिकित्सालय और सभी ब्लाक स्तरीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों का पंजीकरण किए जाने के बाद अब निजी चिकित्सालयों को भी इसमें शामिल करने की तैयारी की जा रही है। झांसी में अब तक तीन निजी चिकित्सालयों द्वारा आवेदन किया जा चुका है। आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत जिले में नोडल अधिकारी डा.महेंद्र वर्ममा के नेतृत्व में जिला क्रियान्वयन यूनिट के माध्यम से सभी चिकित्सा इकाइयों पर पात्र व्यक्तियों तक लाभ पहुंचाने के कार्य की निगरानी की जाएगी।
ऑनलाइन करें पंजीकरण
नोडल अधिकारी डा. महेंद्र वर्मा का कहना है कि अस्पताल संचालक विभागीय साइट abnhpm.gov.in पर ऑनलाइन पंजीकरण कर सकते हैं। इसमें उन्हें पंजीकरण लाइसेंस के साथ अन्य संसाधन व स्वास्थ्य कर्मियों का विवरण भी देना होगा।
आयुष्मान मित्र भी अनिवार्य
राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के जिला कार्यक्रम प्रबंधक ऋषिराज सिंह ने बताया कि योजना में पंजीकृत निजी केंद्र पर एक आयुष्मान मित्र भी तैनात रहेगा। जो इस योजना के लिए आए मरीजों की सूची से मिलान कर उन्हें बेहतर सेवाएं दिलाने में सहयोग करेंगे।

Ad Block is Banned