'अधिकारी काम करें या सजा को तैयार रहे, 17 सितंबर को आ सकते हैं मुख्यमंत्री'

'अधिकारी काम करें या सजा को तैयार रहे, 17 सितंबर को आ सकते हैं मुख्यमंत्री'

Brij Kishore Gupta | Publish: Sep, 07 2018 05:50:12 PM (IST) Jhansi, Uttar Pradesh, India

'अधिकारी काम करें या सजा को तैयार रहे, 17 सितंबर को आ सकते हैं मुख्यमंत्री'

झांसी। जिले के प्रभारी मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह उर्फ मोती सिंह ने कहा कि 17 सितंबर को मुख्यमंत्री की प्रस्तावित बैठक है। इसलिए अधिकारी शासन की प्राथमिकता वाली योजनाओं को समय से व गुणवत्ता के साथ पूरा करें, अन्यथा सजा भुगतने के लिए तैयार रहें। उन्होंने अधिकारियों से अपनी योजनाओं की समीक्षा कर लेने को भी कहा। वह यहां विकास भवन सभागार में विकास कार्यों के साथ ही मुख्यमंत्री की प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों के विकास की समीक्षा कर रहे थे।

विद्युत अफसरों को कसा

प्रभारी मंत्री ने बैठक में विद्युत विभाग के अधिकारियों को आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि जो गांव संतृप्त हो गए हैं, उनकी सूची दें। जांच करेंगे। यदि कमी मिलेगी तो आन स्पॉट कार्रवाई की जागी। उन्होंने विद्युत दुर्घटना के क्लेम लंबित रहने पर भी चिंता जाहिर की और निर्देश दिए कि नवंबर 2018 तक अंतिम व्यक्ति तक विद्युत आपूर्ति किए जाने का लक्ष्य है। उसी के अनुसार कार्य योजना बनाते हुए कार्य पूर्ण किए जाएं। उन्होंने कहा कि आयुष्मान योजना यदि पूर्ण नहीं होगी, तो कार्रवाई की जाएगी।

गलत कार्य करने वालों पर कार्रवाई करें

बैठक में स्वच्छ भारत मिशन की समीक्षा में प्रभारी मंत्री ने कहा कि गलत कार्य करने वालों के खिलाफ कार्रवाई अवश्य की जाए। उन्हें बचाया न जाए। गरौठा विधायक जवाहर लाल राजपूत द्वारा शौचालय निर्माण की शिकायतों की जांच करने को कहा। विद्याथ ने ग्राम बिजौरा के प्रधान द्वारा सीसी सड़क का पैसा निकाल लेने के बाद कार्य न कराए जाने की शिकायत की। मंत्री ने जांच कर प्रधान के खिलाफ नियमतः कार्रवाई करने के आदेश दिए।

पहूज नदी के पुनः सीमांकन के निर्देश

इस मौके पर प्रभारी मंत्री ने पहूज नदी के सीमांकन का पुनः सर्वेक्षण करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा क जो अवैध निर्माण है, उस पर जेडीए द्वारा कार्रवाई की गई है। इसके साथ ही अब यदि मानचित्र पास किया जाए, तो पहूज नदी की बाढ़ को भी संज्ञान लिया जाए, ताकि कोई नुकसान न हो।

Ad Block is Banned